जिन्होंने अपनों को खोया, उनके आंसू में सब कुछ दर्ज है : राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और केरल के वायनाड से लोकसभा सदस्य राहुल गांधी ने नए तीन कृषि कानूनों के विरोध में मारे गए किसानों को कोई मुआवजा नहीं दिए जाने को लेकर केंद्र पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अपने प्रियजनों को खोने वालों के आंसू में सब कुछ दर्ज है।
 | 
जान जोखिम में डाल चिकित्साकर्मी लड़ रहे हैं कोरोना की जंग : राहुल


 Everything is recorded in the tears of those who have lost loved ones: Rahul Gandhi

नई दिल्ली, 21 जुलाई 2021. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और केरल के वायनाड से लोकसभा सदस्य राहुल गांधी (Former Congress President and Lok Sabha member from Wayanad, Kerala Rahul Gandhi) ने नए तीन कृषि कानूनों के विरोध में मारे गए किसानों को कोई मुआवजा नहीं दिए जाने को लेकर केंद्र पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अपने प्रियजनों को खोने वालों के आंसू में सब कुछ दर्ज है।

उन्होंने हैशटैग फार्मरपोस्ट के साथ हिंदी में एक ट्वीट में कहा, "जिन लोगों ने अपनों को खोया उनके आंसुओं में सब कुछ दर्ज है।"

श्री गांधी ने एक समाचार रिपोर्ट भी संलग्न किया जिसमें दावा किया गया था कि सरकार ने एक लिखित उत्तर में कहा कि उसके पास 'ऐसा कोई रिकॉर्ड नहीं है' । सरकार से पूछा गया था कि क्या उसे पता है कि पिछले नवंबर से चल रहे आंदोलन के दौरान कई आंदोलनकारी किसान मारे गए हैं या बीमार पड़ गए हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि मुआवजे का कोई प्रस्ताव नहीं है।

राष्ट्रीय राजधानी की कई सीमाओं पर किसान पिछले साल 26 नवंबर से तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं। किसान इन कानूनों को वापस लेने और फसलों के लिए एमएसपी पर कानून बनाने की मांग कर रहे हैं।


 

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription