‘खेती बचाओ-लोकतंत्र बचाओ’ आंदोलन का आइपीएफ ने किया समर्थन

 संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से जारी धरने के सात माह पूरे होने पर कल आयोजित ‘खेती बचाओ-लोकतंत्र बचाओ’ आंदोलन का आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट व जय किसान आंदोलन से जुड़े मजदूर किसान मंच ने समर्थन किया है।
 | 
आइपीएफ के राष्ट्रीय प्रवक्ता व पूर्व आई जी एस. आर. दारापुरी
 आइपीएफ व मजदूर किसान मंच के कार्यकर्ता करेंगे विरोध प्रदर्शन

लखनऊ, 25 जून 2021: संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से जारी धरने के सात माह पूरे होने पर कल आयोजित ‘खेती बचाओ-लोकतंत्र बचाओ’ आंदोलन का आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट व जय किसान आंदोलन से जुड़े मजदूर किसान मंच ने समर्थन किया है।

कल के दिन ही देश में आपातकाल भी लगाया गया था इसलिए लोकतंत्र की रक्षा का सवाल कल के कार्यक्रम में उठाया जायेगा।

कल आइपीएफ कार्यकर्ता किसान आंदोलन के समर्थन में पूरे प्रदेश में गांव-गांव विरोध दर्ज करेंगे। विरोध कार्यक्रम में तीनों कृषि कानूनों की वापसी, न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानून बनाने, यूएपीए, राजद्रोह जैसे काले कानूनों को समाप्त करने, रोजगार को मौलिक अधिकार बनाने, सार्वजनिक शिक्षा व स्वास्थ्य व्यवस्था की मजबूती, वनाधिकार कानून के तहत पुश्तैनी जमीन पर अधिकार व ग्राम सभा की फाजिल जमीन गांव के गरीबों को आवंटित करने, सहकारी खेती को मजबूत करने जैसे मुद्दों को मजबूती से उठाया जायेगा।

यह जानकारी प्रेस को जारी बयान में आइपीएफ के राष्ट्रीय प्रवक्ता व पूर्व आई जी एस. आर. दारापुरी व मजदूर किसान मंच के महासचिव डा. बृज बिहारी ने दी।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription