Home » Latest » इंसुलिन प्रतिरोध से बढ़ता है स्ट्रोक का खतरा : नया अध्ययन

इंसुलिन प्रतिरोध से बढ़ता है स्ट्रोक का खतरा : नया अध्ययन

नए अध्ययन में पाया गया कि सबसे कम इंसुलिन प्रतिरोध (उच्चतम ईजीडीआर) वाले लोगों में उच्च इंसुलिन प्रतिरोध वाले लोगों की तुलना में स्ट्रोक होने की संभावना 40 प्रतिशत कम थी।

Insulin resistance and risk of first stroke in type 2 diabetes: a nationwide cohort study

मधुमेह के अध्ययन के लिए यूरोपियन एसोसिएशन फॉर द स्टडी ऑफ डायबिटीज (European Association for the Study of Diabetes) (ईएएसडी) की की 57वीं वार्षिक बैठक में टाइप 2 मधुमेह (टी2डी) से पीड़ित 100,000 से अधिक लोगों के एक अध्ययन के अनुसार, इंसुलिन प्रतिरोध स्ट्रोक से जुड़ा हुआ है।

इंसुलिन प्रतिरोध कब होता है? When does insulin resistance occur?

इंसुलिन प्रतिरोध तब होता है जब शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन के लिए ठीक से कम नहीं करती हैं और आसानी से रक्त से ग्लूकोज नहीं ले पाती हैं। टी 2 डी की एक प्रमुख विशेषता और स्तर रोगी से रोगी में भिन्न होता है।

इंसुलिन प्रतिरोध का स्ट्रोक से संबंध (Relationship of insulin resistance to stroke)

इंसुलिन प्रतिरोध जितना अधिक होगा, स्ट्रोक का खतरा उतना ही अधिक होगा।

 स्वीडन में करोलिंस्का इंस्टीट्यूट, गोथेनबर्ग विश्वविद्यालय और राष्ट्रीय मधुमेह रजिस्ट्री में एक संयुक्त टीम के नेतृत्व में किए गए अध्ययन से इसका खुलासा हुआ है।

टीम ने इंसुलिन प्रतिरोध के उपाय के रूप में अनुमानित ग्लूकोज (ईजीडीआर) का इस्तेमाल किया। ईजीडीआर को पहले इंसुलिन प्रतिरोध के लिए एक अच्छा प्रॉक्सी के रूप में दिखाया गया है।

स्वीडन में 104,697 टी2डी रोगियों के ईजीडीआर की गणना के लिए स्वास्थ्य रिकॉर्ड का उपयोग किया गया था। उनका औसतन 5.6 वर्षों तक पालन किया गया, जिसके दौरान 4,201 (4 प्रतिशत) को स्ट्रोक हुआ।

सबसे कम इंसुलिन प्रतिरोध (उच्चतम ईजीडीआर) वाले लोगों में उच्च इंसुलिन प्रतिरोध वाले लोगों की तुलना में स्ट्रोक होने की संभावना 40 प्रतिशत कम थी।

अध्ययन में यह भी पाया गया कि उच्च इंसुलिन प्रतिरोध स्ट्रोक के बाद मृत्यु के उच्च जोखिम से जुड़ा था। सबसे कम प्रतिरोध वाले लोगों की अनुवर्ती अवधि के दौरान सबसे गंभीर इंसुलिन प्रतिरोध वाले लोगों की तुलना में 28 प्रति कम मरने की संभावना थी।

करोलिंस्का इंस्टीट्यूट के अलेक्जेंडर जाबाला (Alexander Zabala) ने कहा, टाइप 2 मधुमेह वाले व्यक्तियों में, कम ईजीडीआर, इंसुलिन प्रतिरोध का एक सरल उपाय, स्ट्रोक और मृत्यु दर के बढ़ते जोखिम से जुड़ा है।

जाबाला ने कहा, ईजीडीआर का इस्तेमाल टी2डी रोगियों को स्ट्रोक और मौत के जोखिम को बेहतर ढंग से समझने और प्रबंधित करने में मदद के लिए किया जा सकता है।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

covid 19

दक्षिण अफ़्रीका से रिपोर्ट हुए ‘ओमिक्रोन’ कोरोना वायरस के ज़िम्मेदार हैं अमीर देश

Rich countries are responsible for ‘Omicron’ corona virus reported from South Africa जब तक दुनिया …

Leave a Reply