Home » Latest » कोरोना से लड़ने का मोदी का संदेश जुमलेबाजी के सिवा कुछ नहीं, राजनैतिक दिवालियेपन की निशानी : माकपा
CPIM

कोरोना से लड़ने का मोदी का संदेश जुमलेबाजी के सिवा कुछ नहीं, राजनैतिक दिवालियेपन की निशानी : माकपा

Modi’s message to fight Corona is a sign of political insolvency: CPI-M

रायपुर 20 मार्च 2020. मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने कोरोना से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के सरकारी संदेश को राजनैतिक दिवालियेपन की निशानी बताते हुए कहा है कि केंद्र सरकार ने देश की जनता को उसके हाल पर ‘संकल्प और संयम’ के भरोसे छोड़ दिया है और उससे ‘थाली और ताली पिटवाने’ का गैर-वैज्ञानिक काम करवाना चाहती है।

This epidemic in the country is going to reach the third phase of community transmission

माकपा ने कहा है कि यह वही सरकार है, जिसने लगातार स्वास्थ्य बजट में बड़ी कटौती की है और जिसमें एम्स के आबंटन में इस वर्ष 100 करोड़ रुपयों की कटौती भी शामिल है। जब देश में यह महामारी कम्युनिटी ट्रांसमिशन के तीसरे चरण में पहुंचने जा रही है और पूरी दुनिया इससे निपटने के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं को बहाल करने और इससे प्रभावित लोगों के लिए आर्थिक पैकेज की घोषणा कर रही है, मोदी के संदेश में आम जनता को जमीनी मदद करने के बजाए, बतकही और जुमलेबाजी के सिवा कुछ नहीं है।

आज यहां जारी एक बयान में माकपा राज्य सचिवमंडल ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का संदेश भी इन्हीं अर्थों में निराशाजनक है, जहां इस महामारी से लड़ने के लिए मुकाबले की बतकही तो है, लेकिन इसके लिए जरूरी सैनिटाइजर, मास्क और साबुन के घोर किल्लत और उसकी कालबाजारी पर चुप्पी छाई हुई है। इस महामारी से निपटने राज्य सरकार जिस तरह के कदम उठाने का ढिंढोरा पीट रही है और पुलिस प्रशासन रेहड़ी-पटरी पर रोजाना कमाने-खाने वालों और छोटे दुकानदारों पर टूट पड़ा है, उससे आम जनता में दहशत का वातावरण बन गया है और बाजार में अफरा-तफरी फैलने और रोजमर्रा की आवश्यक वस्तुओं के अभाव के साथ ही कालाबाजारी भी शुरू हो गई है।

माकपा राज्य सचिव संजय पराते ने प्रदेश के एकमात्र पॉजिटिव मामले की पहचान उजागर करने का प्रशासन पर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि एम्स का रिकॉर्ड यह बताता है कि संबंधित मरीज की चिकित्सा के मामले में घोर लापरवाही बरती गई है और यह हमारे प्रदेश के बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था की तस्वीर है, जो मुख्यमंत्री की बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के दावे के विपरीत है।

उन्होंने कहा कि इस महामारी का सबसे बड़ा हमला आम जनता की रोजी-रोटी पर हो रहा है, जो ‘घर से काम’ करने में असमर्थ हैं। उनकी आय में गिरावट आने से भुखमरी बढ़ेगी और उनकी प्रतिरोधक क्षमता में गिरावट आएगी, जबकि इस महामारी से लड़ने के लिए शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बनाये रखना बहुत जरूरी है। अतः रोज कमाने-खाने वाले लोगों के आर्थिक नुकसान की भरपाई करना बहुत जरूरी है, ताकि ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ के उपाय को सफल किया जा सके।

माकपा नेता पराते ने मांग की है कि राज्य की कांग्रेस सरकार भी केरल सरकार के 20000 करोड़ रुपयों के आर्थिक पैकेज की तर्ज़ पर प्रदेश के सभी नागरिकों को महीने भर का राशन, बिजली और पानी मुफ्त उपलब्ध करवाए (इस काम के लिए राज्य सरकार के पास अतिरिक्त भंडार है।), असंगठित क्षेत्र के मजदूरों और गरीब किसान परिवारों को एकमुश्त आर्थिक मदद दें, सामाजिक-आर्थिक रूप से कमजोर तबकों को दो माह का अग्रिम अतिरिक्त पेंशन भुगतान करें, मनरेगा में बड़े पैमाने पर काम दें और काम के बदले अनाज योजना शुरू करें तथा सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने के लिए अतिरिक्त आबंटन जारी करें।

उन्होंने कहा कि इन समावेशी कदमों पर अमल करने के लिए राज्य सरकार को आर्थिक पैकेज की घोषणा करनी चाहिए, तभी प्रदेश में कोरोना के हमले का डटकर मुकाबला करने के उपायों पर अमल हो पायेगा।

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …