Home » Latest » अब डीसीपी नोएडा ने डिलीट करवाया एएनआई की फेक न्यूज (?) का ट्वीट
ANI UP FAKE NEWS

अब डीसीपी नोएडा ने डिलीट करवाया एएनआई की फेक न्यूज (?) का ट्वीट

Now ANI deleted Fake News (?) Tweet after warning of DCP Noida

नई दिल्ली, 08 अप्रैल 2020 : देश इस समय भयंकर संकट से गुजर रहा है, ऐसे समय में जब लोकतंत्र का चौथा संतंभ कहे जाने वाले मीडिया को गंभीरता और देशभक्ति की परिचय देना चाहिए था, वह फेक न्यूज़ के जरिए देश का माहौल खराब कर रहा है। अब ताजा मामला प्रतिष्ठित समाचार एजेंसी एएनआई का सामने आया है।

मल्टी-मीडिया समाचार एजेंसी एशियन न्यूज इंटरनेशनल (ANI) , के सत्यापित ट्विटर एकाउंट से नोएडा में कोरोना पीड़ितों को लेकर कोई खबर ट्वीट की गई, जिसमें तब्लीगी जमात का जिक्र किया गया होगा (यह ट्वीट अब उपलब्ध नहीं है) इस पर DCP_Noida के ट्विटर हैंडल (@DCP_Noida) से @ANINewsUP को टैग करते हुए कहा गया – जो लोग कोरोना पॉजिटिव लोगों के संपर्क में आए थे, उन्हें निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार संगरोध किया गया था। इसमें तब्लीग जमात का कोई जिक्र नहीं था। आप गलत कोट कर रहे हैं और गलत खबरें फैला रहे हैं।

DCP_Noida के इस ट्वीट में @noidapolice @Uppolice को भी टैग किया गया। इसके बाद संभवतः एजेंसी ने अपना ट्वीट हटा लिया, क्योंकि अब वह ट्वीट दिखाई नहीं पड़ रहा है।

इससे पहले फिरोजाबाद पुलिस ने ज़ी न्यूज़ उप्र का फेक खबर का ट्वीट डिलीट करवाया था।

बता दें सोमवार को जमीयत उलेमा हिन्द ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर निजामुद्दीन मरकज मुद्दे को सांप्रदायिक बनाने वाले मीडिया संस्थानों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

बड़ी खबर : मरकज़ निज़ामुद्दीन के मीडिया ट्रायल से सख्त नाराज़ जमीयत उलेमा हिन्द पहुंची सुप्रीम कोर्ट

कोराना काल में नफ़रत व भेदभाव : भारत का नरभक्षी मीडिया और उसके रक्तपिपासु एंकर अपना वही हिन्दू मुसलमान का भौंडा राग अलाप रहे हैं

 

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

literature and culture

हिन्दी भाषा एवं साहित्य अध्ययन की समस्याएं

शिथिल हुए हैं हिंदी भाषा में शुद्ध-अशुद्ध के मानदंड बीसवीं सदी की दहलीज लांघ कर …