मोदी जी ये पीएम केयर फंड “खाऊंगा और खाने दूंगा” जैसा क्यों है ?

रायपुर/11 मई 2020। कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में कोरोना से लड़ने के लिए मिली हुई राशि के विवरण सार्वजनिक कर दिया है। कितनी राशि खर्च की गई है और राशि को कहां खर्च किया गया है यह भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सार्वजनिक कर दिया है।

श्री त्रिवेदी ने कहा है कि मोदी जी तो कहते थे ना खाऊंगा ना खाने दूंगा फिर पीएम केयर फंड खाऊंगा और खाने दूंगा जैसा क्यों है ? पीएम केयर फंड के गठन के समय से ही इसमें पारदर्शिता नहीं बरती गई। गठन के बाद मोदी सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि पीएम केयर फंड का सीएजी द्वारा ऑडिट नहीं कराया जाएगा, बल्कि इसका ऑडिट निधि अंकेक्षकों के द्वारा किया कराया जायेगा। जिस तरह से अचानक पीएम केयर फंड का गठन किया गया और इसे सीएजी के ऑडिट से मुक्त रखा गया है उससे इसमें गड़बड़ी की आशंका है लगातार उत्पन्न हो रही है।

Shailesh Nitin Trivedi

कांग्रेस संचार विभाग प्रमुख ने कहा कि देश के मुखिया का सब अनुसरण करते हैं लेकिन अब समय आ गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का अनुसरण करते हुए पीएम केयर में जमा हुई राशि और उसके खर्च का हिसाब देश के सामने रखें। पैसा कहां से आया है और कहां गया है यह जानने का अधिकार देश की जनता को है। खासकर तब जब प्रधानमंत्री राहत कोष से अलग एक नया कोष पीएम केयर फण्ड बनाया गया है ? कोरोना महामारी फैलने के बाद यह फंड क्यों बनाया गया कैसे बनाया गया और इसका उपयोग किस तरह से हो रहा है यह देश को जानने का अधिकार है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations