Home » Latest » जलने तो तैयार है 4.5 हजार वर्ग किलोमीटर से ज्यादा अमेज़न जंगल
Environment and climate change

जलने तो तैयार है 4.5 हजार वर्ग किलोमीटर से ज्यादा अमेज़न जंगल

More than 4.5 thousand km2 (sq km) of Amazon forest is ready to burn

यदि सब कुछ धुएँ में फुंक जाए तो कोविड-19 महामारी के साथ दूर- दूर तक फैले होने की वजह से यह क्षेत्र पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी (Public health emergency) या सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल की स्थिति का सामना कर सकता है

ब्राज़ील, 8 जून, 2020 – अमेज़न में कम से कम 4,500 किमी2 (किलोमीटर वर्ग) का जंगल क्षेत्र, जो ब्राजील के साओ पाउलो शहर से तीन गुना बड़ा है जलने के लिए तैयार है। पिछले वर्ष के पहले चार महीनों में सफाई हुई है उसका नतीजा है कि यह अभी तक जला नहीं है। जमीन पर यह गिरी हुई सूखी पतियाँ , झाड़ी आदि खुश्क जून के मौसम में आग पकड सकती हैं जैसे कि 2019 में देखा गया था। अगर ऐसा होता है, तो श्वसन समस्याओं के लिए अस्पताल में भर्ती होने की संख्या में काफी वृद्धि हो सकती है, जो इस क्षेत्र की स्वास्थ्य प्रणाली पर और दबाव डालेगा, जो पहले से ही कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित है।

यह चेतावनी सोमवार (जून 8) को अमेज़न एनवायरनमेंटल रिसर्च इंस्टीट्यूटamazon environmental research institute (ipam) (आईपीएएम/IPAM) द्वारा जारी एक तकनीकी नोट में दी गई थी। वैज्ञानिकों की गणना के अनुसार, अनुमानित कटाई किया क्षेत्र जिस तक आग पहुंचने की प्रतीक्षा है 4,500 किमी2 (किलोमीटर वर्ग) है। यदि आने वाले महीनों में वनों की कटाई की गति जारी रहती है, तो लगभग 9,000 किमी2 (किलोमीटर वर्ग) वन राख में बदल सकता है, क्योंकि क्षेत्र में शुष्क काल के आगमन के साथ, कटाई और जलने का सबसे तीव्र मौसम अब शुरू होता है।

“इस साल आग और वनों की कटाई पर अंकुश लगाना न केवल एक पर्यावरणीय सुरक्षा कार्रवाई है, बल्कि एक स्वास्थ्य उपाय भी है,” आईपीएएम (IPAM Amazônia,) से तकनीकी नोट के प्रमुख लेखक, शोधकर्ता पाउलो माओटिनहो ने पुष्टि की। यह चिंता पिछले साल के आंकड़ों पर आधारित है, जब जलने वाले ऐमज़ॉन शहरों ने सबसे अधिक वायु प्रदूषण देखा, 2018 की तुलना में औसतन 53% अधिक चढ़ाई। माओटिनहो ने यह भी विचार किया कि “यदि सार्वजनिक प्राधिकरण वनों की कटाई और आग को रोकने में विफल रहते हैं, तो मानव जीवन का नुकसान महामारी के लिए अनुमानित भविष्यवाणी को पार कर सकता है।” उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि, “एहतियात अब कीवर्ड (महत्तवपूर्ण शब्द) है।”

आमतौर पर, धुएं से भरे साल पूरे क्षेत्र में सैकड़ों लोगों को स्वास्थ्य क्लीनिकों और अस्पतालों में भेजते हैं। यदि 2020 में ऐसा होता है, तो वे कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के कब्जे में बिस्तर पाएंगे।

“आग के मौसम के दौरान, अमेज़न के बड़े क्षेत्रों में आग की वजह से साओ पाउलो शहर के मध्यबिंदु से नीचे के क्षेत्र की तुलना में खराब हवा की गुणवत्ता है। इसका स्वास्थ्य पर एक मजबूत प्रभाव पड़ता है, विशेषकर बच्चों और बुजुर्गों में, जो सबसे कमजोर आबादी हैं।” साओ पाउलो विश्वविद्यालय के एक सहयोगी भौतिकविद्, पाउलो आर्टाक्सो, ने समझाया। “आग और धुंए से पूरे साल भरे वातावरण में , स्वदेशी लोगों के समुदाय इस अस्वस्थ वातावरण में सांस लेने को मजबूर हैं, जो विश्व स्वास्थ्य संगठन के वायु गुणवत्ता मानकों से कहीं अधिक है।”

निर्वनीकरण और ना जले हुए क्षेत्र का कुल 88% ब्राजील के चार राज्यों में केंद्रित है: पारे (42% के साथ), माटो ग्रोसो (23%), रोंडोनिया (13%), और अमज़ोनास (10%)।

अधिक ध्यान से देखने पर, ग्यारह क्षेत्र विशेष चिंता का विषय हैं। क्षेत्रों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए, और कमान/आदेश और नियंत्रण के उपाय किए जाने चाहिए, विशेष रूप से संघीय सरकार द्वारा योजनाबद्ध, साथ ही साथ राज्य सरकारों द्वारा स्वास्थ्य सेवा योजना के लिए।

एक अन्य भूमि उपयोग के लिए जंगल को परिवर्तित करने की प्रक्रिया, जैसे कि चारागाह, में आग अगला कदम है, आईपीएएम में विज्ञान निदेशक, ऐनी अलेंकार बताती हैं, जिन्होंने तकनीकी नोट पर भी हस्ताक्षर कर्ता हैं। “इसलिए, अमेज़न में वनों की कटाई की उच्च दर है सीधे गर्म स्थानों में वृद्धि से संबंधित है। यह हमने 2019 में घटित होते देखा और दुर्भाग्य से, अगर कुछ नहीं किया गया, यह वही है जो हमें 2020 में दिखेगा क्योंकि कटाई उच्च दर पर जारी है।”

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

economic news in hindi, Economic news in Hindi, Important financial and economic news in Hindi, बिजनेस समाचार, शेयर मार्केट की ताज़ा खबरें, Business news in Hindi, Biz News in Hindi, Economy News in Hindi, अर्थव्यवस्था समाचार, अर्थव्‍यवस्‍था न्यूज़, Economy News in Hindi, Business News, Latest Business Hindi Samachar, बिजनेस न्यूज़

भविष्य की अर्थव्यवस्था की जरूरत है कृषि प्रौद्योगिकी स्टार्टअप

The economy of the future needs agricultural technology startups भारत की अर्थव्यवस्था के भविष्य के …