Home » Latest » जनता के पैसे की बर्बादी कर स्वयं अपनी पीठ ठोक रही भाजपा सरकार : डॉ राकेश सिंह राना

जनता के पैसे की बर्बादी कर स्वयं अपनी पीठ ठोक रही भाजपा सरकार : डॉ राकेश सिंह राना

हाथरस, 25 सितंबर 2021. समाजवादी पार्टी के पूर्व एमएलसी डॉ राकेश सिंह राना ने कहा है कि सरकार सरकारी सम्पतियों को बेचकर जनता के पैसे की बर्बादी कर स्वयं अपनी पीठ ठोक रही है।

श्री राना जिला हाथरस की विधानसभा क्षेत्र सिकन्दराराऊ के ग्राम गिनोली किशनपुर में आयोजित स्वागत समारोह को संबोधित कर रहे थे।

भारी संख्या में उपस्थित ग्रामवासियों ने पूर्व एमएलसी डॉ राना का बहुत गर्मजोशी से स्वागत किया।

डॉ राना ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार में किसान, मजदूर, छात्र व नौजवान पूरी तरह से परेशान है। किसानों की आय डीजल, बिजली व खाद के दाम बढ़ने से आधी हो गई है और भाजपा सरकार झूठ बोलती रहती है कि किसानों की आय दुगनी हो रही है। किसान एक साल से अपनी मांगों को लेकर दिल्ली में धरना दे रहे हैं, लेकिन हठधर्मी भाजपा सरकार के कान में जूँ भी नही रेंग रही है। सरकार सरकारी सम्पतियों को बेचकर जनता के पैसे की बर्बादी कर स्वयं अपनी पीठ ठोक रही है।

उन्होंने कहा कि सिकन्दराराऊ की सारी सड़कें खस्ता हाल हैं, साढ़े चार साल से कोई विकास नहीं हुआ, जिसका जवाब जनता देगी व समाजवादी पार्टी की सरकार व माननीय अखिलेश यादव जी को मुख्यमंत्री बनाने का काम करेगी।

स्वागत करने वालो में प्रमुख रूप से पूर्व प्रधान रामनिवास यादव, पूर्व प्रधान योगेश कुमार, पूर्व प्रधान दृगपाल दिवाकर,साबिर अली, इशाक मोहम्मद, रवि यादव, अजीत कुमार, संजू, चवराम यादव, नीरेश कालू, महावीर कश्यप, दीनदयाल बघेल, गिरेन्द्र सिंह पुंढीर, संतोष पुंढीर, मुकेश चौहान, संगम चौहान, पुरन दिवाकर, रामवीर दिवाकर, भगवान दास प्रजापति, हरिमोहन यादव, प्रेम शंकर यादव, दूरबीन यादव, विजय सिंह यादव, मुकेश यादव, पीतम्बर कश्यप , चंद्रपाल नेताजी से उपस्थित थे।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …

Leave a Reply