Home » समाचार » देश » डीजल से चलने वाली ट्रेनों में अब नहीं लगेगा अतिरिक्त किराया, सरचार्ज लगाने को रेलवे ने बताया अफवाह
Indian Railways Hindi News

डीजल से चलने वाली ट्रेनों में अब नहीं लगेगा अतिरिक्त किराया, सरचार्ज लगाने को रेलवे ने बताया अफवाह

Indian Railways Hindi News : No additional fare will be charged in diesel-run trains, railways told rumor to impose surcharge

नई दिल्ली, 15 अप्रैल 2022. डीजल इंजन से संचालित होने वाली ट्रेनों से लम्बी दूरी की यात्रा करने वाले यात्रियों से अब रेलवे अधिक किराया नहीं वसूले। अतिरिक्त सर चार्ज लगाए जाने की किसी भी योजना का रेलवे ने खंडन किया है।

भारतीय रेलवे ने बयान जारी कर साफ किया है कि उसकी डीजल से चलने वाली ट्रेनों पर अधिभार लगाने की कोई योजना नहीं है। बयान में कहा गया है कि, “मीडिया का एक वर्ग सवाल कर रहा है कि क्या भारतीय रेलवे उन ट्रेनों पर अधिभार (सरचार्ज) लगाने जा रही है, जो डीजल से चलाई जा रही हैं।

सभी संबंधित लोगों के मार्गदर्शन के लिए सूचित किया जाता है कि भारतीय रेलवे की ऐसी कोई योजना नहीं है। अनुमान निराधार हैं।”

दरअसल, पेट्रोलियम पदार्थों की लगातार बढ़ रही कीमतों के बीच कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि भारतीय रेलवे डीजल से चलने वाली ट्रेनों के टिकटों पर अतिरिक्त शुल्क वसूलेगी। इन मीडिया रिपोर्ट्स के बाद अब रेलवे ने खंडन करते हुए कहा है कि ये अटकलें निराधार हैं।

दरअसल कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि रेलवे बोर्ड डीजल इंजनों से चलने वाली ट्रेनों में यात्रा करने वाले यात्रियों पर 10 रुपये से 50 रुपये के बीच हाइड्रोकार्बन सरचार्ज (एचसीएस) या डीजल कर लगाने की योजना बना रहा था। ये भी कहा जा रहा था कि सरचार्ज उन ट्रेनों पर लागू होगा जो डीजल इंजनों का उपयोग करके अपनी आधी से अधिक दूरी तक चलने वाली ट्रेनों पर चलती हैं। यह ईंधन आयात के प्रभाव को ऑफसेट करने के लिए किया जा रहा है, जो तेल की बढ़ती लागत से गंभीर रूप से प्रभावित हुआ है।

इतना ही नहीं ये अनुमान भी लगाया जा रहा था कि 15 अप्रैल से टिकट बुकिंग के समय इसे टिकट की कीमत में जोड़ दिया जाएगा, जैसा कि उड़ान टिकटों की बुकिंग के मामले में किया जाता है। एसी क्लास के लिए 50 रुपए, स्लीपर क्लास के लिए 25 रुपए और अनारक्षित क्लास के लिए न्यूनतम 10 रुपए फीस तीन कैटेगरी के तहत सरचार्ज की अफवाह थी, जिसे फिलहाल रेलवे ने नकार दिया है।

गौरतलब है कि 22 मार्च से पेट्रोल-डीजल के दाम 10 रुपये बढ़ने के बाद अभी पिछले आठ दिन से नहीं बढ़े हैं। देश में सबसे महंगा डीजल आंध्र प्रदेश के चित्तूर में बिक रहा है। डीजल की कीमत 107.68 रुपये प्रति लीटर है।

अब रेल यात्रियों को कुछ ट्रेनों में मिलेंगे बेडशीट, कंबल और पर्दे

वहीं, कोरोना में राहत के बीच रेल यात्रियों के लिए रेलवे ने भी बड़ी राहत की घोषणा की है। इस घोषणा के अनुसार, अब कुछ ट्रेनों में बेडशीट, कंबल और पर्दे की सुविधा फिर से शुरू कर दी गई है।

कोरोना काल में संक्रमण के प्रसार को रोकने के मकसद से इन सुविधाओं को बंद कर दिया गया था। अब रेलवे ने फिर से इस सुविधा को शुरू किया है।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

shahnawaz alam

अदालतों का राजनीतिक दुरुपयोग लोकतंत्र को कमज़ोर कर रहा है

Political abuse of courts is undermining democracy असलम भूरा केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.