Home » समाचार » देश » क्यों मोदीजी, वाजपेयी नॉन वेज खा सकते हैं और दलित छात्र नहीं !!!
Bahujan Sankalp Diwas Rihai Manch

क्यों मोदीजी, वाजपेयी नॉन वेज खा सकते हैं और दलित छात्र नहीं !!!

नॉन वेज खाने वाले देशों से आर्थिक सम्बंध क्यों नहीं तोड़ लेते मोदी

रिहाई मंच ने संघ/भाजपा से पूछे 5 सवाल

संघ बताए मछली वेज या नॉनवेज

मोदी गो बैक का नारा लगाने के कारण बीबीएयू के मेस से नॉन वेज किया प्रतिबंधित

लखनऊ 3 मई 2016। रिहाई मंच ने बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर सेंट्रल यूनिवर्सिटी (बीबीएयू) की मेस में नॉनवेज प्रतिबंधित करने को बीबीडीयू के दलित छात्रों द्वारा कुछ दिनों पहले रोहित वेमुला का सवाल उठाने और मोदी की मौजूदगी में मोदी गो बैक का नारा लगाने के चलते नाराज मोदी सरकार द्वारा की गई कुंठित और बदले की कार्रवाई बताया है।

मंच ने जेएनयू के छात्रों  द्वारा छात्रों के निलम्बन के खिलाफ चलाए जा रहे भूख हड़ताल का भी समर्थन किया है।

रिहाई मंच के महासचिव राजीव यादव ने जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि मोदी व्यक्तिगत तौर पर बदले की भावना से ग्रस्त और लोकतांत्रिक तरीके से किए जाने वाले विरोध को भी बर्दाश्त नहीं कर पाने वाले व्यक्ति हैं। उन्होंने हरेन पंड्या से लेकर आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी तक को इसी कुंठा में ठिकाने लगा दिया है। ऐसे में उनका विरोध करने वाले दलित छात्रों के हास्टल से नॉन वेज प्रतिबंधित कर दिया जाना आश्चर्यजनक नहीं है।

रोहित वेमुला के सवाल पर मोदी की मौजूदगी में मोदी गो बैक का नारा लगाने के कारण बीबीडीयू से निष्काषित हुए छात्रों को हजरतगंज चौराहे के बीचो-बीच  सम्मानित करने वाले रिहाई मंच के नेता ने नॉन वेज पर प्रतिबंध की बात करने वाले संघ और भाजपा से तीन सवाल पूछे हैं। पहला, संघ मछली को नॉन वेज मानता है या वेज? अगर इसे नॉन वेज मानता है तो उसने अब तक बंगाल, गोवा, कश्मीर और बिहार के मिथिलांचल के ब्राह्मणों को मछली खाने से रोकने के लिए कोई अभियान क्यों नहीं चलाया? दूसरा, अगर वह पानी में तैरने वाली इस जीव को वेज मानता है तो फिर किस आधार पर जमीन पर चलने वाले जानवरों के गोश्त को नॉन वेज की श्रेणी में रखता है? तीसरा, संघ को स्पष्ट करना चाहिए कि क्या यह श्रेणीकरण किसी जीव के तैरने और चलने के आधार पर उसने तैयार किया है? यानी जो जीव पानी में रहेगा उसका सेवन वेज और जो दो या चार पैरों से जमीन पर घास चरेगा उसका सेवन नॉन वेज? चौथा संघ और भाजपा को स्पष्ट करना चाहिए कि अगर अटल बिहारी वाजपेयी नॉन वेज खा सकते हैं तो फिर बीबीएयू के दलित छात्र क्यों नहीं खा सकते? क्या वह मानता है कि ऐसा करने का हक वाजपेयी जी को ब्राह्मण होने के कारण है बाकी दलित होने के कारण इस अधिकार से वंचित रहने चाहिएं ? पांचवा, अगर संघ की नजर में नॉन वेज मुक्त भारत बनाने से भारत भारत से सशक्त भारत बन जाएगा तो फिर संघ भारत को आर्थिक शक्ति बनाने के लिए नॉन वेज खाने वाले देशों से आर्थिक सम्बंध क्यों नहीं तोड़ लेने की वकालत करता है?

About हस्तक्षेप

Check Also

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: