लखीमपुर की घटना : सीपीआई की गृह राज्य मंत्री के पुत्र पर हत्या का मुकदमा कायम करने की मांग

Lakhimpur incident: CPI's demand for setting up a murder case against the son of Union Minister of State for Home Ajay Mishra Teni
 | 
किसानों के निजी नलकूपों पर मीटर लगाने के फैसले को तत्काल रद्द करे राज्य सरकार : भाकपा

नई दिल्ली, 03 अक्तूबर 2021. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ( सीपीआई ) ने लखीमपुर की घटना की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के पुत्र पर हत्या का मुकदमा कायम करने की मांग की है।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ( सीपीआई ) की राष्ट्रीय परिषद द्वारा लखीमपुर की घटना पर पारित प्रस्ताव निम्न है -

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की राष्ट्रीय परिषद आज 3 अक्टूबर 2021 की मीटिंग में उत्तरप्रदेश के जनपद लखीमपुर में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री एवं स्थानीय सांसद श्री विजय मिश्रा टेनी के पुत्र द्वारा आंदोलनकारी किसानों के ऊपर वाहन चढ़ा कर किसानों की हत्या की सख्त निंदा करती है.

ज्ञात हो कि गृह राज्य मंत्री के पिता की याद में वहां एक खेल प्रतियोगिता का आयोजन हो रहा था जिसमें राज्य के उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य को पहुंचना था. किसान जिसमें हिंदू, सिख़, मुस्लिम आदि सभी शामिल थे वो सब उप मुख्यमंत्री के आने का विरोध कर रहे थे. गृह राज्य मंत्री के पुत्र ने उनके ऊपर वाहन दौड़ा दिये जिसमें कई किसानों की मौत हो गयी है तथा कई किसान व दो पत्रकार गंभीर रूप से घायल हैँ.

भाजपा और उसकी इस निर्दयता के खिलाफ पूरे देश व उत्तरप्रदेश में आक्रोश है. सरकार दमन पर आमादा है. भाक पा राष्ट्रीय परिषद मंत्री के पुत्र व अन्य हमलावरों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करने की माँग करती है तथा घटना की न्यायिक जाँच की माँग करती है.

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर आंदोलन कर रही है और इस घटना के विरुद्ध देश एवं उत्तरप्रदेश में प्रतिरोध दर्ज़ करायेगी. भाजपा दवारा इस घटना को सांप्रदायिक रूप देने के किसी भी प्रयास का सीपीआई विरोध करती है.

भाकपा माँग करती है कि प्रत्येक मृतक परिवार को 25 लाख रुपया व हर घायल परिवार को 5 लाख  मुआवजा दिया जाय तथा  मृतक परिवार के दो सदस्यों को सरकारी नौकरी दी जाये।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription