केरल फिर से कोविड उछाल क्यों देख रहा है? स्वास्थ्य मंत्री ने होम क्वारंटाइन को ठहराया दोषी

स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए9 गए एक अध्ययन से पता चला है कि 35 प्रतिशत मामले घरों के भीतर प्रसारित हुए हैं, लोग घर में ही इस बीमारी से संक्रमित पाए गए हैं।
 | 
Covid-19 news


Why is Kerala seeing a Covid surge again? Health minister blames home quarantine

Kerala Health Minister Veena George says COVID-19 transmission within families is on the rise in the State

About 35% of infections in Kerala originated inside the houses, state health minister Veena George said.

तिरुवनंतपुरम (केरल), 27 अगस्त 2021 ( न्यूज हेल्पलाइन): केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज (Kerala health minister Veena George) ने कहा है कि नए आंकड़े बताते हैं कि राज्य में घरों के भीतर कोविड-19 का संक्रमण बढ़ रहा है, क्योंकि लोग घर पर रहकर नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि 35 प्रतिशत मामले घरों के भीतर प्रसारित हुए हैं, लोग घर में ही इस बीमारी से संक्रमित पाए गए हैं।

घर में व्यक्ति संक्रमित होने पर पूरे घर में क्यों पैलता है कोरोना ?

वीना जॉर्ज ने कहा, जब घर में कोई व्यक्ति संक्रमित होता है, तो यह घर में सभी को फैलता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि होम क्वारंटाइन दिशा निर्देशों का सख्ती से पालन नहीं किया जा रहा है। केवल वे लोग जिनके पास घर पर आवश्यक सुविधाएं हैं, वे होम क्वारंटाइन को प्राथमिकता दे सकते हैं, दूसरों को डोमिसाइलरी कोविड केयर सेंटर (Domiciliary Covid Care Center -DCC) में शिफ्ट होना चाहिए।

होम क्वारंटाइन में क्या करना चाहिए ?

स्वास्थ्य मंत्री ने लोगों से स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों का सख्ती से पालन करने को कहा। जो लोग होम क्वारंटाइन में हैं, उन्हें कमरे से बाहर नहीं निकलना चाहिए। घर में सभी को मास्क पहनना चाहिए। रोगी द्वारा प्रयोग किये जाने वाले बर्तनों अथवा वस्तुओं का प्रयोग अन्य किसी को नहीं करना चाहिए। वायरस के संक्रमण से बचने के लिए घर में सभी को बार-बार साबुन से हाथ धोना चाहिए।

मंत्री ने निर्देशों का एक सेट भी जारी किया जिसका लोगों को वायरस के प्रसार से बचने के लिए पालन करना चाहिए।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription