शरीर के सभी अंगों पर नकारात्मक असर डालता है मोटापा : डॉक्टर सुशांत वढेरा

Obesity negatively affects all parts of the body: Dr. Sushant Vadhera

रविवार को लगेगा यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में विशाल निशुल्क मोटापा मुक्ति एवं जागरूकता शिविर

Free obesity prevention and awareness camp will be held on Sunday at Yashoda Super Specialty Hospital

गाजियाबाद 18 जनवरी 2020. गाजियाबाद के कौशाम्बी स्थित यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल (Yashoda Super Specialty Hospital Kaushambi, Ghaziabad) में कल रविवार, 19 जनवरी 2020 को एक निःशुल्क मोटापा मुक्ति एवं जागरूकता शिविर (Obesity Eradication and Awareness Camp) लगाया जा रहा है।

यह जानकारी देते हुए अस्पताल के प्रबंध निदेशक डॉक्टर पीएन अरोड़ा ने बताया यह शिविर मोटापे से ग्रसित लोगों एवं मोटापे की वजह से हुई बीमारियों से परेशान लोगों के लिए वरदान साबित होगा। उन्होंने बताया कि रविवार को प्रातः 10:00 बजे 4:00 बजे तक चलने वाले शिविर में लोगों की निशुल्क जांचें जैसे कि बॉडी फैट एनालिसिस, बीएमआई, हाइट, वेट, ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर की जांच (Body fat analysis, BMI, height, weight, blood pressure, blood sugar test) जाएंगी एवं वरिष्ठ बरिएट्रिक एवं मेटाबॉलिक सर्जन (Senior bariatric and metabolic surgeon in Delhi/NCR) डॉक्टर सुशांत वढेरा द्वारा निशुल्क परामर्श दिया जाएगा।

Bariatric surgery is not just a shortcut to lose weight: bariatric and metabolic surgeon doctor Sushant Vadhera

डॉक्टर सुशांत वढेरा ने जानकारी देते हुए बताया की बेरियाट्रिक सर्जरी महज वजन कम करने का एक शॉर्टकट तरीका नहीं है। यह सर्जरी अधिक मोटापे से छुटकारे के साथ मोटापा जनित रोगों जैसे हाइपरटेंशन, मधुमेह, गठिया जैसे रोगों में भी फायदा पहुंचाती है। किसी का वजन ठीक है, ज्यादा है या बहुत ज्यादा है, इसकी गणना ‘बॉडी मास इंडेक्स’ (बीएमआई) से की जाती है। बॉडी मास इंडेक्स में व्यक्ति की लंबाई और उसके वजन का अनुपात देखा जाता है। जिनका भार स्टैंडर्ड (मानक) भार से दोगुना होता है, उन्हें मोटापे का शिकार माना जाता है। सामान्य से थोड़ा बहुत वजन अधिक होना रोग नहीं है, पर वजन अधिक होने पर सामान्य दिनचर्या को पूरा करने में परेशानी होना समस्या की ओर संकेत करता है। मोटापा एक गंभीर बीमारी है, जिसके साथ सेहत संबंधी कई अन्य समस्याएं जुड़ जाती हैं, जिनमें मधुमेह, हाइपरटेंशन, अनिद्रा, जोड़ों की समस्या, फैटीलिवर, दमा और कुछ तरह के कैंसर आते हैं।

Metabolic Symptom of Obesity in Hindi,

डॉक्टर सुशांत वढेरा ने बताया कि मोटापा सभी अंगों पर नकारात्मक असर डालता है, जिसे मोटापे का मेटाबोलिक सिम्प्टम भी कहा जाता है। हॉस्पिटल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉक्टर सुनील डागर ने कहा कि हम कल लग रहे शिविर में इन जांचों पर ध्यान केंद्रित करेंगे एवं हमारा उद्देश्य है कि लोगों को मोटापे की वजह से होने वाली बीमारियों से बचाया जा सके।

उन्होंने कहा कि कल ही दोपहर 12:00 – 1:00 बजे तक दोपहर 3:00 – 4:00 बजे तक एक मोटापा मुक्ति जागरूकता व्याख्यान का भी आयोजन किया जा रहा है, जिसमें वीडियो लेक्चर के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाएगा साथ ही हॉस्पिटल की वरिष्ठ डाइटिशियन श्रीमती भावना गर्ग एवं वरिष्ठ फिजियोथेरेपिस्ट डाक्टर मुबारक भी इस जागरूकता व्याख्यान में हिस्सा लेंगे।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations