Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » अंतिम संस्कार शुचिता की राजनीति का
Arvind Kejriwal

अंतिम संस्कार शुचिता की राजनीति का

शुचिता की राजनीति – देश को बदलने चले थे, खुद बदल गए

ये तो शुचिता की राजनीति की बात कर रहे थे। किताब नकल की गांधी की तो नारा चुराया जयप्रकाश का। एजेंडा दिखाया समाजवाद का और विलेन बनाया मौजूदा सभी नेताओं को।

Funeral Of purity politics

नई दिल्ली। जो लोगों को बदलने चले थे, देश को बदलने चले थे, राजनीति को बदलने चले थे वे आज खुद बदल गए। आज सही मायनों में अरविंद केजरीवाल नेता बन गए। अब वे लालू, दिग्विजय, पासवान, मुलायम और मोदी जैसे नेताओं की कतार में शामिल हो गए। हम लोग अस्सी के दशक में अपने विश्वविद्यालय की राजनीति के दौर में छात्र नेता चुने जाने के लिए जिस तरह की निर्णायक बैठके करते थे, उसका इंतजाम करते थे वह सब आज आप की बैठक में दिखा। तब हम लोग परम्परागत राजनीति को बदलने का नारा नहीं देते थे और वे सब हथकंडे इस्तेमाल करते थे जो शक्ति प्रदर्शन के लिए जरूरी होता था। पर ये तो साफ सुथरे भारत, भ्रष्टाचार मुक्त भारत और स्वराज की बात कर रहे थे। ये तो शुचिता की बात कर रहे थे। किताब नकल की गांधी की तो नारा चुराया जयप्रकाश का। एजेंडा दिखाया समाजवाद का और विलेन बनाया मौजूदा सभी नेताओं को। आज तो वे वही लाठी वाली, गाली वाली, हुडदंग वाली राजनीति में सने दिखाई पड़े। अब बेहयाई से ये आनंद कुमार, योगेंद्र यादव, अजित झा से लेकर प्रशांत भूषण पर कोई भी आरोप लगाएं, कोई फर्क नहीं पड़ता।

आम आदमी पार्टी की शुचिता की राजनीति का आज अंतिम संसार कर दिया गया। और यह काम किया आम आदमी के नेता अरविंद केजरीवाल ने जो आज खास भी बन गए। वे अब सरकार चलाएं और बाउंसर लेकर राजनीति करें कोई फर्क नहीं पड़ता। पिछले दो महीने से जो-जो कहा जा रहा था वह एक एक कर सच साबित होता गया। पहले पीएसी से निकाला गया फिर एनसी से भी। एक बार भी केजरीवाल ने मोहल्ले के किसी आदमी से राय नहीं ली जो हर काम राय लेकर करते थे। वह लोकतंत्र और स्वराज की बात करते थे, उनका स्वराज आज सामने आ गया। कल उनकी भाषा सामने आई थी, आज उनकी राजनीति भी सामने आ गई। आज पार्टी का विभाजन हो गया। केजरीवाल हरियाणा के अपने पुराने लठैतों के साथ पार्टी का झंडा डंडा ले गए।

आम आदमी पार्टी की छननी में राजनीति पूरी तरह छन चुकी है। एनजीओ वाली राजनीति पाक साफ होकर निकल आई है, जिसको अरविंद केजरीवाल का अब कुशल नेतृत्व मिलेगा तो समाजवादी फिर सड़क पर हैं।

पर अब मंथन का समय इन समाजवादियों का है। कल तक इनके प्रमुख नेता राजनैतिक विचारधारा को अप्रासंगिक बता रहे थे, अब जरा सोचें इनके पास बचा क्या है। अब इनकी पहचान क्या है। बिना किसी विचारधारा की राजनीति, कभी लाठी गोली से चलती है तो कभी बाउंसर से।

अन्ना आंदोलन के दौर में इस बिना विचार की राजनीति के खिलाफ खूब लिखा पर बाद में लगा कि कुछ बदलेगा।

बदला भी जब अरविंद केजरीवाल ने किसान और मजदूर की बात की, अन्ना ने भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ अभियान छेड़ा। पर यह सब सिर्फ रणनीति रही। केजरीवाल ने अपना रास्ता अपनी राजनीति आज सार्वजनिक कर दी तो अन्ना हजारे बिना किसी से राय लिए भूमि अध्यादेश के खिलाफ इकतीस मार्च से शुरू होने वाली यात्रा स्थगित कर चुके हैं। यह विचार विहीन राजनीति का चरम है जो कभी टोपी से चली तो कभी टीशर्ट से तो कभी तिरंगे से। अब आप से निकाले गए लोगों की बारी है। वे जैसा कद चाहते थे मीडिया बना चुका है, अब वे जो राजनीति चाहते हैं, उससे एक बड़ी लकीर खींच कर दिखाए। राजनीति में कोई विराम नहीं होता है वह चलती आई है नए नए प्रयोगों के साथ तो फिर चलेगी।

अंबरीश कुमार
जनादेश

Ambrish Kumar Ambrish Kumar Jansatta Binayak Sen Binayak Sen (बिनायक सेन) current news Deendayal Upadhyaya Gujarati headline news Kashmiri Latest News latest news today Lok Sabha Elections 2019 News news headlines online news. Top News Vinayak Sen Viren Dangwal अंबरीश कुमार अधिनायकवाद अभिषेक श्रीवास्तव अस्मिता विमर्श कश्मीर कश्मीरी कुत्ते जानिए जुमलेबाज दीनदयाल उपाध्याय देशद्रोह धर्मांतरण नागपुर प्लास्टिक बिनायक सेन भाजपा मछली मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी यौन उत्पीड़न राष्ट्रीय ध्वज लोकसभा चुनाव 2019 विजय माल्या विनायक सेन विरोध वीरेन डंगवाल शौचालय सरदर्द

About हस्तक्षेप

Check Also

Ajit Pawar after oath as Deputy CM

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित किया

जनतंत्र के काल में महलों के षड़यंत्रों वाली दमनकारी राजशाही है फासीवाद, महाराष्ट्र ने साबित …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: