Home » समाचार » उस्ताद बड़े फतेह अली खान का निधन

उस्ताद बड़े फतेह अली खान का निधन

उस्ताद बड़े फतेह अली खान का निधन

नई दिल्ली, 06 जनवरी। पाकिस्तान के जाने-माने शास्त्रीय गायक पटियाला घराने के उस्ताद बड़े फतेह अली खान का बुधवार को निधन हो गया।

वह 82 वर्ष के थे। पाकिस्तान के समाचार पत्र ‘डॉन’ के मुताबिक उस्ताद फतेह का निधन इस्लामाबाद के पीआईएमएस अस्पताल में हुआ।

पिछले 10 दिनों से उनका इस अस्पताल में इलाज चल रहा था। वह लंबे समय से फेफड़ों की बीमारी से जूझ रहे थे।

पारिवारिक सूत्रों के अनुसार फतेह अली खान को आज लाहौर में सुपूर्द-ए-खाक किया जायेगा।

ख्याल, ठुमरी और कव्वाली से गायकी के क्षेत्र में विशेष पहचान बनाने वाले उस्ताद बड़े फतेह अली खान के पाकिस्तान के अलावा भारत, अमेरिका,  कनाडा,  दक्षिण अफ्रीका और पश्चिम एशिया में भी बड़ी संख्या में भी प्रशांसक हैं।

पटियाला घराने से संबद्ध उस्ताद फतेह अली खान गायक अमानत अली खान और हामिद अली खान के छोटे भाई थे। अमानत अली खान के साथ उनकी कमाल की जुगलबंदी बनी थी। वह अपने परिवार की छठी पीढ़ी के शास्त्रीय गायक थे। वर्ष 1935 में पंजाब के पटियाला (भारत) में जन्में उस्ताद बड़े फतेह अली खान किशोर अवस्था में ही अपनी गायकी का लोहा मनावाया था। 1969 में उन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति ने ‘प्राइड ऑफ पर्फोर्मेंस मेडल से नवाजा था। वह जानेमाने शास्त्रीय और रॉक गायक शफकत अमानत अली के चाचा थे।

उनके निधन पर शोक जताते हुये शफकत ने उनकी तस्वीर को ट्वीट करते हुये कल कहा

“उस्ताद फतेह अली खान साहेब के निधन से पटियाला घराने में हम सभी के लिए एक युग का अंत हुआ।”  

चार सौ से ज्यादा राग और गानों में आवाज देने वाले उस्ताद फतेह अली खान का सबसे लोकप्रिय गाना ‘मोरा पिया मो से बोले ना’ था।

Renowned qawwalustad Fateh Ali khan passes away, Ustad Fateh Ali Khan, a distinguished classical singer and one of the most celebrated vocalists belonging to the Patiala Gharana of classical music, died in Islamabad on Wednesday. He was 82. Renowned qawwal Ustad Fateh Ali Khan passes away https://t.co/LgEeGZ3eDj — Peshawar (@PeshawarKPK) January 4, 2017 Ustad Fateh Ali Khan dead at 82 https://t.co/YYo297lRUs rest in peace — REHANA ( PTI USA) (@polosep7) January 6, 2017

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: