यूएनएससी की नज़र में अब आतंकी नहीं रहा तालिबान ! स्वामी भी हैरान!

भारत की अध्यक्षता में, UNSC ने आतंकवाद पर वक्तव्य में तालिबान के संदर्भ को छोड़ दिया | Under India’s Presidency, UNSC Skips Taliban Reference in Statement on Terror
 | 
Taliban Afghanistan तालिबान अफगानिस्तान
Taliban news in Hindi

भारत की अध्यक्षता में, UNSC ने आतंकवाद पर वक्तव्य में तालिबान के संदर्भ को छोड़ दिया | Under India’s Presidency, UNSC Skips Taliban Reference in Statement on Terror

तालिबान की मदद करके पाकिस्तान अपने मंसूबे कामयाब करने की कोशिश में जुटा था। पाकिस्तान चाहता था कि तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (Tehreek-e-Taliban Pakistan) यानी टीटीपी की समस्या सुलझाने में तालिबान उसकी मदद करे लेकिन पाक की मदद से अफगानिस्तान पर सत्ता कब्जाने वाले तालिबान ने इसे लेकर पाक को ही आंख दिखाना शुरू कर दिया है।

तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद (Taliban spokesman Zabihullah Mujahid) ने पाकिस्तान से दो टूक कहा है कि टीटीपी, पाकिस्तान की समस्या है, जिसे उसे ही खुद सुलझाना होगा न कि अफगानिस्तान को। जबीहुल्ला मुजाहिद ने साफ कहा कि किसी और देश में शांति को नष्ट करने के लिए अफगान की धरती का इस्तेमाल नहीं करने दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि ये पाकिस्तान, पाकिस्तानी उलेमाओं और धार्मिक हस्तियों की जिम्मेदारी है, तालिबान की नहीं।

इस बयान के साथ ही तालिबान ने इस मामले से अपना पल्ला झाड़ लिया और किसी भी तरीके से पाकिस्तान का साथ देने से इंकार कर दिया।

एक ओर तालिबान के इस बयान से पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ गयी हैं, तो दूसरी ओर काबुल हवाई अड्डे में अपने 13 जवानों की जान जाने के बाद से ही अमेरिका की मुश्किलें अलग से बढ़ गई हैं। अमेरिकी जवानों में गुस्सा देखा जा रहा है, खासतौर से जिस तरीके से उनकी अफगानिस्तान से विदाई हुई है.

US Marine officer relieved of command after criticizing military leaders about Afghanistan withdrawal

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अमेरिका सेना के लेफ्टिनेंट कर्नल स्टुअर्ट शेलर (US Army Lieutenant Colonel Stuart Scheller) ने एक वीडियो रिकॉर्ड किया और अफगानिस्तान में अमेरिका की विफलता के लिए सीनियर अधिकारियों और नेताओं से सार्वजनिक रूप से जिम्मेदारी लेने की मांग की। उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर चार मिनट 45 सेकंड का एक वीडियो पोस्ट किया, जिसमें उन्होंने देश के राजनीतिक नेतृत्व को इस असफलता की जिम्मेदारी लेने के लिए कहा है।

 वहीं अफगानिस्तान पर कब्जा करने के दो सप्ताह बाद ही तालिबान को लेकर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का स्टैंड भी बदलता दिख रहा है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद यानी यूएनएससी ने आतंकी गतिविधियों से तालिबान का नाम हटा दिया है।


 

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription