Home » समाचार » इलाहाबाद में वामपंथियों पर संघी वकीलों ने पुलिस के संरक्षण में किया हमला

इलाहाबाद में वामपंथियों पर संघी वकीलों ने पुलिस के संरक्षण में किया हमला

सांप्रदायिकता विरोधी ताकतों पर हिंसक हमले अखिलेश यादव को पड़ेंगे महंगे- रिहाई मंच

तड़ीपार रहे अमित शाह पर यूपी आने पर लगे प्रतिबंध

संघी वकीलों द्वारा महिलाओं पर हमले ने फिर उजागर किया महिला विरोधी संघी मानसिकता

संघियों के हमले से नहीं दबने वाला रोहित वेमुला और जेएनयू के छात्रों का सवाल- रिहाई मंच

लखनऊ 25 फरवरी 2016। रिहाई मंच ने इलाहाबाद कचहरी में रोहित वेमुला और जेएनयू के छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अन्य छात्रों के सवाल पर किए जा रहे धरने पर आरएसएस के गुण्डे वकीलों द्वारा किए गए हमले की कड़ी निंदा की।

मंच ने कहा कि आगामी 16 मार्च को लखनऊ में होने वाला ‘जन विकल्प मार्च’ सपा और भाजपा के सांप्रदायिक गठजोड़ को बेनकाब करेगा।

इंसाफ अभियान के प्रदेश प्रभारी हाईकोर्ट अधिवक्ता राघवेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि इलाहाबाद में आरएसएस पोषित वकीलों द्वारा हमला पूर्वनियोजित व पुलिस के संरक्षण में हुआ।

उन्होंने कहा कि जिस तरीके से संघी गुण्डों ने महिला कार्यकर्ताओं पर हमले ही नहीं किए बल्कि उनके साथ आभद्रता और भद्दी-भद्दी गालियां दी उसने इन संघी राष्ट्रवादियों का महिला विरोधी चेहरा बेनकाब किया है।

उन्होंने बताया कि केके पाण्डेय, विकास स्वरुप, अन्तस सर्वानंद, अखिल विकल्प, अविनाश मिश्रा, उत्पला, मानविका, झरना मालवीया, सुनील मौर्या, रणविजय, उमाशंकर, भीम सिंह चंदेल, राजेश सचान, सुभाष कुशवाहा, डॉ. कमल, अंकुश दुबे इस हमले में घायल हुए।

उन्होंने कहा कि सांप्रदायिकता विरोधी ताकतों पर सपा के सरंक्षण में किए जा रहे हर संघी हमले का जवाब दिया जाएगा।

रिहाई मंच प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य अनिल यादव ने कहा कि कल अमित शाह के यूपी में बहराइच दौरे के बाद जिस तरीके से लखनऊ में और आज इलाहाबाद में संघियों ने हिंसक हमले किए उसने साफ कर दिया कि सपा सरकार के पुलिसिया संरक्षण में भाजपा के गुण्डे हमले कर रहे हैं। इसीलिए हमलावरों को पकड़ना तो दूर उनके खिलाफ एफआईआर तक दर्ज नहीं किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि ठीक इसी तरह मुजफ्फरनगर सांप्रदायिक हिंसा भी गुजरात से तड़ीपार अमित शाह के यूपी में सक्रिय होने के बाद हुई।

उन्होंने मांग की कि अखिलेश यादव अमित शाह के यूपी में आने पर प्रतिबंध लगाएं।

अनिल यादव ने कहा कि जिस तरीके से भाजपा रोहित वेमुला के सवाल पर दलितों की बीच घिर गई है ऐसे में यूपी में सुहेलदेव की मिथकीय सांप्रदायिक इतिहास को हवा देकर वह यूपी के तराई हिस्सों में सांप्रदायिकता की आग भड़काने का षडयंत्र रच रही है।

रिहाई मंच नेता शकील कुरैशी ने आरोप लगाया कि जो खुफिया एजेंसियां बहराइच में सिमी के सक्रिय होने की झूठी खबरें मीडिया में प्लांट करती हैं उन्हें इन संघियों द्वारा सांप्रदायिकता का जो बारुद बिछाया जा रहा है वह क्यों नहीं दिख रहा है।

उन्होंने अपील की कि प्रदेश में सांप्रदायिक व जातीय हिंसा के खिलाफ मजबूत आवाज उठाने के लिए 16 मार्च को होने वाले ‘जन विकल्प मार्च’ में इंसाफ पसंद अवाम ज्यादा से ज्यादा तादाद में पहुंचे।

About हस्तक्षेप

Check Also

Ajit Pawar after oath as Deputy CM

राष्ट्रपिता के प्रपौत्र ने कसा फिकरा, मोदीशाह लॉन्ड्री में अजीत पवार की सफाई

राष्ट्रपिता के प्रपौत्र ने कसा फिकरा, मोदीशाह लॉन्ड्री में अजीत पवार की सफाई नई दिल्ली, …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: