Home » Latest » आज़मगढ़ में दलित पंचायत में जुटे नेता, 6 दिन बाद खत्म हुई भूख हड़ताल

आज़मगढ़ में दलित पंचायत में जुटे नेता, 6 दिन बाद खत्म हुई भूख हड़ताल

आज़मगढ़ में दलित पंचायत

 छह दिन बाद अनिल यादव को जूस पिलाकर नेताओं ने खत्म कराया उपवास

कांग्रेस हर समाज की लड़ाई लड़ने के लिए प्रतिबद्ध है कांग्रेस : अजय लल्लू

छह दिन नहीं 60 दिन की भी भूख हड़ताल करनी होती तो करता, हमारे लिए यह लड़ाई स्वाभिमान की : अनिल यादव

सामाजिक न्याय की धरती आज़मगढ़ से शुरू हो रही है नई लड़ाई : नितिन राउत
दलित समाज कांग्रेस के झंडे के नीचे को लामबंद : उदित राज

आज़मगढ़, 12 जुलाई 2021। आज़मगढ़ के रौनापार थाने के पलिया गांव में हुए पुलिसिया उत्पीड़न के खिलाफ रिक्शा स्टैंड पर कांग्रेस के प्रदेश संगठन सचिव अनिल यादव, प्रदेश सचिव संतोष कटाई, यूथ कांग्रेस जिला अध्यक्ष अमर बहादुर यादव, एनएसयूआई सचिव मंजीत यादव और विशाल दुबे ने उपवास सत्याग्रह आज महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत, उदितराज और पंजाब सरकार कैबिनेट मंत्री राजकुमार वैरका के हाथों जूस पीकर खत्म किया। 

गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी लगातार दोषी पुलिस अधिकारियों पर कार्यवाही और ग्रामीणों पर दर्ज फ़र्ज़ी मुकदमें की वापसी जैसी मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं। 

नीतिन राउत ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि यह कांग्रेस पार्टी के आंदोलन की जीत है कि पलिया में दलित परिवार की कुछ मांगे जिला प्रशासन ने पूरा किया है। इस लड़ाई को और व्यापक बनाना है। 

दलित पंचायत को संबोधित करते हुए अजय कुमार लल्लू ने कहा कि कांग्रेस पार्टी हर लड़ाई लड़ने को तैयार है। पूरे प्रदेश में दलितों पिछड़ों की लड़ाई को मजबूत किया जाएगा। 

दलित पंचायत को संबोधित करते हुए अनिल यादव ने कहा कि 6 दिन नहीं 60 दिन की भी भूख हड़ताल करनी होती तो करता, हमारे लिए यह लड़ाई स्वाभिमान की है। आज़मगढ़ को सपा ने चारागाह बना दिया। अब यह नहीं चलेगा। 

कांग्रेस जल्द ही आज़मगढ़ से दलित स्वभिमान यात्रा निकालेगी। 

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …

Leave a Reply