Home » Latest » एल्यूमीनियम मिश्र धातु का क्षरण रोकने के लिए नई तकनीक
Science news

एल्यूमीनियम मिश्र धातु का क्षरण रोकने के लिए नई तकनीक

New technology to prevent corrosion of aluminium alloys

माइक्रो-आर्क ऑक्सीकरण क्या है | What is Micro-Arc Oxidation

नई दिल्ली, 09 जून : भारतीय वैज्ञानिकों ने एक पर्यावरण अनुकूल तकनीक विकसित की है, जो वायुयान निर्माण, वस्त्र उद्योग और मोटर वाहन निर्माण कार्यों में व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली उच्च क्षमता वाली एल्युमीनियम मिश्रधातुओं को क्षरण से बचा सकती है। इस प्रक्रिया का नाम माइक्रो-आर्क ऑक्सीकरण (एमएओ) है। स्वच्छ औद्योगिक प्रक्रियाओं की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए एमएओ प्रक्रिया को विकसित किया गया है।

कम घनत्व और उच्च विशिष्ट शक्ति के कारण एल्युमीनियम मिश्रधातुओं का उपयोग वायुयान निर्माण (एयरोस्पेस), वस्त्र उद्योग और मोटर वाहन निर्माण कार्यों में बड़े पैमाने पर होता है। एल्युमीनियम मिश्रित धातु का उपयोग वायुयान निर्माण में लैंडिंग गियर, विंग स्पर, और विमान का मुख्य ढाँचा, प्रेशर केबिन आदि बनाने में होता है। इन कलपुर्जों को टूट-फूट और जंग से होने वाले नुकसान तथा जीवनकाल से अधिक समय तक उपयोग के चलते प्रतिरोध की आवश्यकता होती है।

एल्युमीनियम मिश्रधातुओं को जंग लगने से बचाने के लिए अधिकतर हार्ड एनोडाइजिंग (एचए) प्रक्रिया अपनायी जाती है, जिसके अंतर्गत इस मिश्रधातु पर एक इलेक्ट्रोलाइट-आधारित कोटिंग की जाती है। इसमें सल्फ्यूरिक/ऑक्सेलिक आधारित इलेक्ट्रोलाइट्स का प्रयोग करना शामिल हैं, जो न केवल जहरीले धुएं का उत्सर्जन करते हैं, बल्कि प्रसंस्करण के दौरान उनको संभालना भी जोखिम भरा होता है। इसके साथ ही यह वायु को प्रदूषित भी करता है। यह तकनीक इन चुनौतियों से निजात दिला सकती है।

माइक्रो-आर्क ऑक्सीकरण (एमएओ) एक उच्च-वोल्टेज पर संचालित की जाने वाली एनोडिक-ऑक्सीकरण प्रक्रिया है, जो एक विद्युत रासायनिक विधि के माध्यम से धातु सब्सट्रेट पर ऑक्साइड फिल्म बनाती है। अंतरराष्ट्रीय उन्नत अनुसंधान केंद्र (एआरसीआई) टीम ने शॉट पीनिंग के लिए एक डुप्लेक्स ट्रीटमेंट को डिजाइन व विकसित किया है, जिसके अंतर्गत धातुओं और मिश्रधातुओं के यांत्रिक गुणों को संशोधित करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली प्रक्रिया अपनायी जाती है, और उसके बाद उन पर माइक्रो-आर्क ऑक्सीकरण कोटिंग की जाती है।

अंतरराष्ट्रीय उन्नत अनुसंधान केंद्र (एआरसीआई) में हुई जांच से पता चला है कि डुप्लेक्स ट्रीटमेंट के बाद एमएओ कोटिंग करने से एल्युमीनियम मिश्रधातु से बने उपकरणों की टूट-फूट कम होने के साथ ही उनका क्षरण के प्रति प्रतिरोध भी बढ़ा है, और उनका जीवनकाल भी उल्लेखनीय रूप से अधिक हो गया है। डुप्लेक्स ट्रीटमेंट को विभिन्न एल्युमीनियम मिश्रित धातुओं के लिए भी प्रभावी बताया गया है।

माइक्रो-आर्क ऑक्सीकरण (एमएओ) नामक इस तकनीक को भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के अंतर्गत स्वायत्त संगठन अंतरराष्ट्रीय उन्नत अनुसंधान केंद्र (एआरसीआई) ने विकसित किया है। एआरसीआई में विकसित एमएओ प्रक्रिया को भारत और विदेशों में पेटेंट कराया गया है। एआरसीआई के शोधकर्ताओं को माइक्रो-आर्क ऑक्सीकरण (एमएओ) प्रणाली की प्रयोगशालाओं के डिजाइन और विकास में महारत हासिल है।  

(इंडिया साइंस वायर)

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

shahnawaz alam

ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर सर्वे : मीडिया और न्यायपालिका के सांप्रदायिक हिस्से के गठजोड़ से देश का माहौल बिगाड़ने की हो रही है कोशिश

फव्वारे के टूटे हुए पत्थर को शिवलिंग बता कर अफवाह फैलायी जा रही है- शाहनवाज़ …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.