Home » समाचार » कालेधन पर छूट व नोटबंदी का विरोध – मोदी का पुतला फूँका

कालेधन पर छूट व नोटबंदी का विरोध – मोदी का पुतला फूँका

कालेधन पर छूट व नोटबंदी का विरोध – मोदी का पुतला फूँका
#बबराला में प्रधानमंत्री मोदी का पुतला फूँका
कालेधन पर छूट व नोटबंदी का किया विरोध
#प्रधानमंत्री मोदी की नीयत में खोट -अजीत यादव
बबराला 1, दिसंबर। नोटबंदी से परेशान लोगों ने मोदी सरकार द्वारा आयकर संशोधन बिल पारित कर काले धन को छूट देने पर विरोध जताते हुए कल बबराला में प्रधानमंत्री मोदी का पुतला फूँका।
बबराला पंजाब नेशनल बैंक से अपना पैसा निकालने  को पिछले बीस दिन से चक्कर काट रहे किसानों, नौजवानों व गरीबों ने बैंक से पैसा न मिलने पर आज मोदी सरकार के खिलाफ जोरदार विरोध प्रदर्शन किया व बबराला के इन्द्रा चाैक पर प्रधानमंत्री मोदी का पुतला फूँका। लोग मोदी सरकार द्वारा काले धन पर आधी छूट दिये जाने से आक्राेशित थे।
प्रदर्शन व पुतला दहन के दौरान जनता को सम्बोधित करते हुए आल इण्डिया पीपुल्स फ्रंट(आइपीएफ)के प्रवक्ता अजीत सिंह यादव ने कहा कि कालधन व भ्रष्टाचार के खात्मे के मामले पर प्रधानमंत्री मोदी की नीयत में खोट है। नोटबंदी कर काले धन का सत्तर साल का हिसाब मांगने का दावा करने वाले प्रधानमंत्री मोदी ने आयकर संशोधन बिल पारित कर कालेधन को वाकओवर दे दिया है। भ्रष्टाचार द्वारा जनता के धन व देश के संसाधनों  को लूटकर जुटाये कालेधन पर आधी छूट कुछ और नहीं कालेधन को वैधता देना है। अब भ्रष्टाचारियों, लुटेरों, घाेटालेबाजों से मोदी सरकार यह भी नहीं पूछेगी कि उन्होंंने वह धन कहां से जुटाया और उनके कालेधन को वैध कर देगी। यह कालेधन के खिलाफ संघर्ष की देश की जनता की भावना के साथ धाेखा है।

कालेधन को छूट ही देनी थी ताे नोटबंदी क्यों की
उन्होंंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को यदि कालेधन को छूट ही देनी थी ताे नोटबंदी क्यों की, जनता को परेशानी में क्यों डाला जिसमें अपनी मेहनत की कमाई निकालने को जनता दिनभर बैंकों में लाइन लगाकर खडी रहती है फिर भी पैसा नहीं मिल पाता। सैकड़ों लोगों की जान चली गई, करोड़ो लोगों का रोजगार छिन गया, देश में मंदी छा गई, किसान फसल की बुबाई नहीं कर पा रहे,  बीमार इलाज नहीं करा पा रहे। इससे साबित हो गया है कि कालेधन के खात्मे के मामले में नोटबंदी विफल रही है। प्रधानमंत्री मोदी व उनकी सरकार कालेधन का खात्मा नहीं चाहते। जिस प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना की बात मोदी सरकार कर रही है वह वास्तव में प्रधानमंत्री काला धन कल्याण योजना है।
उन्होंने कहा कि देश कि जनता मोदी सरकार की भ्रष्टाचार व काले धन के खिलाफ नकली लड़ाई से अपने आपको छला हुआ महसूस कर रही है। जनता अपनी मेहनत की कमाई बैंकों से नहीं निकाल पा रही उधर मोदी सरकार ने पूंजीपतियों का सात हजार करोड़ का बैंक कर्ज बट्टे खाते में डालकर चाेर दरवाजे से माफ कर दिया। जनता चाहती है कि देश में भ्रष्टाचार व कालेधन के खिलाफ मुकम्मल लड़ाई हो। मोदी सरकार काले धन पर आधी छूट बंद करे, पूरे काले धन की जब्ती करे। सभी राजनेताओं, नौकरशाहों, पूंजीघरानों की सम्पत्ति की जांच कराई जाये उनकी आय से अधिक सारी सम्पत्ति जब्त की जाये,सभी पूंजीघरानों के बट्टे खाते में डालकर माफ किये बैंक कर्जाें की वसूली की जाये, नौ हजार करोड़ लेकर भागे विजय माल्या को गिरफ्तार कर देश में लाया जाये, विजय माल्या समेत सभी बकायेदार पूंजीघरानों से तत्काल कर्ज वसूली की जाये।
पुतला दहन के दौरान करन सिंह, नीरज यादव, सुनील यादव, छोटे, रामौतार, मनोज, रामनिवास समेत दर्जनों लोग शामिल थे।
 

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: