Home » समाचार » अंबेडकर  की बात करने वाले रोहित वेमुला की तरह मार दिये जायेंगे!!!

अंबेडकर  की बात करने वाले रोहित वेमुला की तरह मार दिये जायेंगे!!!

जाति उन्मूलन के बिना कोई क्रांति नहीं, तो क्रांति के बिना जाति उन्मूलन भी असंभव
बाबासाहेब के मिशन को लेकर छात्रों युवाओं ने रचा जाति उन्मूलन पब्लिक कंवेंशन!
भद्रलोक कोलकाता के दिल में सामाजिक क्रांति की दस्तक  
पलाश विश्वास
कोलकाता। बाबासाहेब अंबेडकर के जाति तोड़ो मिशन का समर्थन वर्चस्ववादी ब्राह्मणवादी नहीं कर सकते तो इससे भी बड़ा सच यह है कि जो लोग इस जाति व्यवस्था की वीभत्सता के, इसकी निर्मम पितृसत्ता के सबसे ज्यादा शिकार स्त्री पुरुष हैं, बिना कुछ करे जाति के आधार पर उनकी श्रेष्ठता और उनकी हीनता की अभिव्यक्ति ही उनकी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है मनुष्यता के विरुद्ध तो बाबासाहेब के अनुयायी ही उनके इस मिशन के खिलाफ है।
अंबेडकरी दलित शोध छात्र रोहित वेमुला इसी जाति उन्मूलन की परिकल्पना की बात करते रहे हैं और उनका मानना था व्यक्ति और समूह के तौर पर हर स्तर पर हर पक्ष की ओर से जाति तोड़ने की पहल नहो तो एकतरफा कोई विधि नहीं है जिससे जाति टूटे।
इस महादेश में वैज्ञानिक ब्राह्मणवादी वर्चस्व की अखंड प्रयोगशाला बंगाल की भद्रलोक राजधानी में शिक्षा और संस्कृति के केंद्र स्थल में रविवार को पर्यावरण दिवस पर जाति उन्मूलन पर गण सम्मेलन का आयोजन उन्हीं रोहित वेमुला की याद में हुआ और सबसे खास बात है कि इसमें बारी संख्या में जाति धर्म भाषा के आर पार छात्र और युवाजनों ने भाग लिया।
आंनद तेलतुंबड़े के मुताबिक जाति के इस, स्थाई बंदोबस्त के टूटने की उम्मीद इन्हीं नई पीढ़ी की निरंतर सक्रियताओं से बन रही है।
रोहित वेमुला के मित्र अंकगणित के प्रोफेसर तथागत सेनगुप्त ने सम्मेलन में साफ-साफ कहा कि जाति उन्मूलन के बिना कोई क्रांति नहीं हो सकती तो क्रांति के बिना जाति उन्मूलन भी असंभव है।
इसी मौके पर  बाबासाहेब की विचारधारा और भारतीय संविधान से सिलसिलेवार उद्धरण देते हुए रोहित के मित्र प्रशांत ने इस सम्मेलन के जरिये चेतावनी जारी कि हिंदू राष्ट्र सबसे बड़ा खतरा है और हम कीमत पर इसका मुकाबला करना होगा और अंबेडकर  की बात करने वाले रोहित वेमुला की तरह मार दिये जायेंगे।
इसी मौके पर  बाबासाहेब की विचारधारा और भारतीय संविधान से सिलसिलेवार उद्धरण देते हुए रोहित के मित्र प्रशांत ने इस सम्मेलन के जरिये चेतावनी जारी कि  मनुस्मृति अनुशासन के लिए शिक्षा दीक्षा का हिंदूकरण किया जा रहा है तो इसका प्रतिरोध भी छात्रों और युवाओं को करना होगा।
जाहिर है कि पेड़ कहीं गिरता है तो गूंज हिमालय के जख्मी दिल के हर कोने में दर्ज हो जाती है।
हर बदलाव के लिए एक बेहद मामूली पहल की हिम्मत जरूरी होती है।
कोलकाता में ठहरे हुए तालाब के पानी में पत्थर पहलीबार पड़ा है तो इसके असरात के बारे में अभी कोई अंदाजा भी नहीं है।
बहरहाल जाति व्यवस्था के शिकंजे में भयंकर पाखंडी प्रगति के तिलिस्म में फंसे बंगाल में आखिरकार बिना अंबेडकरी आंदोलन या बिना प्रगतिशील भूमिका के होक कलरव की पृष्ठभूमि में रोहित वेमुला की संस्थागत हत्या के खिलाफ केसरिया सुनामी से बार बार लहूलुहान छात्र युवा समाज की पहल से डंके की चोट पर जाति उन्मूलन के मिशन का ऐतिहासिक प्रस्ताव पब्लिक कंवेंशन में पास हो गया। फाइन प्रिंट मिल जाने पर उसे हम साझा भी करेंगे।
 इस मौके पर घोषणा के मुताबिक रोहित की मां राधिका वेमुला और उनके भाई राजा वेमुला अदालत में पेशी हो जाने की वजह से पहुंचे नहीं तो पता नहीं था कि कोलकाता के अखबारों में क्या खबर कैसे छपेगी क्योंकि मौके पर पहुंचे फोटोकार लगातार तस्वीरें खींचते रहे लेकिन संपादकों की नजर में बिना राधिका वेमुला और राजा वेमुला की मौजूदगी के जाति उन्मूलन के बाबासाहेब के मिशन लागू करने के लिए जातियों और अस्मिताओं के आर पार देश जोड़ने की इस मुहिम खबर है या नहीं, कल तक मीडिया में रहे हमारे लिए भी कहना मुश्किल था।
कोलकाता के बांग्ला मीडिया, हिंदी मीडिया ने इस घटना को सिरे से नज़रअंदाज किया तो अंग्रेजी अखबारों ने जाति उन्मूलन पर गण सम्मेलन के बजाय रोहित के मित्रों का यादवपुर विश्वविद्यालय के छात्रों को समर्थन की खबर छापी। यह है सूचना विस्फोट का रंगभेद।
राधिका वेमुला ने इस मौके पर मृत पुत्र की जाति जैविकी पिता के आधार पर तय करने की मुहिम के जरिये उसकी संस्थागत हत्या के सत्ता पहरुए अपराधियों को बचाने की मुहिम का पत दर परत खुलासा करते हुए इस जाति उन्मूलन के सम्मेलन के लिए भेजे अपने संदेश में स्त्री और दलित दोनों वजूद पर होते पितृसत्ता और मनुस्मृति के सिलसिलेवार हमलों और उत्पीड़ना का जो ब्यौरा लिखकर भेजा है, यह भी तय नहीं था कि कारपोरेट मीडिया में सत्ता और मुक्तबाजार को बेनकाब करने वाले उस संदेश की भी कोई खबर होगी या नहीं। मैंने आज सुबह ऐसी कोई खबर नहीं देखी।
नई दिल्ली के केंद्रीय शिक्षा मंत्रायल से अंबेडकरी छात्रों के सामाजिक बहिस्कार के फतवे के तहत जारी जो पांच पत्र हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय के उपकुलपति को लिखे गये, जिसके अंजाम के बतौर रोहित वेमुला को खुदकशी अपने जन्म परिचय के अपराध में, जनमजात दलित होने की वजह से करनी पड़ी, उसी सामाजिक बहिस्कार के शिकार अनशन और आंदोलन में उनके साथी प्रशांत ने जाति उन्मूलन के बाबासाहेब के एजेंडा और उसे लागू करने के लिए बहुपक्षीय परिकल्पना पर रोहित के वैज्ञानिक शोध को सिलसिलेवार पेश किया।
उसी विश्वविद्यालय के मैथ्स के प्रोफेसर डा. तथागत सेनगुप्त ने उच्चशिक्षा के पवित्र मंदिर में अनेपक्षित अस्पृश्य बहुजन छात्रों के साथ होने वाले वैज्ञानिक भेदभाव के पूरे फेनोमेनान का खुलासा किया और कोलकाता के अपने नये पुराने अनुभवों के उदाहरण से छात्रों युवाओं की आंखें खोल दी तो हैदराबाद फैकल्टी के ही शिक्षक कुणाल दुग्गल ने फैज अहमद फैज के तख्तोताज पलटने वाली वह नज्म गाकर सुनाया जिसे गाने के अपराध में उन्हें विश्वविद्यालयविरोधी कहा गया।
प्रशांत ने बाकायदा बाबासाहेब के विचारों, संविधान सभा में उनकी दलीलों, संवैधानिक प्रावधानों के हवाले से देश भर के विश्वविद्यालयों के हिंदू राष्ट्र के एजेंडे के तहत केसरियाकरण अभियान का खुलासा करते हुए अंध धर्मोन्मादी राष्ट्रवाद के तहत जनपक्षधर तमाम नागरिकों को, खासतौर पर बहुजनों, आदिवासियों और अल्पसंख्यकों को राष्ट्रद्रोही करार दिये जाने के संघी तर्कों का सिलसिलेवार खंडन किया और बाबासाहेब का ही उद्धरण देकर मुक्तबाजार के हिंदू राष्ट्र को मनुष्यता और सभ्यता के लिए सबसे बड़ा खतरा बताते हुए हर कीमत पर इसे रोकने का संकल्प दोहराया और इस संकल्प को दोहराने वाले बंगाल के छात्र युवा भी हैं।
जाति व्यवस्था और हिंदुत्व, नागरिकता और अर्थव्यवस्था के साथ साथ सामाजिक यथार्थ का विश्लेषण करते हुए डा.आनंद तेलतुंबड़े ने कहा कि शिक्षा का बाजारीकरण हो रहा है और शिक्षा सरकार या समाज का उत्तरदायित्व नहीं है, क्रयशक्ति के आधार पर शिक्षा सेल्फ फाइंनेस में बदलने का यह हिंदुत्व उपक्रम है जिससे सत्तावर्ग के सिवाय किसी के लिए भी मनुस्मृति बंदोबस्त के तहत शिक्षा निषिद्ध होगी और इसे छात्र युवा समझ रहे होगे तो यह आंदोलन किसी एक विश्वविद्यालय एक संस्थान में सीमाबद्ध नहीं रहेगा। लेकिन हर हाल में आंदोलन का प्रस्थानबिंदु जाति उन्मूलन का एजेंडा होना चाहिए क्योंकि जाति हमारी एकता में सबसे बड़ा अवरोध है, जाति के रहते न  हम एक हो सकते हैं और न किसी भी तरह का परिवर्तन संभव है।
कोलकाता में जाति उन्मूलन का यह गण सम्मेलन कोई खबर नहीं है क्योंकि प्रगतिशील बंगाल में पार्टीबद्धता के दायरे से बाहर दलितों पिछड़ों, आदिवासियों, शारणार्थियों और स्त्रियों की खबर सिर्फ आपराधिक मामले में ही बनने की रीत रही है और वर्ण वर्चस्व के रंगभेदी तिलिस्म में किसी हलचल की खबर संघ परिवार के गुप्त एजेंडे के मुताबिक कायदे कानून के तहत आरक्षण कोटा में प्रतिनिधित्व दिखाने के लिए जरुरी आंकड़ों के आगे किसी को किसी भी तरह का कोई मौका सत्तावर्ग के हितों के खिलाफ न देने की रघुकुल रीति चली आ रही है।
बंगाल में बहुजनों के आंदोलन का नेतृत्व भी सत्तावर्ग के पास है और वोटबैंक सत्ता से नत्थी हो जाने के बावजूद जनसंख्या के लोकतंत्र में एक अदद संख्या के अलावा किसी की कोई नागरिक और मानवीय पहचान नहीं है।
बंगाल में जाति व्यवस्था मिस्टर इंडिया की तरह अदृश्य और सर्वव्यापी है और बिना जाति पूछे रंगभेदी जातिवाद का वर्चस्व इतना प्रबल है कि बंगाल के कामरेड तक सत्ता उपहार की थाली में दक्षिणपंथी ब्राह्मणवाद के हवाले कर देना बेहतर मानते हैं बजाय इसके कि पार्टी के नेतृत्व में जाति वर्ग वर्चस्व खत्म करके सभी समुदायों को बराबर प्रतिनिधित्व दिया जाये।
इस लिहाज से कोलकाता में रविवार को जो हुआ वह निःशब्द रक्तहीन विप्लव का एक दृश्यमात्र है जिसे देशभर के दृश्यों को जोड़कर हम नई फिजां रच सकते हैं।

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: