Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » रात भर आज रात का जश्न चलेगा.. सुरूर भरी आँखों वाली शब जब देखेगी उजाला
Welcome New Year 2020

रात भर आज रात का जश्न चलेगा.. सुरूर भरी आँखों वाली शब जब देखेगी उजाला

उफ़्फ़ दिसम्बर की बहती नदी से बदन पर लोटे उड़ेलने की उलैहतें ..

इकतीस है हर साल की तरह फिर रीस है ..

घाट पर ख़ाली होगा ग्यारह माह के कबाड़ का झोला ..

साल फिर उतार फेंकेगा पुराने साल का चोला ..

जश्न के वास्ते सब घरों से छूट भागेंगे ..

रात के पहर रात भर जागेंगे ..

दिसम्बरी घाट पर अलाव बलेगा ..

रात भर आज रात का जश्न चलेगा ..

सुरूर भरी आँखों वाली शब जब देखेगी उजाला

समझेगी साल ने सचमुच सब कुछ बदल डाला ..

पैबंद लगी हँसी से सब मुस्करायेंगे

फिर झूठ पर झूठ का मुलम्मा चढ़ायेंगे…

डॉ. कविता अरोरा

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.  

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Mother of Palash Biswas

डॉ. ने गलती से बदंर की नाड़ी भाभी को लगा दिया

पलाश विश्वास मां की पुण्यतिथि है। भाई पद्दोलोचन ने एक कविता लिखी है मेरी माँ …

Leave a Reply