गर्मी को मात दें : गर्मियों में सुरक्षित रहें

Beat the Heat: Staying Safe in the Summertime एक महीने लंबे लॉकडाउन के बाद आपकी बाहर जाने की इच्छा हो सकती है। बाहर जाना आपके लिए कई मायनों में अच्छा हो सकता है। यह व्यायाम के अवसर प्रदान करता है। यह आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी बढ़ावा दे सकता है। चूंकि यह गर्मी का मौसम …
गर्मी को मात दें : गर्मियों में सुरक्षित रहें

Beat the Heat: Staying Safe in the Summertime

एक महीने लंबे लॉकडाउन के बाद आपकी बाहर जाने की इच्छा हो सकती है। बाहर जाना आपके लिए कई मायनों में अच्छा हो सकता है। यह व्यायाम के अवसर प्रदान करता है। यह आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी बढ़ावा दे सकता है।

चूंकि यह गर्मी का मौसम है, ऐसे में बहुत सावधानी भी रखनी है। जैसे-जैसे गर्मी बढ़ती है, कुछ स्वास्थ्य जोखिम भी बढ़ जाते हैं। भीषण गर्मी आपके शरीर और मस्तिष्क दोनों पर दबाव डाल सकती है। बहुत अधिक गर्मी, गर्मी से संबंधित बीमारी, जिसे हाइपरथर्मिया (hyperthermia in Hindi) कहा जाता है, का कारण बन सकती है। हल्का अतिताप बेचैनी पैदा कर सकता है, जैसे मांसपेशियों में ऐंठन या टखनों और पैरों में सूजन।

एनआईएच न्यूज इन हेल्थ के जून 2021 के अंक में गर्मी का थकावट (Heat exhaustion) अधिक गंभीर है। यह तब होता है जब आपका शरीर खुद को ठंडा नहीं रख पाता। आपको चक्कर या जी मिचलाना शुरू हो सकता है। अन्य लक्षणों में प्यास लगना, कमजोर या असंयमित महसूस करना शामिल है।

अतिताप (hyperthermia ) का सबसे चरम रूप हीट स्ट्रोक (heatstroke) है। हीट स्ट्रोक जान लेवा होता है, इसलिए ऐसी स्थिति में तुरंत चिकित्सा सहायता लें। हीट स्ट्रोक के लक्षणों में बेहोशी या चलने में परेशानी होना शामिल है। आप भ्रमित या उत्तेजित महसूस करने लग सकते हैं। आप बहुत गर्मी भी महसूस कर सकते हैं लेकिन पसीना नहीं आता है या सूखी, दमकती त्वचा है।

हाइपरथर्मिया का खतरा किसको अधिक होता है ?

कुछ लोगों को दूसरों की तुलना में गर्मी से संबंधित बीमारी होने का खतरा अधिक होता है। इसमें शिशु और छोटे बच्चे, और कुछ स्वास्थ्य स्थितियों वाले, जैसे कि हृदय, फेफड़े या गुर्दे की बीमारी शामिल हैं। वृद्ध वयस्क सबसे अधिक गर्मी के प्रति संवेदनशील होते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं शरीर की खुद को ठंडा करने की क्षमता बदल जाती है।

बुजुर्ग गर्मी में इतनी अधिक मात्रा में स्ट्रोक का कारण क्यों है?

यूटी साउथवेस्टर्न मेडिकल सेंटर में शरीर पर गर्मी के प्रभावों का अध्ययन करने वाले डॉ क्रेग क्रैन्डल (Dr Craig Crandall, who studies heat effects on the body at UT Southwestern Medical Center) बताते हैं कि आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित करने के दो मुख्य तरीके हैं। “एक है कि त्वचा में कितना खून बहता है। दूसरा यह है कि हम कितना पसीना बहाते हैं।”

क्रैंडल कहते हैं कि इनमें से कोई भी तरीका बुजुर्गों में काम नहीं करता है। इससे उनके लिए ठंडा होना और मुश्किल हो जाता है।

गर्मी में बुजुर्गों को पंखे के बजाय एसी क्यों चाहिए | बुजुर्गों को पंखे की हवा के नुकसान

क्रैंडल के शोध से पता चला है कि अत्यधिक गर्मी में पंखे के सामने बैठने से वृद्ध वयस्कों के शरीर का तापमान बढ़ जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जब उनकी त्वचा पर गर्म हवा चल रही थी तो उन्हें पर्याप्त पसीना नहीं आ रहा था। इससे पता चलता है कि वृद्ध वयस्कों को ठंडा रखने के लिए अन्य तरीकों का उपयोग करने की आवश्यकता हो सकती है, जैसे कि वातानुकूलित स्थान पर जाना।

गर्मी में बचें व्यायाम से

बहुत अधिक गर्मी किसी के लिए भी सुरक्षित नहीं होती है। अगर आप गर्मी में बाहर हैं तो खूब पानी पिएं। गर्म होने पर व्यायाम करने या बाहर बहुत सारी गतिविधियाँ करने की कोशिश न करें।

अगर आप गर्मी में बीमार महसूस करने लगें तो किसी ठंडी जगह पर आराम करें और खूब सारे तरल पदार्थ पिएं। अगर आपको लगता है कि किसी को हीट स्ट्रोक हुआ है, तो उसे ठंडी जगह पर ले जाएं और तुरंत चिकित्सकीय सहायता के लिए कॉल करें।

“छाया आपकी दोस्त है,” क्रैन्डल कहते हैं। “यदि आप व्यायाम करने या लॉन घास काटने के लिए बाहर जा रहे हैं, तो छाया में ब्रेक लें।”

हो सके तो कुछ देर के लिए किसी वातानुकूलित कमरे में चले जाएं। “जिस समय आप अंदर हैं, आपके शरीर का मुख्य तापमान ठंडा होने वाला है,” क्रैंडल बताते हैं। “यदि आप बाहर रहते हैं, तो यह ऊपर और ऊपर और ऊपर जा सकता है।”

अगर आप गर्मियों में बाहर एक्सरसाइज करना चाहते हैं तो धीमी शुरुआत करें। क्रैंडल कहते हैं, “गर्म तापमान के अनुकूल होने में लगभग 10 दिन से दो सप्ताह तक का समय लगता है।”

गर्मी के दौरान गर्मी ही एकमात्र खतरा नहीं है। अपनी त्वचा और आंखों को धूप से बचाना भी जरूरी है।

गर्मी और धूप से खुद को कैसे बचाएं | How to Protect Yourself From the Heat and Sun

बाहरी गतिविधियाँ दिन के सबसे ठंडे हिस्से में, सुबह या शाम को करें।

यदि संभव हो तो वातानुकूलित स्थान में व्यायाम करें। या वाटर वर्कआउट करें।

अत्यधिक धूप के दौरान बाहर रहने पर छाया में रहने की कोशिश करें।

खूब सारे तरल पदार्थ पिएं, खासकर पानी। ऐसे पेय से बचें जिनमें अल्कोहल या कैफीन हो।

सूरज की हानिकारक किरणों को रोकने के लिए सुरक्षात्मक कपड़े, जैसे टोपी, लंबी बाजू की शर्ट और लंबी पैंट पहनें। हल्के रंग के, ढीले-ढाले कपड़े चुनें।

सनस्क्रीन का प्रयोग करें जो यूवीए और यूवीबी विकिरण दोनों को रोकता है। कम से कम 15 अधिमानतः सन प्रोटेक्शन फैक्टर (एसपीएफ) का सनस्क्रीन का प्रयोग करें, बेहतर हो 30 का प्रयोग करें।

धूप के चश्मे का प्रयोग करें जो यूवीए और यूवीबी दोनों को अवरुद्ध करते हैं।

अगर आपके पास एयर कंडीशनिंग नहीं है, तो अपने घर को जितना हो सके ठंडा रखें।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।) 

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription