Home » Latest » अखिलेश यादव सरकार में हुए सभी दंगों की जाँच कराई जाएगी – शाहनवाज आलम

अखिलेश यादव सरकार में हुए सभी दंगों की जाँच कराई जाएगी – शाहनवाज आलम

1992 के कानपुर दंगों की जांच के लिए गठित माथुर कमीशन की रिपोर्

1992 के कानपुर दंगों की जांच के लिए गठित माथुर कमीशन की रिपोर्ट पर होगी कार्यवाही, मुलायम ने दोषियों पर से हटवाये थे मुकदमे- शाहनवाज आलम

बुनकर और क़ुरैशी समाज को सपा ने ठगा

स्पीक अप माइनॉरिटी #13

लखनऊ, 12 सितंबर 2021. उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी अल्पसंख्यक विभाग द्वारा प्रत्येक रविवार को आयोजित होने वाले स्पीक अप माइनॉरिटी अभियान के 13वें खण्ड में आज वक्ताओं ने पिछले दिनों हुए परिवर्तन संकल्प सम्मेलन में पारित 16 सूत्रीय संकल्पों पर बात की, जिसके निशाने पर सपा की पिछली सरकारें रहीं।

अल्पसंख्यक कांग्रेस प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज आलम ने 16 संकल्पों पर प्रकाश डालते हुए मुख्य रूप से कहा कि 2012 से 2017 के बीच अखिलेश यादव की समाजवादी सरकार में हुए सभी छोटे बड़े दंगों की जांच करा कर सज़ा दी जायेगी।

उन्होंने आरोप लगाया कि अखिलेश यादव सरकार में फ़ैज़ाबाद के भेलसर, भदरसा, रुदौली में हुए दंगे के आरोपियों के खिलाफ़ सिर्फ़ इसलिए कार्यवाई नहीं की गयी कि अधिकतर आरोपी अखिलेश यादव के सजातीय थे।

अपने वक्तव्य में प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज आलम ने कहा कि इसी तरह मुलायम सिंह यादव ने मुख्यमन्त्री रहते हुए 23 दिसंबर 1994 को पत्र लिख कर कानपुर के दंगों के दोषियों पर से मुकदमा हटा लेने का आदेश दिया था, जबकि उस दंगे में 254 लोग मारे गए थे। यहाँ तक कि उस दंगे की जाँच के लिए गठित जस्टिस माथुर कमिशन की रिपोर्ट पर भी भी कार्यवाई नहीं की और दोषी अधिकारियों को डीजीपी तक बनाया गया।

शाहनवाज़ आलम ने कहा कि कांग्रेस उस रिपोर्ट पर कार्रवाई कर 254 मृतकों को इंसाफ दिलायेगी।

शाहनवाज आलम ने स्पीक अप माइनॉरिटी पर अपनी बात रखते हुए स्पष्ट किया कि सपा सरकार में बंद की गई सभी टेनरियों को दुबारा शुरू किया जाएगा और लाइसेंस प्रक्रिया को आसान किया जाएगा।

उन्होंने सपा पर बुनकर और क़ुरैशी समाज को धोखा देने का आरोप लगाते हुए कहा कि सपा के लिए पिछड़े मतलब सिर्फ़ एक जाति थी।

उन्होंने पसमांदा तबकों के विकास के लिए अलग से पसमांदा आयोग के गठन की भी बात की।

उक्त जानकारी उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी अल्पसंख्यक विभाग के प्रवक्ता चौधरी सलमान क़ादिर द्वारा दी गई।

Read more

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

entertainment

कोरोना ने बड़े पर्दे को किया किक आउट, ओटीटी की बल्ले-बल्ले

Corona kicked out the big screen, OTT benefited सिनेमाघर बनाम ओटीटी प्लेटफॉर्म : क्या बड़े …

Leave a Reply