Home » समाचार » उपराष्ट्रपति नहीं, प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री ने तोड़ा प्रोटोकॉल- सोशल मीडिया पर छिड़ा विवाद

उपराष्ट्रपति नहीं, प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री ने तोड़ा प्रोटोकॉल- सोशल मीडिया पर छिड़ा विवाद

नई दिल्ली। राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान राष्ट्रगान बजने के समय उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी द्वारा राष्ट्र ध्वज को सलामी नहीं देने को लेकर सोशल मीडिया पर छिड़े विवाद पर उपराष्ट्रपति कार्यालय ने बयान जारी कर स्पष्ट किया हैकि प्रोटोकॉल के मुताबिक इसकी आवश्यकता नहीं है दूसरी तरफ इस विवाद को तूल देने वालों की सोशल मीडिया पर ही निंदा हो रही है और कहा जा रहा है कि प्रधानमंत्री व रक्षा मंत्री को स्वयं को शिक्षित करने की आवश्यकता है क्योंकि प्रोटोकॉल रक्षामंत्री और प्रधानमंत्री ने तोड़ा है।

संयुक्त सचिव और उपराष्ट्रपति के ओएसडी गुरदीप सप्पल का बयान एक एजेंसी के मार्फत मीडिया में आया है, जिसमें कहा गया है, ‘‘गणतंत्र दिवस परेड के दौरान भारत के राष्ट्रपति सर्वोच्च कमांडर के नाते सलामी लेते हैं। प्रोटोकॉल के मुताबिक उपराष्ट्रपति को सावधान की मुद्रा में खड़ा होने की जरूरत होती है.’’

सप्पल ने कहा, ‘‘जब उपराष्ट्रपति प्रधान हस्ती होता है तो वह राष्ट्रगान के दौरान पगड़ी पहनकर सैल्यूट देते हैं जैसा कि इस वर्ष एनसीसी शिविर में हुआ।’’

उपराष्ट्रपति के ओएसडी व राज्यसभा टीवी के सीईओ व एडिटर इन चीफ सप्पल ने ट्वीटर पर वह वीडियो शेयर किया है जिसमें यह दिख रहा है कि उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी राज्यसभा की कार्यवाही के दौरान चल रहे सावधान की मुद्रा में खड़े हैं।

गणतंत्र दिवस समारोह के तुरंत बाद राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के तिरंगे को सलामी देने और उपराष्ट्रपति अंसारी के ऐसा नहीं करने के फोटो ट्विटर और फेसबुक पर वायरल हो गए थे। संघ कबीले की साइबरवाहिनी ने अंसारी की देशभक्ति पर सवाल उठाने शुरू कर दिए थे। संघ कबीले की इस हरकत का सोशल मीडिया में खासा प्रतिवाद हुआ और लोगों ने राष्ट्रीय ध्वज के प्रोकॉल संबंधी धारा का स्नैपशॉट शेयर कर संघी ट्रोल की निंदा की। लोगों ने संघ कबीले की इस हरकत पर तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि इसे ‘‘अनावश्यक एवं शर्मनाक’’ करार दिया।

निजी चैनल को एबीपी न्यूज पर भी विशेषज्ञ कर्नल यू.एस राठौर ने बताया था, ‘राजपथ पर हुए गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी का सलामी के लिए हाथ नहीं उठाना बिलकुल सही था आज के दिन सेना से सलामी लेने का हक महामहिम राष्ट्रपति का होता है, वह ही इस सलामी का जवाब देते है। ऐसे में सलामी के लिए सिवाय राष्ट्रपति के वहां मौजूद किसी को भी हाथ नहीं उठाना चाहिए था।’

वरिष्ठ पत्रकार शेषनारायण सिंह ने कहा है कि प्रधानमंत्री व रक्षामंत्री ने अनभिज्ञता, उत्तेजना अथवा अनुभवहीनता में प्रोटोकॉल तोड़ा है। उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी 1980-85 के मध्य चीफ प्रोटोकॉल ऑफीसर रहे हैं, वे राष्ट्रध्वज के प्रोटोकॉल को अन्य से बेहतर समझते हैं।

उधर पूर्वउपराष्ट्रपति और भारतीय जनता पार्टी के दिवंगत नेता भैरों सिंह शेखावत की तस्वीरें भी सोशल मीडिया में वायरल होने लगी हैं, जिसमें उपराष्ट्रपति के तौर पर शेखावत झंडे को सलामी नहीं दे रहे हैं।


Vice President is also Chairman,Rajya Sabha. RS session always concludes with musical rendition of Vande Mataram https://t.co/WJQ080ogVv

— Gurdeep Singh Sappal (@gurdeepsappal) January 27, 2015
 
For my friends who believed an ill-informed diatribe. Vice President of India during National Anthem & National song https://t.co/xiwn64Rh7S — Gurdeep Singh Sappal (@gurdeepsappal) January 27, 2015
 
Sec VI- Flag Code of India: All persons present shud face Flag & stand at attention. Those present in uniform shud render appropriate salute — Gurdeep Singh Sappal (@gurdeepsappal) January 26, 2015
 
1/3Protocol: When National Anthem is played, Principal Dignitary & persons in uniform take salute. Those in civil dress stand in attention — Gurdeep Singh Sappal (@gurdeepsappal) January 26, 2015
 
3/3When the Vice President is the Principal Dignitory, he salutes during National Anthem, wearing a head gear. As done at NCC camp this week — Gurdeep Singh Sappal (@gurdeepsappal) January 26, 2015
 
1/1Protocol: When National Anthem is played, Principal Dignitary & persons in uniform take salute. Those in civil dress stand in attention — Gurdeep Singh Sappal (@gurdeepsappal) January 26, 2015
 
BJP’s Bairon Singh Shegawat. RT”@IndiaSOS: See one more picture of Vice President not saluting flag! pic.twitter.com/KgvMiBH55u #HamidAnsari”

— KTL (@K_T_L) January 27, 2015
Find 2 Idiots in this image. #Hamid Ansari #Vice President >> pic.twitter.com/y2Jsn7u2OL

— #JeSuisHamidAnsari (@raahildabest) January 27, 2015
 
People naturally get perturbed seeing the Vice President of India not saluting d national flag

— Dr Rakesh Sinha (@RakeshSinha01) January 27, 2015
 
The hounding of Vice President Hamid Ansari is typical PeeliChaddi behaviour towards minorities.

— Tushar A. Gandhi (@TusharG) January 27, 2015
 
The vice president did nothing wrong. He just followed the protocol. Hope people stop making this an issue.

— Anuj Singhal (@_anujsinghal) January 26, 2015
 
A slap on the faces of those trolling Vice President of India on salute issue just because he is a Muslim! Read it pic.twitter.com/KM8kFVvROH

— umashankar singh (@umashankarsingh) January 26, 2015
 
Morons please note, Vice President Ansari faced the flag and stood at attention, as specified by the Flag Code. pic.twitter.com/T1dJAnPuMp

— Siddharth (@svaradarajan) January 26, 2015
 
I find it shameful that people are criticising the Vice President of India Hamid Ansari. What next? #IndianRepublicDay

— Chitra Subramaniam (@chitraSD) January 26, 2015
 
Illiterate, the abuse, calumny hurled at Vice-President Ansari since morn. Only Pres, uniformed soldiers have to salute. Others stand attn.

— Shekhar Gupta (@ShekharGupta) January 26, 2015
 
Vice President Hamid Ansari was at a time chief of protocol & knows d protocol better than most of us. The row was indeed useless.

— Ritesh Kumar (@Reitesh) January 27, 2015
 
its very sad to see how we are targeting Vice President Hamid Ansari questioning his patriotism for not saluting tri-colour.

— AASH (@Kosher_Souls) January 27, 2015

salute during the National Anthem | Republic Day Parade |unnecessary controversy | Nation, Hamid Ansari | उपराष्ट्रपति  | प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री ने तोड़ा प्रोटोकॉल | सोशल मीडिया पर छिड़ा विवाद | Vice President’s office clarifies row over Ansari not saluting during national anthem,

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: