यूपी में अफसरशाही चरम पर, महाजंगलराज, अदालत में हो रही हत्या और लोकतांत्रिक मूल्यों का गला घोंट रही है सरकार

Law and order collapses in the state, the spirits of criminals are elevated: Ajay Kumar Lallu प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त, अपराधियों के हौसले बुलंद : अजय कुमार लल्लू लखनऊ 17 दिसम्बर, 2019। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू (Uttar Pradesh Congress President Ajay Kumar Lallu) ने प्रदेश में बढ़ रही अफसरशाही को लोकतांत्रिक …
यूपी में अफसरशाही चरम पर, महाजंगलराज, अदालत में हो रही हत्या और लोकतांत्रिक मूल्यों का गला घोंट रही है सरकार

Law and order collapses in the state, the spirits of criminals are elevated: Ajay Kumar Lallu

प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त, अपराधियों के हौसले बुलंद : अजय कुमार लल्लू

लखनऊ 17 दिसम्बर, 2019। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू (Uttar Pradesh Congress President Ajay Kumar Lallu) ने प्रदेश में बढ़ रही अफसरशाही को लोकतांत्रिक मूल्यों पर हमला करार दिया है। उन्होंने बिजनौर में कोर्ट के अंदर हुई हत्या पर टिप्पणी करते हुए कहा कि पूरे सूबे में अराजकता का माहौल है।

कांग्रेस प्रदेश ने कहा कि पूरे प्रदेश में अफशाही का बोलबाला है। अफसर जनता के चुने हुए प्रतिनिधियों तक का उत्पीड़न करने से बाज नहीं आ रहे हैं। हालात इतने बदतर हैं कि सत्ता दल के विधायकों का उत्पीड़न करने से अफसर बाज नहीं आ रहे हैं। भाजपा तक के विधायक सदन के अंदर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं तो यह अंदाजा लगाया जा सकता कि आम जनता का क्या हाल होगा? तानाशाही और अफसरशाही किसके दम पर हो रही है, पूरे सूबे की जनता योगी आदित्यनाथ की सरकार से जानना चाहती है।

उन्होंने कहा कि बढ़ रही अफसरशाही लोकतांत्रिक मूल्यों का गला घोंटने पर उतारू है।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ने कहा कि बिजनौर में अदालत के अंदर जिस तरह से हत्या हुई है उससे साफ है कि पूरे प्रदेश में अपराधियों के हौसले बुलंद है। कानून व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription