मोदी जी ये पीएम केयर फंड “खाऊंगा और खाने दूंगा” जैसा क्यों है ?

Modi in Gamchha

रायपुर/11 मई 2020। कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में कोरोना से लड़ने के लिए मिली हुई राशि के विवरण सार्वजनिक कर दिया है। कितनी राशि खर्च की गई है और राशि को कहां खर्च किया गया है यह भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सार्वजनिक कर दिया है।

श्री त्रिवेदी ने कहा है कि मोदी जी तो कहते थे ना खाऊंगा ना खाने दूंगा फिर पीएम केयर फंड खाऊंगा और खाने दूंगा जैसा क्यों है ? पीएम केयर फंड के गठन के समय से ही इसमें पारदर्शिता नहीं बरती गई। गठन के बाद मोदी सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि पीएम केयर फंड का सीएजी द्वारा ऑडिट नहीं कराया जाएगा, बल्कि इसका ऑडिट निधि अंकेक्षकों के द्वारा किया कराया जायेगा। जिस तरह से अचानक पीएम केयर फंड का गठन किया गया और इसे सीएजी के ऑडिट से मुक्त रखा गया है उससे इसमें गड़बड़ी की आशंका है लगातार उत्पन्न हो रही है।

Shailesh Nitin Trivedi
Shailesh Nitin Trivedi

कांग्रेस संचार विभाग प्रमुख ने कहा कि देश के मुखिया का सब अनुसरण करते हैं लेकिन अब समय आ गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का अनुसरण करते हुए पीएम केयर में जमा हुई राशि और उसके खर्च का हिसाब देश के सामने रखें। पैसा कहां से आया है और कहां गया है यह जानने का अधिकार देश की जनता को है। खासकर तब जब प्रधानमंत्री राहत कोष से अलग एक नया कोष पीएम केयर फण्ड बनाया गया है ? कोरोना महामारी फैलने के बाद यह फंड क्यों बनाया गया कैसे बनाया गया और इसका उपयोग किस तरह से हो रहा है यह देश को जानने का अधिकार है।

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें