कांग्रेस की इस चुनौती से क्यों मायावती के होश फाख्ता हो गए?

कांग्रेस ने मायावती को दी पंजाब में दलित सीएम उम्मीदवार घोषित करने की चुनौती
 | 
मायावती का ये बयान मोदी के लिए बहुत बुरी खबर है

Why did Mayawati lose her senses by this challenge of Congress?

कांग्रेस ने मायावती को दी पंजाब में दलित सीएम उम्मीदवार घोषित करने की चुनौती

Congress challenges Mayawati to declare Dalit CM candidate in Punjab

नई दिल्ली, 20 सितम्बर 2021. पंजाब में दलित मुख्यमंत्री की नियुक्ति को लेकर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती द्वारा आलोचना का सामना करने के बाद अब कांग्रेस ने मायावती को पंजाब में दलित मुख्यमंत्री का उम्मीदवार घोषित करने की चुनौती दी है।

बता दें बसपा राज्य में शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के साथ गठबंधन में है और चुनाव में प्रकाश सिंह बादल परिवार के पास कमान होगी।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक सवाल के जवाब में कहा,

"हम मायावती का एक बड़ी और वरिष्ठ नेता के रूप में सम्मान करते हैं, लेकिन उनसे पंजाब में दलित मुख्यमंत्री के उम्मीदवार की घोषणा करने का अनुरोध करते हैं, जहां वह अकाली दल के साथ गठबंधन में हैं।"

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार, मायावती ने चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री के रूप में बधाई दी, लेकिन कहा कि मीडिया के माध्यम से उन्हें पता चला है कि अगला पंजाब विधानसभा चुनाव एक गैर-दलित के नेतृत्व में लड़ा जाएगा। उन्होंने कांग्रेस के पंजाब प्रभारी हरीश रावत के बयान का जिक्र करते हुए यह बात कही थी, जिन्होंने आगामी विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को लोकप्रिय कहा था।

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस को अभी भी दलितों पर पूरा भरोसा नहीं है और वह पंजाब में शिअद-बसपा गठबंधन से डरी हुई है।

पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 के लिए बसपा और शिरोमणि अकाली दल गठबंधन में हैं।

इस बीच, चन्नी के शपथ ग्रहण के बाद से कांग्रेस अपनी पीठ थपथपा रही है।

श्री सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस ने चरणजीत चन्नी को पंजाब का पहला दलित सीएम बनाकर इतिहास रच दिया है।

उन्होंने कहा,

"समय को रिकॉर्ड करें कि यह निर्णय सामाजिक न्याय को मजबूत करेगा और पूरे भारत में हमारे दलित, पिछड़े और वंचित भाइयों और बहनों के लिए सशक्तिकरण के नए द्वार खोलेगा।"


 


 

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription