Home » “ओढ़नी” में भागने से बेहतर था “मफ़लर” में निकलना

“ओढ़नी” में भागने से बेहतर था “मफ़लर” में निकलना

नौटंकी बन्द हुयी, सबको बधाई! एक्सपोज हो गए केजरी भाई!!
अभिरंजन कुमार
“ओढ़नी” में भागने से बेहतर था “मफ़लर” में निकलना- यह कैसे? बाद में। सबसे पहले सबको बधाई। कांग्रेस को, आप को, दिल्ली पुलिस को, मीडिया को, भाजपा को, दिल्ली की जनता को- सबको। केजरी भाई ने धरना ख़त्म कर दिया। दो दिन की अराजक नौटंकी समाप्त हो गयी। अब राहत की लम्बी साँस लीजिये और छब्बीस जनवरी की तैयारी शुरू कर दीजिये।
इस पूरी नौटंकी में कांग्रेस एक “थोड़ी सख्त थोड़ी नरम मम्मी” की तरह और आम आदमी पार्टी “थोड़ी ज़िद्दी थोड़ी आज्ञाकारी बिटिया” की तरह नज़र आयी। और एक बार फिर यह साबित हो गया कि लोकसभा चुनाव के लिये “भ्रष्ट कांग्रेस” (बकौल केजरीवाल) और “अराजक आप” (यह भी बकौल केजरीवाल ही) का “नेक्सस” कायम हो चुका है।
कांग्रेस की सरकार ने पहले सख्ती दिखाई कि केजरी की ग़लत माँगें नहीं मानी जायेंगी। फिर शिंदे साहब की इज़्ज़त उतरवाने के बाद थोड़ी नरमी भी दिखाई और केजरीवाल को दो छोटे-छोटे “लेमनचूस” थमा दिये। दो पुलिस वालों को जाँच पूरी होने तक “पेड लीव” पर भेज दिया। न तो सस्पेंड किया, न तबादला किया। और जो भी किया वो चार के साथ नहीं, बल्कि सिर्फ़ दो के साथ किया। कांग्रेस को केजरीवाल को जितना एक्सपोज़ करना था, कर दिया। जितनी दूर बढ़ाना था, बढ़ा दिया। जहाँ रोकना था, रोक दिया। इसलिये “बड़ी बधाई” कांग्रेस को।
इसके बाद केजरीवाल जी को तो बधाई देना हमारी मजबूरी है, क्योंकि उन्होंने ख़ुद ही घोषित कर दिया कि दिल्ली की जनता की “बहुत बड़ी जीत” हुयी है। राज्य के मुख्यमंत्री, सारे मंत्री, पूरी आम आदमी पार्टी ने दो दिनों तक अपनी सारी ताकत झोंक देने के बाद दो मामूली पुलिस वालों को “पेड लीव” पर भिजवा दिया और इस तरह “बहुत बड़ी जीत” हो गयी। पहले कहा था चार को सस्पेंड करो। फिर कहा तबादला ही कर दो। अन्त में अपने तकरीबन 10-15 कार्यकर्ताओं के हाथ-पैर तुड़वाने, माथा फुड़वाने और पूरे राज्य की पब्लिक को दो दिन परेशान करने के बाद चार में से दो पुलिस वालों के “पेड लीव” को “बहुत बड़ी जीत” घोषित कर दिया। इसलिये “बहुत बड़ी बधाई” केजरी भाई और आम आदमी पार्टी को।
बधाई दिल्ली पुलिस को भी, क्योंकि उसकी भी नाक बच गयी। ख़ुद मुख्यमंत्री और सारे मंत्री मिलकर भी उसके अफसरों का तबादला तक नहीं करा पाये। “पेड लीव” पर जाने से उसके दोनों अफसरों को एक महीने मौज-मस्ती करने का मौका ही मिलेगा। थोड़ा गोवा-सोवा घूम लेंगे बेचारे फैमिली के साथ। वरना तो अभी गणतंत्र दिवस के चक्कर में छुट्टी-वुट्टी सब कैंसिल हो ही जानी थी।
बधाई मीडिया को भी, जिसे दो दिन तक भरपूर टीआरपी मिली। “जो बिकता है, सो दिखता है” वाली फिलॉस्फी पर अमल करते हुये उसने इस नौटंकी को दिन-रात दिखाया और बेचा।
भाजपा को बधाई इसलिये कि उसके “चाय बेचने वाले” पीएम इन वेटिंग नरेंद्र भाई दामोदर भाई मोदी राहत की साँस ले सकते हैं। अगर केजरी भाई को बड़ी कामयाबी मिल गयी होती, तो उनके लिये मुश्किल हो जाती, लेकिन चूंकि वे बुरी तरह एक्सपोज हुये, इसलिये लोकसभा चुनाव में मोदी भाई की उम्मीदें कायम रहेंगी। उनके वोटर अब केजरी के साथ जाने से पहले सौ बार सोचेंगे।
दिल्ली की जनता को भी बधाई, क्योंकि भैया अब आपकी मेट्रो फिर से चल पड़ेगी। आपको ट्रैफिक की समस्या नहीं झेलनी पड़ेगी और गणतंत्र दिवस के दिन अच्छी-अच्छी झाँकियाँ भी देखनो को मिलेंगी। साथ ही समझदार लोग अपने मुख्यमंत्री की हक़ीक़त भी समझ ही गये होंगे।
सबको बधाई दे दी। अब चलते-चलते एक अन्दर की बात। सूत्रों से जो जानकारी मिल रही है, उसके मुताबिक, आज केन्द्र ने केजरी भाई को अच्छी तरह बता दिया था कि जितना माइलेज आपको लेना था, ले चुके, अब यह नौटंकी तत्काल बन्द कीजिए, वरना आपको तो सेना से उठवायेंगे ही, आपके कार्यकर्ताओं की भी हड्डी-पसली एक करने का इंतज़ाम कर देंगे और इसकी पूरी ज़िम्मेदारी आपकी होगी। अगर आप दूसरा रामदेव बनना चाहें, तो आपकी मर्ज़ी। चूँकि मफलर की जगह ओढ़नी या दुपट्टा सजाकर भागना नौटंकी की स्क्रिप्ट में जम नहीं रहा था, इसलिये उन्होंने केन्द्र के इस स्पष्ट “प्रेम-संदेश” के बाद पुरुषों के कपड़ों में ही वहाँ से निकलने में भलाई समझी।

About the author

अभिरंजन कुमार, लेखक वरिष्ठ टीवी पत्रकार हैं, आर्यन टीवी में कार्यकारी संपादक रहे हैं।

About हस्तक्षेप

Check Also

Amit Shah Narendtra Modi

तो नाकारा विपक्ष को भूलकर तैयार करना होगा नया नेतृत्व

तो नाकारा विपक्ष को भूलकर तैयार करना होगा नया नेतृत्व नई दिल्ली। कुछ भी हो …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: