Home » कभियो नहीं जान पायेगा इ मोदी कि चाय बेचने वाला का दर्द का होता है

कभियो नहीं जान पायेगा इ मोदी कि चाय बेचने वाला का दर्द का होता है

रोड डायरी से कुछ फुटनोट्स
अविनाश कुमार चंचल
पिछले 15 दिनों में करीब चार राज्यों में जाने का मौका मिला। फिलहाल पांचवे राज्य मध्यप्रदेश में बैठ कर उन अनुभवों को समेटने की कोशिश कर रहा हूँ जो गाँव-गाँव, शहर-दर-शहर भटकने के बाद समझा है। इन अनुभवों में मैंने ज्यादा से ज्यादा चुनावी समीकरणों को समझने की कोशिश की है, सैकड़ों लोगों से बात करने की कोशिश भी। संयोग से ये अनुभव हाइवे पर चाय बेचने वाले ढाबे, तारी बेचने वाले पासीखाने से लेकर हवाई जहाज में सफर कर रहे लोगों तक फैल गया है।
चुनाव 2014 मेरे लिये खास है। पाँच साल पहले हुये चुनाव के समय मैं ग्रेजुएशन में था। कॉलेज में अजीब-अजीब सपने देखने में लगा था। चुनाव को इतने करीब से देखने का मौका नहीं मिल पाया। ये चुनाव कई मायनों में खास है। अब लड़ाई कांग्रेस-बीजेपी के साथ-साथ आप पार्टी के हाथ में चली गयी है। ढेर सारे लोगों से बात करने के बाद मैं दावे के साथ कह सकता हूँ कि ये चुनाव सांप्रदायिकता के मुद्दे पर ही लड़ा जा रहा है। लोगों के बीच धर्म को लेकर बेहद गहरी खाई पैदा करने की कोशिश की जा रही है। नरेन्द्र मोदी जैसे कम्यूनल फेस चाहे लाख विकास के झूठे नारे उछाल लें लेकिन असली कार्ड वो हिन्दुत्व वाला ही प्ले करने की कोशिश में लगे हैं।
मेरे यात्रा की शुरुआत हुयी- बिहार से। कहते हैं दिल्ली का रास्ता बिहार-यूपी से होकर ही जाता है। शायद यही वजह है कि राहुल-केजरीवाल-मोदी तीनों बिहार-यूपी से चुनावी मैदान में कूद कर वैतरणी पार करना चाह रहे हैं। करीब-करीब चार सौ किलोमीटर बाइक से बिहार की सड़कों पर दौड़ने के बाद कुछ चीजें बहुत क्लियर हुयी हैं, जो शायद ही मीडिया मुझे कभी बता पाए।
मोदी की लहर बिहार में है तो सही लेकिन सिर्फ और सिर्फ अपर कास्ट तबके में। रामविलास पासवान की पार्टी के एक नेता हैं, होदा साहब। दरभंगा के रहने वाले। पटना में मिल गए। कहते हैं- नीतीश का वोट बैंक साइलेंट है। हवा-अफवाह तो अपर कास्ट वाले बनाते हैं। वैशाली के एक तारी खाने में जब देवेन्द्र दास मुझे समझाते हैं कि- ‘हमलोग पिछड़ा जात वाले सबको बोलते हैं- हाँ,  देंगे वोट तुम्हीं को। लेकिन वहाँ जाकर वोट तो नीतीश को ही देंगे’। तो मुझे वहाँ होदा साहब की साइलेंट वोट बैंक वाली बात याद आती है। नीतीश को हल्के में ले रहे चुनावी मीडिया विश्लेषक शायद उसके इस साइलेंट वोट बैंक को इग्नोर करने की गलती कर रहे हैं।
कोई भी पार्टी संगठन हो अपने आम कार्यकर्ताओं के भावनाओं के साथ खेलने का काम ही करते हैं। होदा साहब धर्म से मुस्लिम हैं। रामविलास पासवान के मोदी के साथ जाने से दुखी हैं लेकिन पार्टी नहीं छोड़ना चाहते- ‘आठ साल का मोह है-ऐसे नहीं छूट पायेगा पार्टी हमसे’। बाद में रामविलास की मजबूरी समझाने लगते हैं। मैं उनकी मजबूरी समझने लगता हूँ।
पटना में है- दरोगा राय पथ। बिहार के माननीय विधायकों का रिहाईशी इलाका। वहां पप्पू जी हैं। जितनी मेरी होश संभालने की उम्र है उतने साल से उन्हें वहां चाय बेचते देख रहे हूँ। मोदी के बारे में पूछने पर हँसते हैं- कहते हैं, ‘तुम तो ललका झंडा से थे, मोदी के बारे में काहे पूछ रहे हो’। हँसी के बाद अचानक गम्भीर हो जाते हैं-
 ‘मोदी आया था यहाँ रैली करने। सुनने में आता है- 50 करोड़ रुपया खर्च हुआ उसके रैली में। भर रैली अपने को चाय बेचने वाला बताता रहा। कभियो नहीं जान पायेगा इ मोदी कि चाय बेचने वाला का दर्द का होता है। पचास करोड़ के मंच पर चढ़ कर उ चाय दुकानदार का दर्द बेच रहा है। चीनी मंहगा हो गया, चायपत्ती भी। दूध आठ रुपये किलो से 40 रुपये किलो मिलने लगा। और चाय का दाम वहीं का वहीं रह गया- चार रुपया-पांच रुपया। कभियो सुने हैं मोदी को इ सब बोलते। उसको तो हमरा दर्द बेचने से मतलब है, हमारे दर्द से नहीं’।
बिहार के नेशनल हाइवे 28 पर सुबह के सात बजे। समस्तीपुर के आसपास का इलाका। एक ढाबेनुमा चाय दुकान पर हम अपनी बाइक रोकते हैं। एक अधेड़ उम्र के बाबा। किसका हवा है- पूछते ही बोलते हैं- ‘मोदी का’। काहे? ‘नीतीश सिर्फ गरीबों( दलितों) के लिये काम किया है। हम किसानों को गरीब लोग भाव देना बंद कर दिया है। खेती के लिये मजदूर तक नहीं मिलता है’। एक चाय वाला गरीबों की भलाई पर गुस्सा हो रहा था। ये अद्भुत सीन था मेरे लिये। मैं न चाहते हुये भी चलते-चलते उनसे उनकी जाति पूछ बैठता हूँ- भूमिहार।
‘मार्क्स का क्लास स्ट्रगल इस देश में अभी बहुत दूर की चीज है’- बाइक स्टार्ट करते-करते मैं अपने साथ वाले से कहता हूँ।
आगे हाइवे 28 से कटकर पटना के लिये स्टेट हाइवे की सड़क है। हम अपनी बाइक उस तरफ मोड़ देते हैं- हाजीपुर से पहले एक गाँव है हरपुर। हमारी बाइक एक पासीखाने में रुकती है। ‘किसकी हवा है’?
‘काहे बतायें किसकी हवा है। भोट-भाट (वोट) की बात पासीखाने में बैठकर नहीं की जाती’। सवाल थोड़ा जल्दी पूछ लिया लेकिन कुछ देर गाँव-जहान की बात करते-करते सभी वोट और राजनीति की बात ही करने लगते हैं।
पासीखाने का मालिक पासवान जाति का है। हाजीपुर रामविलास पासवान का गढ़। लेकिन पासीखाने का पासवान मालिक इस बार रामविलसा को वोट नहीं करेगा। ‘उ पासवान के लिये कुच्छो नहीं करता है, हर बार जीत कर शादी कर लेता है। नीतीश रेडियो दिया है, सुरक्षा दिया है, सड़क दिया है। अस्पताल टाइम से खुलता है। हाँ, डॉक्टर रोज नहीं बैठता है’। ‘तो क्या नीतीश रोज आयेगा चेंकिग करने’- एक उसकी बात को काटता है। ‘बांकि नयका लड़का में मोदी का हवा है’- सुरज दास बोलता है तो बीच में ही बात को काट कर एक बूढ़ा कहता है- ‘इ नयका सब अगड़ा जाति का आत्याचार नहीं देखा है। इसलिये कमल को भोट देने का बात करता है। कमल को भोट देना मतलब उपरका जात के चूतड़ सहलाना। या तो नीतीश और न तो लालू। तीसरा किसी को वोट नहीं- न कांग्रेस, न बीजेपी’।
अगला पड़ाव- बिहार की राजधानी पटना। फिर एक चाय वाला। मोदी के चाय ब्रांड ने मीडिया वालों से लेकर चुनावी विश्लेषकों तक में चाय वाले की डिमांड बढ़ायी है। मोदी छाप का टीशर्ट पहने- राजेश। ‘मोदी को वोट करेंगे?’ ‘नहीं, केजरीवाल को। काहे कि सब नेतवा चोर हो गया है-मोदी-नीतीश-लालू एक्के थैली के चट्टा-बट्टा है’।
‘तो फिर इ मोदी वाला टीशर्ट काहे पहने हैं?’  ‘उ तो रैली में गए थे न सर। वहीं मिला था। टीशर्ट पहनने से भोट थोड़े न खरीद लिया है हमरा’।
मैं पटना से दिल्ली जाने वाले एयर इंडिया की फ्लाईट में बैठा हूँ। अमूमन हवाई जहाज में मुझे कोफ्त होती है कि कोई एक-दूसरे से बात क्यों नहीं करता। लेकिन मैं हूँ कि अपनी लंपटई से बाज आने का मन ही नहीं होता। साथ वाले से पूछता हूँ- ‘दिल्ली जा रहे हैं’?  ‘नहीं, सउदी’।  गोपालगंज से सउदी की उड़ान। नीतीश को वोट करेंगे? ‘ नहीं। कुच्छो नहीं किया नीतीशवा। फिर?  लालू। अबकी लालू को भोट जाएगा। आखिर कब तक उड़-उड़ कर कभी दिल्ली तो कभी सउदी जाते रहेंगे। हमको भी घर पर रहना है, अपना गाँव, अपना परिवार के साथ’।
 खामोशी। हमारे बीच दिल्ली तक खामोशी है। जाते-जाते बस चलता हूँ कह सका। दरअसल ज्यादातर बिहारी विस्थापित हैं। हम बिहारियों के विस्थापन को कई दर्ज नहीं करता। हम आपस में ही बांटते हैं- हमें विकास के लंबे-लंबे वादे नहीं चाहिए। एक अदद नौकरी चाहिए- अपने घर, गाँव में। जिससे ठीकठाक गुजर बसर हो सके हमारा। खामोशी।
देश की राजधानी। दिल्ली के ऑटोवालों का सुर बदला-बदला सा है। जो कल तक केजरीवाल-केजरीवाल गा रहे थे। आज मोदी-मोदी कह रहे हैं। ‘केजरीवाल ने सीएम की कुर्सी छोड़कर अच्छा नहीं किया। हमारी परमिट से लेकर ठेके पर बहाल मजदूरों के परमानेंट तक के मुद्दे को छोड़ भाग गया- एक लोकपाल ही तो था। थोड़े ठंड रख लेता- कुछ दिन बाद पास करवाता। जाने से पहले हम गरीबों-मजदूरों की भलाई का काम कर जाता। लेकिन नहीं, इ तो व्यवस्था पर हमला करते-करते व्यक्ति पर हमला करने लगा। क्या मतलब था इसको मोदी से। पहले दिल्ली को सुधार लेता फिर निकलता देश को सुधारने। ठीक नहीं किया। हमारे विश्वास को धक्का मारा है। अब तो नहीं भोट देंगे सर’।
मैं बस हाँ-हूँ करता हूँ। दिल्ली के ऑटो वाले बहुत वोकल हैं। उनसे सिर्फ सुनता हूँ, वहाँ ज्ञान लेने की जरूरत महसूस होती है, देने की सोचता भी नहीं।
हरिद्वार उत्तराखंड में। एक ढाबा। ‘इस बार तो हर-हर मोदी है बाबू। हिन्दू धर्म को इ कांग्रेस वाले बेच रहे हैं तो बचाना पड़ेगा न’। मैं बताता हूँ- ‘कांग्रेस भी तो साधुओं का खूब ख्याल रखती है, सोनिया गाहे-बगाहे अचार्यों से मिलने जाती ही हैं’।
‘न, कभी नहीं,- वो तो देखो बेचारे रामदेव बाबा को कैसे दौड़ा-दौड़ा के पिटवाया था’। बीच में ही एक दूसरा साधु टोकता है- ‘नहीं सही कह रहे हैं, बाबा रामदेव हमारे समाज का नहीं है, उ साधु नहीं व्यापारी है। हम लोग अघौड़ी हैं- लेकिन वोट इस बार मोदी को ही जाएगा’। ब्लाइंड सपोर्टर। मेरी एक साथी मुझसे बोलती है।
 मैं वापस लौट रहा हूँ। दिल्ली टू वाराणसी। ट्रेन शिवगंगा एक्सप्रेस। मेरे साथ वाले बोगी में अरविंद केजरीवाल भी अपनी पूरी टीम के साथ सफर कर रहे हैं। मीडिया और लोगों की भीड़। मीडिया बार-बार अगेंस्ट केजरीवाल सफर कर रहे लोगों से बाइट लेने में व्यस्त है। और लोग अरविन्द केजरीवाल की फोटो खींचने में। ‘एक इवेंटफुल जर्नी’ मेरे साथ सफर कर रही एक अंग्रेजी अखबार की एडिटर कहती हैं। बोगी के दूसरे यात्री बीच-बीच में जाकर एकबार केजरीवाल को देख आते हैं- ‘नमस्ते। एक फोटो। एक मेरे बच्चे के साथ फोटो’। लौट कर वही लोग ‘केजरीवाल भगोड़ा है’ कह रहे हैं। रास्ते भर मोदी-केजरी ही छाये रहे। वोट बैंक। ‘मोदी शेर की तरह गरजता है। मोदी में आग है’। (यहां जलना किसको है भाई)
एक डिसेंट महिला हैं-वाराणसी में टीचर। कहती हैं- ‘आई सपोर्ट मोदी। बिकॉज ऑल्ड इज गोल्ड’। मेरे पूछने पर मुस्लिम वोट का क्या होगा बनारस में। इफेक्टिव हैं? कुछ देर बाद यही महिला- ‘बाप रे। बनारस में मुस्लिम बहुत हो गए हैं। फलां मोहल्ले की तरफ जाईये दिमाग पागल हो जाएगा’। मुस्लिमों के मोहल्ले में जाने से दिमाग का कौन सा तंत्र फेल हो जाता है मैं पूछना चाहता हूँ। मोदी समर्थक साम्प्रदायिक होते हैं तमाम विकास के झूठे-हवाई पुलिंदों के बावजूद।
केजरीवाल ने मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़कर दिल्ली वालों को बीच मझधार में छोड़ा है, ठेके पर बहाल कर्मचारियों को नियमित नहीं किया है जैसे मुद्दे जायज से लगते हैं लेकिन यही लोग केजरी के खिलाफ तर्क देने लगे- ‘हवाई जहाज से चलता है, मीडिया को गरिया कर ठीक नहीं किया। अरे मीडिया को कैसे गलत बोल सकता है। फिल्म नायक में अनिल कपूर ने कितना कुछ कर दिया था एक दिन में। ये तो 49 दिन में भी कुछ नहीं कर पाया। बिजली-पानी मुफ्त किया लेकिन उसपर भी रोक लग गयी’ ( क्या केजरीवाल ने रोक लगायी है?), ‘केजरीवाल भी पार्टी टिकट को खूब बेचा है, फोर्ड फाउंडेशन का पैसा है’ ( तो क्या मोदी के पास अंबानी-अदानी का पैसा नहीं है?) एक ही तर्क में एक को स्वीकार और एक को नकारने की समझदारी (?)। एक मोदी भक्त दिल्ली के हैं- कहते हैं- ‘बनारस के लोगों को जानता हूँ, मोदी को ही जितायेंगे’। क्यों?  ‘केजरीवाल बहुत ईमानदार था जब तक वो मोदी के खिलाफ नहीं बोल रहा था। उसको मोदी के खिलाफ नहीं बोलना चाहिए था। उसे कांग्रेस के खिलाफ ही बोलकर काम चलाना चाहिए था। कांग्रेस का दलाल है-बी टीम’।
एक केजरी फैन महिला कह रही हैं- ‘मोदी ने हम बनारस वालों के सेंटिमेंट के साथ खेला है। बताईये- हर हर महादेव की जगह खुद की हर हर करवा रहा है। महादेव सबक सिखायेंगे उसको जरूर देख लीजियेगा’।
चार राज्यों में मोदी-केजरी-राहुल मिले। नीतीश-लालू मिले। अखिलेश-मायावती मिले। मैं सीपीआई-सीपीएम को खोजता रह गया। मुझे याद आता है पासी खाने में पूछे सवाल का जवाब- ललका झंडा भी है इधर। किसी ने कहा- ‘न, सीपीएम वाला तो बंगाल में है’।
मैं उसको एडिट करके लिख रहा हूँ- ललका झंडा वाला बंगाल की खाड़ी में कूद गया है।

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: