काले कृषि कानूनों की वापसी तक जारी रहेगा आंदोलन : संयुक्त किसान मोर्चा

किसान व राष्ट्र विरोधी काले कृषि कानून रद्द करने को लेकर किसान संगठनों ने किया मार्च
 | 
Bharat Bandh Chakiya

किसान व राष्ट्र विरोधी काले कृषि कानून रद्द करने को लेकर किसान संगठनों ने किया मार्च

चकिया /27 सितम्बर 2021, किसान विरोधी तीनों काले कानून और मजदूर विरोधी लेबर कोड को वापस लेने, बिजली संशोधन विधेयक 2021 को रद्द करने, निजीकरण पर रोक लगाने, एमएसपी के लिए कानून बनाने की मांग को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर चकिया में भारी पुलिस की मौजूदगी में भी अखिल भारतीय किसान सभा, किसान महासभा, मजदूर किसान मंच, किसान विकास मंच, उत्तर प्रदेश किसान सभा, ने चकिया में काली जी के पोखरे से विशाल जूलुस निकाला और पूरे बाजार घूमकर गांधी पार्क में सभा किया

आज बंद को अधिवक्ता संघ ने भी समर्थन दिया और हड़ताल पर रहे

प्रदर्शन व सभा में नेताओं ने कहा कि मोदी सरकार जनता के खून पसीने की गाढ़ी कमाई से खड़ी हुई जनसम्पत्ति को देशी-विदेशी पूंजीपतियों के हाथ कौड़ी के मोल बेच रही है, विदेशी ताकतों की सेवा में दिन रात लगी हुई है। काले कृषि कानूनों के जरिए उसने खेती किसानी पर भी हमला बोला है। किसानों का जारी आंदोलन कारपोरेट परस्त नीतियों के खिलाफ देश को बचाने का आंदोलन है। यह आंदोलन काले कृषि कानूनों की वापसी तक जारी रहेगा। आज के सफल बंद ने इस बात को दिखाया है कि तमाम झूठे प्रचार व घोषणाओं के बावजूद देश की जनता सच्चाई जान रही है और इस सरकार को सत्ता से बेदखल करेगी।

सभा को अखिल भारतीय किसान सभा के राज्य कमेटी सदस्य राम अचल यादव, मजदूर किसान मंच के प्रदेश संयोजक समिति सदस्य अजय राय, किसान महासभा के नेता अनिल पासवान, उत्तर प्रदेश किसान सभा के नेता शुकदेव मिश्रा, किसान विकास मंच के संगठन मंत्री राम अवध सिंह के अलावा लालचंद यादव, लालमनी विश्वकर्मा, रामदुलार वनवासी, मेजर फौजी,शिब नारायण बिन्द, रामअंत पाण्डेय, वदरूरोजा, राम निवास पाण्डेय, अशोक दूबेलालजी कुशवाहा, सुलतान खान, प्रिया अंद पाण्डेय,सहित कई नेताओं ने सम्बोधित किया।

आप के लोगों ने सभा स्थल पर आकर समर्थन दिया, एक जत्था भारतीय किसान यूनियन ने आकर समर्थन दिया।

सभा की अध्यक्षता परमानन्द कुशवाहा व संचालन शम्भू यादव ने किया।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription