भाजपा के गृह राज्य मंत्री का पद पर बना रहना साफ करता है कि सरकार किसानों के हत्यारों के साथ- रिहाई मंच

Remaining in the post of Minister of State for Home of the BJP makes it clear that the government is with the killers of farmers - Rihai Manch
 | 
सीएए विरोधी आंदोलन : लखनऊ में रिहाई मंच अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब नजरबंद

लखनऊ 5 अक्तूबर 2021। रिहाई मंच ने लखीमपुर के तिकोनिया में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के पुत्र और आगामी विधानसभा में भाजपा के भावी प्रत्याशी आशीष मिश्र द्वारा प्रदर्शनकारी किसानों की अपनी गाड़ी से रौंद कर मारने की घटना की कठोरतम शब्दों में निंदा की है।

रिहाई मंच की एक विज्ञप्ति में अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब ने कहा कि किसानों के अहिंसक आंदोलन का दमन करने की नियत से मंत्री पुत्र द्वारा आंदोलनकारियों पर पीछे से गाड़ी चढ़ाकर रौंद देना अक्षम्य अपराध है। उन्होंने कहा कि इस मामले में प्रत्यक्ष रूप से गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र भी शामिल हैं। कुछ दिनों पहले उन्होंने सार्वजनिक तौर पर गुंडों की भाषा बोलते हुए किसानों को सबक सिखाने की धमकी दी थी। तराई किसान संगठन के अध्यक्ष तजिंदर सिंह विर्क को सिर में गंभीर चोट लगने की वजह से उन्हें दिल्ली मेदांता हॉस्पिटल रेफ़र करने की सूचना है। मंत्री के बेटे ने रौंद कर चार किसानों को तो मार ही दिया है, दर्जनों बुरी तरह घायल हैं। सम्मानित किसान नेता विर्क गंभीर रूप से घायल हैं। सरदार विर्क अपने संगठन के साथियों के साथ गाजीपुर बॉर्डर की मेन धुरी हैं।

मुहम्मद शुऐब ने कहा कि मौके के वीडियो से स्पष्ट है कि सरदार विर्क को रौंदने की नीयत से यह हमला हुआ। चूंकि विर्क के अगल-बगल संगठन के साथियों का सघन जमावड़ा चल रहा था, इसीलिए वे तत्काल बच गए पर अन्य साथी जो उनके अगल-बगल चल रहे थे, शहीद हो गए। विर्क को भी गंभीर चोटें आईं है और वे जीवन-मौत के बीच झूल रहे हैं।

मंच अध्यक्ष ने कहा कि अजय कुमार सरीखे भाजपाइयों का चरित्र ही लोकतंत्र विरोधी और अपराधिक है।

उन्होंने कहा कि गृह राज्य मंत्री को तत्काल बर्खास्त किया जाना चाहिए और पिता–पुत्र समेत इस घटना के सभी ज़िम्मेदारों को अति शीघ्र गिरफ्तार कर फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चलाया जाना चाहिए।

उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से सवाल करते हुए कहा कि क्या अपराध के खिलाफ जीरो टॉलरेंस का दावा करने और सम्पत्तियां जब्त करने का नोटिस भेजने का काम केवल राजनीतिक विरोधियों के लिए है?

रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने कहा कि भाजपा सरकारों के लिए देश और लोकतंत्र नहीं बल्कि उनकी विभाजनकारी विचारधारा महत्वपूर्ण है।

उन्होंने कहा कि एक तरफ केंद्रीय गृह राज्य मंत्री का बेटा खुद को कानून से ऊपर मानते हुए किसानों की हत्या करता है तो दूसरी तरफ हरियाणा के मुख्यमंत्री किसान आंदोलनकारियों के खिलाफ हिंसा करने के लिए सरकारी संरक्षण प्राप्त गुंडों को उकसाते हैं।

राजीव यादव ने कहा कि गोरखपुर में मनीष गुप्ता की हत्या योगी की पुलिस करती है और प्रशासन सरकार के इशारे पर पीड़ित परिवार को समझौता करने का दबाव डालता है। लखीमपुर की घटना के बाद पुलिस हत्यारे अशीष मिश्र को संरक्षण प्रदान करती है। लखीमपुर में धारा 144 लागू करती है और इंटरनेट सेवाएं बंद करती है, राजनीतिक-सामाजिक नेताओं को लखीमपुर जाने से रोकने के लिए अनैतिक तरीके अपनाती है। उन्होंने कहा कि सरकार की कार्रवाइयों से खुद यह साबित होता है कि वह घटना से जुड़े तथ्यों को दबाना चाहती है।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription