यूपी का व्यापारी भी अब भाजपा की ठोको नीति से प्रभावित : अभिमन्यु त्यागी

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता अभिमन्यु त्यागी (Uttar Pradesh Congress spokesperson Abhimanyu Tyagi) ने कहा है कि भाजपा राज में किसी आम जन की जान की कोई कीमत नहीं है।
 | 
Abhimanyu Tyagi

Traders of Uttar Pradesh are also now affected by BJP's thumping policy: Abhimanyu Tyagi

लखनऊ, 30 सितंबर 2021. उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता अभिमन्यु त्यागी ने कहा है कि भाजपा राज में किसी आम जन की जान की कोई कीमत नहीं है। मध्य वर्ग, गरीब, वंचित, किसान, मजदूर, नौकरीपेशा, छोटा व्यापारी वर्तमान बीजेपी राज में जनविरोधी नीतियों की वजह से आर्थिक तौर पर टूटा हुआ है।

आज यहां जारी एक विज्ञप्ति में कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर में पुलिस द्वारा व्यापारी मनीष गुप्ता की हत्या पर जनता में बहुत रोष है। आज व्यापारी वर्ग नोटबंदी, गलत तरह से लागू हुई जीएसटी, लॉकडाउन से तो टूट ही चुका है और अब उसको जान का खतरा भी है। व्यापारी को बीजेपी के जंगल राज से बचाने की आज बेहद आवश्यकता है।

श्री त्यागी ने कहा कि छोटे मोटे अपराधियों के भी मकान दुकान बुलडोजर से गिराकर ढहाने वाले योगी आदित्यनाथ क्या इन अपराधी पुलिस वालों के मकान ढायेंगे ? शायद नहीं क्योंकि अपने विधायकों की जगह कुछ खास अधिकारियों और पुलिस के सहारे से साढ़े चार साल काम कराने वाले योगी आदित्यनाथ की अपनी पुलिस भी तो बेलगाम हो चुकी है। इतनी बड़ी वारदात के बाद भी योगी आदित्यनाथ सरकार ने दोषी पुलिस कर्मियों की जांच के बाद ही बर्खास्त करने का आदेश दिया है।

उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ ने व्यापारी मृतक स्वर्गीय मनीष गुप्ता के परिजनों को दस लाख आर्थिक मदद की घोषणा की है वो भी एक मजाक भर है। दस लाख तो व्यापारी एक साल में ही कमा लेते हैं। मृतक के परिजनों के घर का खर्च इस महंगाई के दौर में दस लाख रुपए में कितने साल तक चलेगा?

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि पार्टी मांग करती है कि सरकार को मृतक स्वर्गीय मनीष गुप्ता की हत्या के दोषी पुलिस कर्मियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज करा कर उनके घर की कुर्की भी करानी चाहिए और साथ ही मृतक स्वर्गीय मनीष गुप्ता के पुत्र की मुफ्त शिक्षा और साथ ही मृतक की धर्मपत्नी की ओएसडी स्तर की नौकरी की घोषणा के साथ एक करोड़ रुपए की आर्थिक मदद की घोषणा करनी चाहिए।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription