Home » अभी भी सामाजिक अभिजनों का एक टूल है मीडिया

अभी भी सामाजिक अभिजनों का एक टूल है मीडिया

मीडिया पहुँच में विस्तार की सीमा
राजसत्ता जिस सामाजिक समूह के हाथों में रहेगी, मीडिया भी उसी सामाजिक समूह के हाथों में रहेगा
देवेन्द्र कुमार

आज मीडिया की पहुँच में विस्तार की चर्चा जोरों पर है, पर मीडिया पहुँच में यह विस्तार अर्थव्यवस्था में बदलाव का प्रतिफल व बाजार की मजबूरी है, उदारीकरण व वैश्वीकरण की देन है। इस मीडिया पहुँच में विस्तार के कारण वैश्विक ग्राम की संकल्पना को साकार रूप लेते दिखलाया जा रहा है, पर सच्चाई यह है कि सामाजिक पहुँच के मामले में मीडिया का दायरा अभी भी तंग है। यह अभी भी अपने पुराने सामाजिक समीकरणों के जकड़न में जकड़ा है। इसके रंगरूप में परिवर्तन तो हुये हैं और हो भी रहे हैं, नये चमक-दमक और चासनी के साथ इसे परोसा तो जा रहा है पर यह अभी भी समाज के हर वर्ग की पीड़ा, उसकी जटिलता और सामाजिक विशिष्टता को सामने नही ला पा रहा है। नये कलेवर और रंग-रूप के बाबजूद भी इसकी आत्मा अभी भी मूल रूप से सामन्ती और अभिजातीय ही है।

पसरते बाजारवाद व बहुराष्ट्रीय कम्पनियों के वर्चस्व ने न सिर्फ हमारे सामाजिक ताने-बाने को विखराव के कगार पर ला खड़ा कर दिया है वरन् मीडिया को भी उपभोक्ता-उत्पादन का एक साधन बना दिया है। परन्तु यहाँ यह भी ध्यान रहे कि तमाम प्रतिस्पर्धा एवम् बाजार पर कब्जा जमाने के होड़ के बाबजूद मीडिया अपना सामन्ती व अभिजातीय चरित्र को छोड़ना नहीं चाहता। इसी लिये ग्रामीण समाज की घटनाओ का, वहाँ आ रहे सामाजिक परिर्वतन को,  सामाजिक संरचना में आ रहे बदलाव को ये अपने वर्गीय हित और स्वार्थ के अनुरूप ही प्रस्तुत करते हैं। यहाँ यह बात याद रहे कि मीडिया आज जिस सजगता से भ्रष्टाचार के मसलों को उठा रहा है, उस के पीछे भी एक राजनीति है। जहाँ ग्रामीण समाज के भ्रष्टाचार में पहले एक विशिष्ट वर्ग की ही वर्चस्व था, वह टूटा है और भ्रष्टाचार पर काबिज समूह से इतर समूहों की भागीदारी बढ़ी है। क्या आज से बीस-पच्चीस वर्ष पूर्व किसी दलित-आदिवासी युवक का ठेका-पट्टा लेने या अभिकर्ता बनने की बात सोची भी जा सकती थी। पर ग्रामीण समाज में यह परिदृष्य आज आम है।

इसमें दो मत नहे कि भ्रष्टाचार एक सामाजिक अभिशाप है। पर सच्चाई यह भी है कि जब तक इस भ्रष्टचार पर किसी एक समूह का वर्चस्व रहता है तब तक इसे पूजा समझ इसकी उपसाना की जाती है पर ज्योंही इसमें दूसरे वंचित-शोषित समूहों की हिस्सेदारी-भागीदारी बढ़ती है, हाय-तौबा का दौर शुरू हो जाता है। इसे भ्रष्टचार के रूप में चिह्नित किया जाने लगता है। क्या भ्रष्टाचार में सभी समूहों की बढ़ती भागीदारी-हिस्सेदारी को लोकतन्त्र का विस्तार या दबाव नहीं कहा जा सकता।

ग्रामीण समाज की सामाजिक संरचना, चरित्र एवम् सोच में जो बदलाव आया है, मीडिया उसको सामने नहीं लाता, क्योंकि इससे उसके वजूद को खतरा है। मीडिया पर काबिज सामाजिक अभिजनों की यह पूरी कोशिश है कि मीडिया पर उसका जो वर्चस्व व एकाधिकार है उसके कोई सुराग पैदा नहीं हो, वह उसके हाथों से सरक कर दूसरे के हाथों में नहीं चला जाये। इसलिए ये मीडिया में वैसे सामाजिक समूहों के प्रवेश पर अघोषित रोक लगाते हैं, जो इनके सामन्ती अभिजातीय वर्चस्व में दरार पैदा कर दे। नहीं तो क्या कारण है, जहाँ आर्थिक रूप से कमजोर उच्च-जातियों को आरक्षण देने की बात की जा रही है और मीडिया में बड़े ही तथ्यपरक ढँग से इसकी अनिवार्यता को उठाया जा रहा है, इसकी सामाजिक उपादेयता सामने लायी जा रही है, उच्च-जातियों में कमजोर समूहों की इस अनारक्षण की स्थिति को प्रतिभा का हनन बतलाया जा रहा है वहीं मीडिया कभी इस बात को सामने नहीं लाता कि खुद मीडिया में भी दलित, वंचित, शोषित समूहों को आरक्षण प्रदान किया जाये। इसमें भी सामाजिक-शैक्षणिक रूप से पिछड़े व वंचित समूहों की भागीदारी को सुनिश्चित करने के लिये नियम-परिनियम निर्धारित किया जाये। आखिर कितने दलित-पिछड़े व आदिवासी मीडिया में हैं। वे तो मात्र उपभोक्ता हैं और उत्पादनकर्ता है मुट्ठी भर उच्च-जातियाँ। इतिहास में पहली बार किसी उत्पादन की सम्पूर्ण प्रक्रिया को उच्च-जातियों ने अपने हाथों में रखा है और किसी भी कीमत पर इसे अपने हाथों से सरकने नहीं देना चाहता। किसी को राजदार- भागीदार बनाना नहीं चाहता तो इसके कुछ कारण हैं। उनकी कुछ मजबूरियाँ और स्वार्थ हैं।

इसी लिए जिस ‘‘मीडिया एम्सपलोजन’’ की बात की जा रही है, मीडिया पहुँच में विस्तार का जो शोर-गुल किया जा रहा है, उससे आम आदमी को, शोषित-वंचित समूहों एवम् तबकों को लाभ पहुँचने के आसार नहीं लग रहे हैं। निश्चित रूप से इन समूहों का मीडिया तक पहुँच बढ़ी है पर इसका कारण इनकी क्रय क्षमता में हुआ इजाफा है और मीडिया उनकी इस बढ़ती क्रय क्षमता का अपने हित में प्रयोग चाहता है। मीडिया की दृष्टि पढ़ने-लिखने में बढ़ती उनकी रूचि में है। दलित, वंचित जातियों में एक बन्द दायरे से बाहर निकल दुनिया को देखने समझने की उत्सुकता जागी है। पर मीडिया में कोई बदलाव नहीं आ रहा। मीडिया अभी भी सामाजिक अभिजनों का एक टूल है, जिसका इस्तेमाल वह अपने सामाजिक किलेबन्दी को मजबूत करने में, उसमें आ रहे सुराखों को दुरूसत करने में कर रहा है।

सच्चाई यही है कि जिस सामाजिक समूह के हाथों में राजसत्ता रहेगी, मीडिया भी उसी सामाजिक समूह के हाथों में रहेगा। उससे स्वतन्त्र इसका अपना कोई वजूद हीं है। मीडिया की कथित स्वतन्त्रता मात्र इतनी है कि शासक समूहों के आपसी अन्तर्विरोधों, संघर्षों एवं सामाजिक विभाजनों को सामने ला सकता है और ला रहा है और अभी इसकी उपादेयता है और सीमा भी अगर मीडिया अपनी इस सीमा को तोड़ दे तो निश्चित रूप से एक सामाजिक क्रांति की सरजमीन तैयार हो सकती है। पर तब मीडिया पर एक विशिष्ट वर्ग के आधिकार का क्या होगा? पर इतना निश्चित है कि जैसे-जैसे राजसत्ता पर दूसरे समूहों की भागीदारी बढ़ेगी वैसे-वैसे मीडिया पर भी उस समूहों का प्रभाव बढ़ेगा और तब वहाँ तमाम अवरोधों को पार कर अपनी हिस्सेदारी भागीधारी को सुनिश्चित कर लेगा। वैसे मीडिया पर काबिज सामाजिक अभिजन इस प्रक्रिया का विरोध करेंगे पर इतिहास की एक अपनी अटूट-अविराम धारा होती है वह अपनी ही धुन में लीन अपना काम करते रहता है जिसे न तो रोका जा सकता है और न बदला नहीं होते। क्या इतिहास से सबक ले मीडिया पर काबिज अभिजन अपने सोच व दृष्टि में कोई बदलाव लायेंगे।

अब समय आ गया है कि मीडिया अपनी सामाजिक संरचना में परिवर्तन लाये और अपनी विश्वसनीयता में नित्य-प्रति दिन हो रहे क्षरण को रोक कर अपनी पहुँच की सीमा को विस्तारित करे। तब ही मीडिया में दूसरे सामाजिक समूहों की भागीदारी बढ़ेगी। मीडिया की प्रतिष्ठा पुर्नस्थापित होगी और मीडिया पहुँच की सीमा में विस्तार।

About the author

देवेन्द्र कुमार, लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं। मगध विश्वविद्यालय से मनोविज्ञान में एम.ए., एल एल बी, भारतीय विद्या भवन, मुम्बई से पत्रकारिता की डिग्री। क्षेत्रीय व राष्ट्रीय समाचारपत्रों, पत्र-पत्रिकाओं में सामाजिक-राजनीतिक विषयों पर आलेखों का प्रकाशन, बेव मीडिया में सक्रिय व लेखन। छात्र जीवन से ही विभिन्न जनमुद्दों पर सक्रियता। विभिन्न सामाजिक संगठनों सें जुड़ाव।

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: