उत्तर प्रदेश सरकार की जनसंख्या नीति 2021-30 पर आइपीएफ का राष्ट्रीय राजनीतिक प्रस्ताव

 यह जरूरी नहीं कि आबादी विकास विरोधी ही हो बशर्ते उत्पादन प्रक्रिया में उसका बेहतर नियोजन किया जा सके। बेहतर तरीका यह है कि ऊपर से कानून बनाने की जगह महिलाओं और आदिवासियों के सशक्तिकरण पर जोर बढ़ाया जाए, उन्हें गरीबी रेखा से ऊपर लाया जाए उनको नागरिक अधिकार दिया जाए
 | 
World Population Day in Hindi

 National Political Resolution of IPF on Population Policy 2021-30 of Government of Uttar Pradesh

आरएसएस की विचारधारा से असहमत ढेर सारे ऐसे उदारमना लोग हैं जो यह सोचते हैं कि सुधार का काम आरएसएस के लोग ही कर सकते हैं। मसलन सीमा विवाद, भाषा विवाद, जातीय विवाद आदि मुद्दों पर उनका यह सोचना है कि आरएसएस अपने उग्र समर्थकों को नियंत्रण में लेने की क्षमता रखती है और सुधार कर सकती है। हालांकि हकीकत अभी तक इसके उलट ही रही है। कश्मीर का मुद्दा इसका सबसे बेहतरीन उदाहरण है। वहां लोकतांत्रिक अधिकारों के अतिशय दमन और राज्य विभाजन के बावजूद कश्मीर की समस्या हल होने के बजाए और उलझ गयी है और सीमा पर बढ़ता तनाव आरएसएस-भाजपा की कश्मीर नीति का एक कारण भी है। बहरहाल अभी उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी जनसंख्या नीति 2021-30 के बारे में बात करे तो सुधार के इस कदम की नीति को भी समझ सकते है। बहुलता, परस्परता पर आधारित भारतीयता के खिलाफ एकात्म हिंदू राष्ट्र की वकालत करने वाली भारतीय जनता पार्टी की सोच का बड़ा तत्व साम्प्रदायिक और निरंकुश ही रहता है। नीचे से जनता के बीच से कोई सुधार का भाव उभरे और लोग एक जबाबदेह नागरिक के बतौर हर सवालों पर व्यवहार करे संघ के निरंकुश चितंन प्रक्रिया में कभी नहीं दिखा है। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के ठीक मौके पर इस नीति की घोषणा पर अगर गौर करे तो इससे स्पष्ट होता है कि इसमें चुनावी चालबाजी के साथ-साथ ड़डा के बल पर समाज को हाकंने की नीति दिखती है।

     इस समय सूबे में कुछ ज्वंलत सवाल उभरकर सामने आए है मसलन कोरोना महामारी से निपटने के लिए सक्रिय स्वास्थ्य केन्द्रों को मजबूत करना, भुखमरी और महंगाई से पीडित नागरिकों को सरकारी और जंगल की अतिरिक्त भूमि का आवंटन, ग्रामीण अंचल में मनरेगा को मजबूत करते हुए शहरों तक मनरेगा या मनरेगा जैसी योजना का विस्तार, निजी माफियाओं के हाथ से शिक्षा मुक्ति और हर नागरिक के शिक्षा के अधिकार की गारंटी, मजदूरों और कर्मचारियों को जिंदा रहने के लिए न्यूनतम वेतन, प्रदेश में खाली पड़े 5 लाख पदों पर भर्ती, काले कानूनों का खात्मा और लोकतंत्र के प्राधिकार की स्थापना सर्वोपरि चल रहे किसान आंदोलन के सी-2 के आधार पर एमएसपी का कानून लागू करना और गन्ना किसानों के बकाए का भुगतान करना जैसे ज्वंलत मुद्दे है इन पर चुप्पी साधकर जनसंख्या नीति 2021-30 का ऐलान उत्तर प्रदेश सरकार कर रही है। जिसका कुछ अखबारों ने स्वागत करना भी शुरू कर दिया है।

अब इस जनसंख्या नीति पर भी गौर कर लिया जाए।

जमीनी सर्वे रिपोर्ट के आधार पर यह निसंदेह कहा जा सकता है कि उत्तर प्रदेश में आदिवासियों की जनसंख्या वृद्धि की रफ्तार अन्य की अपेक्षा सबसे अधिक है। वहीं आबादी के हिसाब से सरकारी नौकरियों में उनकी हिस्सेदारी नगण्य है और इस जनसंख्या नीति को अगर आधार मान लिया जाए तो नौकरी, पदोन्नति, वेतन वृद्धि, चिकित्सा, आवास आदि जैसे लाभ से वे वंचित हो जायेंगें। अभी जो वनाधिकार कानून है उसकी भावना के अनुरूप मायावती, मुलायम, अखिलेश और अब भाजपा की सरकारों ने आदिवासियों को जमीन पर अधिकार देने की जगह जमीन से उन्हें बेदखल किया। अवैध खनन माफियाओं द्वारा जारी है। उनकी जमीनों पर भूमाफियाओं ने कब्जा किया हुआ है। हाल के वर्षों में हुआ उभ्भा कांड इसका बहुत बड़ा प्रमाण है।

      यह जरूरी नहीं कि आबादी विकास विरोधी ही हो बशर्ते उत्पादन प्रक्रिया में उसका बेहतर नियोजन किया जा सके। बेहतर तरीका यह है कि ऊपर से कानून बनाने की जगह महिलाओं और आदिवासियों के सशक्तिकरण पर जोर बढ़ाया जाए, उन्हें गरीबी रेखा से ऊपर लाया जाए उनको नागरिक अधिकार दिया जाए तो वह खुद ही परिवार नियोजन करेंगी, परिवार छोटा ही रखेगी। आज यदि अधिकांश मध्यवर्गीय परिवारों को देखा जाए तो महिलाएं एक बच्चे के ही पक्ष में दिखती है। सरकार की गलत नीतियों, कोरोना और महंगाई के कारण लोग गरीबी रेखा के नीचे बड़े पैमाने पर गए है। उन्हें कैसे आगे लाया जाए, उत्तर प्रदेश में नागरिकों के जानमाल की रक्षा की जाए, रोजगार की गारंटी की जाए जैसे प्रदेश के प्रमुख मुद्दों पर उत्तर प्रदेश सरकार को अपना रूख साफ करना चाहिए। जनसंख्या नीति के नाम पर जन मुद्दों से भागने की इजाजत इस सरकार को नहीं देनी चाहिए।

उत्तर प्रदेश में विपक्ष को जनमुद्दों पर एक एजेण्डा तैयार करना चाहिए और उन सभी ताकतों के साथ एकताबद्ध होना चाहिए जिन्हें एकताबद्ध किया जा सके।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription