भाजपा के गले में अटक गया मप्र, न उगलते बन रहा न निगलते

मप्र संकट : दिल्ली में भाजपा नेताओं की ताबड़तोड़ बैठकें

MP crisis: quick meeting of BJP leaders in Delhi

नई दिल्ली, 15 मार्च 2020. मध्यप्रदेश विधानसभा में सोमवार को होने वाले कमलनाथ सरकार के शक्ति परीक्षण (Kamal Nath government’s floor test to be held on Monday in Madhya Pradesh Assembly) को देखते हुए दिल्ली में रविवार को राजनीतिक गतिविधि तेज हो गई है।

सुबह से भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के नेताओं की बैठक चल रही है। भाजपा सूत्रों के अनुसार, सबसे पहले केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के घर मध्य प्रदेश भाजपा के बड़े नेताओं की बैठक हुई। इस बैठक में शिवराज सिंह चौहान, ज्योतिरादित्य सिंधिया और केंद्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान शामिल हुए।

सूत्र ने बताया कि इसके बाद ये सभी नेता अमित शाह के घर पहुंचे, लेकिन शाह को कश्मीर से आए एक प्रतिनिधिमंडल से गृह मंत्रालय में मिलना था, लिहाजा यहां नेताओं की संक्षिप्त मुलाकात हुई।

शाह से मुलाकात बाद सभी नेता सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता के घर पहुंचे। माना जा रहा है कि तुषार मेहता के घर मध्यप्रदेश में जारी राजनीतिक हालात के कानूनी पहलुओं पर विचार किया गया। तुषार मेहता के 10 अकबर रोड स्थित आवास पर लगभग एक घंटे बैठक हुई।

सूत्रों के अनुसार, इन नेताओं की एक बार फिर से अमित शाह के घर बैठक हो सकती है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations