प्रशिक्षण से पराक्रम : यूपी कांग्रेस का प्रशिक्षण महा-अभियान शुरू

नए पदाधिकारियों के प्रशिक्षण के लिए कांग्रेस ने प्रशिक्षण से पराक्रम नाम से महाअभियान शुरू किया है। कांग्रेस ने इस अभियान की टैग लाइन दिया है- विजय सेना निर्माण। 100 दिन चलने वाले इस अभियान के दौरान 700 प्रशिक्षण कैम्प आयोजित किये जायेंगे।
 | 
प्रशिक्षण से पराक्रम : यूपी कांग्रेस का प्रशिक्षण महा-अभियान शुरू

Power from training: UP Congress's training campaign started

लखनऊ, 24 अगस्त 2021. उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी संगठन निर्माण के अंतिम पड़ाव पर है। उत्तर प्रदेश के सभी 823 ब्लाकों की कमेटियां गठित हो गईं हैं। 8134 न्याय पंचायत के अध्यक्ष मुश्तैदी के साथ अपनी कमेटियों को अंतिम रूप दे रहे हैं। साथ ही साथ अब ग्राम सभा अध्यक्षों के चयन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। 

प्रशिक्षण से पराक्रम नाम से कांग्रेस का महाअभियान

नए पदाधिकारियों के प्रशिक्षण के लिए कांग्रेस ने प्रशिक्षण से पराक्रम नाम से महाअभियान शुरू किया है। कांग्रेस ने इस अभियान की टैग लाइन दिया है- विजय सेना निर्माण। 100 दिन चलने वाले इस अभियान के दौरान 700 प्रशिक्षण कैम्प आयोजित किये जायेंगे। इस दौरान करीब 2 लाख पदाधिकारियों का प्रशिक्षण होगा। 

जिलावार प्रशिक्षण कैम्प शुरू, बूथ स्तर के पदाधिकारियों तक का होगा प्रशिक्षण

आज से शुरू इस अभियान में जिलावार प्रशिक्षण शुरू हुआ है। जिसमें जिले और शहर की कमेटी के सदस्यों के साथ ब्लॉक, न्याय पंचायत और वार्ड के अध्यक्ष प्रशिक्षण ले रहे हैं। इसके साथ ही साथ नगर अध्यक्ष और विभिन्न मोर्चा संगठनों के अध्यक्ष भी इस प्रशिक्षण शिविर में भाग ले रहे हैं। 

अगले 12 दिन में जिलावार प्रशिक्षण खत्म हो जाएगा। इसके बाद विधानसभा वार और ब्लॉक स्तरीय प्रशिक्षण शुरू किया जाएगा। मार्के की बात यह है कि अधिकृत पदाधिकारियों के अलावा इस प्रशिक्षण शिविर में अन्य किसी को बैठने की अनुमति नहीं है। 

बूथ मैनेजमेंट पर फ़ोकस, सोशल मीडिया और विचारधारा पर गंभीर प्रशिक्षण

इस प्रशिक्षण शिविर में पांच विभिन्न विषयों पर ट्रेनिंग दी जाएगी। बूथ मैनेजमेंट पर विशेष फोकस किया जा रहा है। साथ ही साथ सोशल मीडिया के बेहतरीन उपयोग के लिए पदाधिकारियों को प्रशिक्षित किया जाएगा। इन दो विषयों के अलावा कांग्रेस की विचारधारा, भाजपा- आरएसएस का सच और किसने बिगाड़ा उत्तर प्रदेश नाम से तीन अलग अलग कार्यशाला आयोजित की जा रही है।

किसने बिगाड़ा यूपी’ के अंतर्गत भाजपा के अलावा सपा-बसपा राज की कमियों को उजागर करने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है। 

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription