खीरी लखीमपुर में प्रदर्शनकारी किसानों की हत्या के विरोध में प्रतिरोध मार्च

Resistance march against the killing of protesting farmers in Kheri Lakhimpur and memorandum to the President :- Samyukt Kisan-Morcha-Azamgarh
 | 
Kisan-Morcha-Azamgarh

खीरी लखीमपुर में प्रदर्शनकारी किसानों की हत्या के विरोध में प्रतिरोध मार्च व राष्ट्रपति को ज्ञापन :- संयुक्त किसान मोर्चा, आज़मगढ़

आज़मगढ़, 04 अक्तूबर 2021. लखीमपुर खीरी में किसानों को रौंदकर उनके बर्बर हत्या की घटना के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा, आजमगढ़ के नेतृत्व में प्रतिरोध मार्च निकालकर जिलाधिकारी आजमगढ के माध्यम से राष्ट्रपति महोदय को 5 सूत्रीय ज्ञापन प्रेषित किया।

प्रतिरोध मार्च में लखीमपुर खीरी की घटना के दोषियों को सख्त से सख्त सजा दो। गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को बर्खास्त करो। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस्तीफा दो। लोकतंत्र के हत्यारे केशव प्रसाद, खट्टर, योगी, मोदी मुर्दाबाद! किसानों की राज्य प्रायोजित हत्या मुर्दाबाद। मजदूर किसान एकता- जिंदाबाद। इंकलाब जिंदाबाद। किसानों के हत्यारे अजय मिश्र को गिरफ्तार करो आदि नारे लगाए गए।

किसान विरोधी तीनों काले कृषि कानूनों के खिलाफ पूरे देशभर में किसान विगत 10 माह से आंदोलित हैं। सरकार उनके शांतिपूर्ण लोकतांत्रिक ढंग से चलाए जा रहे आंदोलन को कुचलने के लिए हर सम्भव साजिश कर रही है, जो शर्मनाक है।

5 सूत्रीय ज्ञापन में गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को तुरंत बर्खास्त करो, मंत्री के बेटे आशीष मिश्र और उसके गुंडे दोस्तों पर 302(हत्या) का मुकदमा दर्ज करो, सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में SIT का गठन किया जाए, घटना में मारे गए किसानों को 50 लाख बतौर मुआवजा व परिवार के 1 व्यक्ति को सरकारी नौकरी दो और घायलों को न्यूनतम 5 लाख बतौर मुआवजा व उनके इलाज की समुचित व्यवस्था किया जाए। ज्ञापन के बाद जिलाधिकारी कार्यालय पर धरना दिया गया।

प्रतिरोध मार्च व ज्ञापन में दुखहरन राम, डॉ रवींद्र नाथ राय, राजीव यादव, इन्द्रासन सिंह, विद्यार्थी राहुल, राजेन्द्र प्रजापति, प्रशांत, अवधेश, विनोद, विजेंद्र सेनानी, रामकरन पहलवान, आदिल खान, हेमंत कुमार, रंजीत, उमेश, अनिरुद्ध विद्यार्थी, अवधेश, संदीप यादव,नंदलाल, रुआब, रणधीर, मजनू यादव, अम्बिका पटेल उपस्थित रहे।

यह जानकारी एक प्रेस विज्ञप्ति में दी गई है।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription