भाजपा की मानसिकता किसान विरोधी है : डॉ राकेश सिंह राना

BJP's mentality is anti-farmer: Dr. Rakesh Singh Rana
 | 
Former MLC Samajwadi Party Dr Rakesh Singh Rana

हाथरस (उत्तर प्रदेश) 05 अक्तूबर 2021. समाजवादी पार्टी के पूर्व एमएलसी डॉ राकेश सिंह राना ने कहा है कि लखीमपुर की घटना से साबित कर दिया है कि भाजपा की मानसिकता किसान विरोधी है।

डॉ राना हाथरस की विधानसभा क्षेत्र सिकन्दराराऊ के ग्राम शेरपुर में आयोजित स्वागत समारोह को संबोधित कर रहे थे।

समारोह को संबोधित करते हुए डॉ राकेश सिंह राना ने कहा गोरखपुर में हुई व्यापारी मनीष गुप्ता की हत्या ने उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की पूरी तरह से पोल खोल दी है। लखीमपुर खीरी में भाजपा नेता के अहंकारी बेटे द्वारा विरोध कर रहे किसानों की गाड़ी से कुचल कर हत्या कर दी गई, इससे ये सिद्ध होता है कि भाजपा किसान विरोधी मानसिकता की है।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार में किसान, मजदूर, छात्र व नौजवान पूरी तरह से परेशान है। किसानों की आय डीजल, बिजली व खाद के दाम बढ़ने से आधी हो गई है और भाजपा सरकार झूठ बोलती रहती है कि किसानों की आय दुगनी हो रही है।

सपा नेता ने कहा कि किसान एक साल से अपनी मांगों को लेकर दिल्ली में धरना दे रहे हैं, लेकिन हठधर्मी भाजपा सरकार के कान में जूँ भी नही रेंग रही है। सरकार सरकारी सम्पतियों को बेचकर जनता के पैसे की बर्बादी कर स्वयं अपनी पीठ ठोक रही है।

पूर्व एमएलसी ने कहा कि सिकन्दराराऊ की सारी सड़के खस्ता हाल हैं, साढ़े चार साल से कोई विकास नहीं हुआ, जिसका जवाब जनता देगी व समाजवादी पार्टी की सरकार व माननीय अखिलेश यादव जी को मुख्यमंत्री बनाने का काम करेगी।

भारी संख्या में उपस्थित ग्रामवासियों ने पूर्व एमएलसी डॉ राकेश सिंह राना का बहुत गर्मजोशी से स्वागत किया।

स्वागत करने वालों में प्रमुख रूप से सतीश दिवाकर प्रधान, छोटा बंजारा, भोला बंजारा, सतीश दिवाकर, वीरेंद्र बंजारा, विनोद दिवाकर, ठाकुर पंकज सिंह, ठाकुर सतेंद्र, राना दिवाकर, भारत यादव, पिंकी यादव, हीरो यादव उपस्थित थे।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription