राहुल गांधी ही एक मात्र राजनेता जो संघ पर उठाते हैं सवाल, अखिलेश अपने कार्यकर्ताओं के उत्पीड़न पर भी चुप रहते हैं

राहुल गांधी ही एक मात्र राजनेता जो संघ पर उठाते हैं सवाल, अखिलेश अपने कार्यकर्ताओं के उत्पीड़न पर भी चुप रहते हैं - शाहनवाज़ आलम
 | 
पीड़ा स्थल को पर्यटन स्थल समझ रही है सपा, अखिलेश ने मुसलमानों के जले पर नमक छिड़का : शाहनवाज आलम

नेहरू-गांधी परिवार हमेशा रहा है संघ का विरोधी

स्पीक अप माइनोरिटी अभियान की दसवीं कड़ी में बोले अल्पसंख्यक कांग्रेस नेता

Minority Congress leader said in the tenth episode of Speak Up Minority Campaign

लखनऊ 22 अगस्त 202. राहुल गांधी एक मात्र राजनेता हैं जो आरएसएस की देश विरोधी विचारधारा पर सवाल उठाते हैं। राजीव गांधी, इंदिरा गांधी और पंडित जवाहर लाल नेहरू भी हमेशा संघ की विचारधारा के विरोधी रहे हैं। इसीलिए भाजपा गांधी-नेहरू परिवार के लोगों से द्वेष रखती है।

अल्पसंख्यक कांग्रेस द्वारा हर रविवार को फेसबुक लाइव के माध्यम से किए जाने वाले स्पीक अप माइनोरिटी अभियान के दसवें संस्करण में अल्पसंख्यक कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने ये बातें कहीं।

आज का विषय था 'क्यों राहुल गांधी को ही निशाना बनाती है मोदी सरकार'

अल्पसंख्यक कांग्रेस प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने जारी बयान में कहा कि अल्पसंख्यक, दलित व दूसरे कमज़ोर तबकों पर भाजपा सरकार के हमलों के खिलाफ़ सिर्फ़ राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ही सड़क पर उतर कर लड़ रहे हैं। अखिलेश यादव और मायावती जी अपने कार्यकर्ताओं के उत्पीड़न पर भी चुप रहते हैं।

उन्होंने कहा कि नोटबंदी हो, जीएसटी हो, किसान आंदोलन हो या कोरोना में सरकार की असंवेनशीलता हो सिर्फ़ राहुल गाँधी जी ही मोदी सरकार से संसद से लेकर सड़क तक लड़ रहे हैं। यही वजह है कि मोदी सरकार उनके मोबाइल की जासूसी करवाती है। आखिर क्या वजह है कि अखिलेश यादव जी की जासूसी करवाने की ज़रूरत मोदी जी को नहीं लगी। ये साबित करता है कि भाजपा कांग्रेस को अपने लिए चुनौती मानती है और सपा नेताओं को अपना दोस्त।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription