Home » पटना धमाकों में आईबी एवं आरएसएस की भूमिका की हो जाँच-रिहाई मंच

पटना धमाकों में आईबी एवं आरएसएस की भूमिका की हो जाँच-रिहाई मंच

पटना धमाके में आईबी की भूमिका, क्योंकि
आईबी ही चला रहा है आईएम-रिहाई मंच
भाजपा, सपा व कांग्रेस से अपना
टेरर एजेंडा सेट करवा रही है आईबी-रिहाई मंच
लखनऊ/28 अक्टूबर 2013। बिहार में हुये धमाकों पर रिहाई मंच के प्रवक्ता शाहनवाज आलम और राजीव यादव ने कहा है कि पटना में नरेन्द्र मोदी की रैली में हुये धमाकों में आई बी और संघ परिवार को जाँच के दायरे में लाया जाये। देश की खुफिया एजेंसियां इन चुनावी रैलियों का इस्तेमाल आतंकवाद के नाम पर निर्दोष मुसलमानों को फँसाने और अपने ऊपर उठ रहे सवालों से लोगों का ध्यान हटाने के लिये कर रही हैं। इंडियन मुजाहिदीन जैसे फर्जी संगठन, जिसे देश का एक बड़ा हिस्सा आईबी द्वारा संचालित कागजी संगठन मानता है व आईएम पर लगातार उठ रहे सवालों और उसके अस्तित्व को जबरन स्थापित करने के लिये इस तरह के फर्जी बम कांड करवाकर आईएम का नाम लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इन धमाकों में आईबी, संघ परिवार के माड्यूल का इस्तेमाल कर रही है। यह धमाके ठीक उसी तर्ज पर हैं जैसे आईबी ने संघ परिवार के माड्यूल का इस्तेमाल करके गया में फर्जी आतंकवादी घटना को अंजाम दिया था। उन्होंने कहा कि यह अत्यंत हास्यास्पद है कि कोई आतंकवादी संगठन सुतली बम से हमला करेगा। यहाँ यह बात गौर करने लायक है कि पटना रैली में एक दिन पूर्व पहुँचे भाजपाइयों ने रेलवे स्टेशनों पर जमकर आतिशबाजी की थी जिनकी मारक क्षमता इन बमों से कहीं ज्यादा थी। इस आतिशबाजी की आवाज काफी दूर तक सुनी गयी थी लेकिन जो सुतली बम फटे हैं, उनकी आवाज वहाँ मौजूद लोगों ने खुद सुनने से इंकार किया है तथा कहा है कि उन्होंने भी किसी से सुना है, इसकी भी जाँच होनी चाहिए।

राजीव यादव ने कहा कि मुजफ्फरनगर दंगे का बदला बताकर आईबी द्वारा आतंकी विस्फोट करवाने का यह प्लान बहुत पहले ही सामने आ गया था जब आईबी ने अखबारों में राहत शिविरों में आतंकवादियों की आवाजाही की फर्जी खबरें प्लांट करवाईं। अब इस जनसंहार के शिकार लोगों को न्याय से वंचित रखने के लिये राहुल गांधी और अन्य माध्यमों द्वारा इस किस्म का प्रचार किया जा रहा है कि पीड़ित परिवार आईएसआई के सम्पर्क में है और इन धमाकों द्वारा कथित तौर पर इनका बदला लेने का भ्रामक प्रचार किया जा रहा है। वास्तव में इन विस्फोटों में आईबी खुद शामिल है। उन्होंने कहा कि जिस तरह सादिक जमाल मेहतर फर्जी एनकाउंटर केस में आईबी अधिकारी राजेन्द्र कुमार को बचाने के लिये आईबी ने भाजपा तथा गृह मंत्रालय दोनों को ही सीबीआई पर दबाव डालने के लिये इस्तेमाल किया कि सीबीआई अपनी चार्जशीट में राजेन्द्र कुमार का नाम न शामिल करे। इसी के साथ आईबी ने सरकार को चेतावनी भी दी थी कि अगर ऐसा हुआ तो देश की सुरक्षा खतरे में पड़ जायेगी। इस धमकी के ठीक बाद आईबी ने संघ के माड्यूल का इस्तेमाल करके बोध गया में धमाके करवाये। उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर जनसंहार के मास्टरमाइण्ड संगीत सोम जो इस समय रासुका के तहत जेल में बंद है को उर्दू में लिखा गया जान से मारने वाला धमकी भरा पत्र जो पटना में मोदी की रैली में हुये धमाकों से एक दिन पहले मिला था, एक साजिश के तहत भेजा गया जिसमें मुजफ्फरनगर दंगों के बदले की बात कही गयी है। इसी तरह जब बोधगया में बम धमाके हुये थे तो वहाँ भी धमाकों में इस्तेमाल सिलेंडरों के साथ उर्दू में लिखे गये पत्रों के मार्फत यह दुष्प्रचार करने की कोशिश की गयी कि यह म्यांमार के मुसलमानों के खिलाफ हो रही ज्यादतियों का बदला लेने के लिये इस कार्यवाई को अंजाम दिया गया। उन्होंने कहा कि आरोपियों को रांची में पकड़ने की बात हो रही है तथा उनके पास से जेहादी साहित्य मिलने की बात कही जा रही है। क्या सरकार ने किसी अधिसूचना के तहत जेहादी साहित्य की कैटेगरी निर्धारित की है? फिर जेहादी साहित्य क्या है? इस पर फैसला कैसे होगा? कुल मिलाकर ये धमाके आईबी और संघ परिवार की मिली जुली साजिश का नतीजा है जिनमें पांच बेगुनाहों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा।

रिहाई मंच के अध्यक्ष मोहम्मद शुऐब ने कहा कि बिहार में हुये धमाकों को जिस तरह से मुजफ्फनगर को जोड़ा जा रहा है उसमें कई सवाल बहुत मौंजू हो जाते हैं। पिछले 27 सितंबर से शुरु हुये मुजफ्फरनगर व आस-पास के जिलों की सांप्रदायिक हिंसा में जिस तरीके से जाटों ने खुलेआम तलवार कटार नहीं बल्कि तमंचों, राइफलों, रिवाल्वरों और कुटबा-कुटबी जैसे गांवों में आधुनिक हथियारों का प्रयोग किया उस पर किसी आईबी की यह सूचना नहीं आई कि यह लोग किस आतंकी संगठन से जुड़े हैं? रिहाई मंच ने दंगों के दौरान कुटबा-कुटबी गाँव के लोगों के मोबाइल काल रिकॉर्ड को जारी करते हुये सपा सरकार से पूछा था कि मोबाइल बातचीत में जिस अंकल का जिक्र आया है वो कौन है। इस पर प्रदेश सरकार मौन है। क्योंकि हमने संदेह व्यक्त किया है कि जिस अंकल ने मुसलमानों को मारने के लिये दस मिनट के लिये फोर्स रुकवाई वो हो न हो मुंबई एटीएस प्रमुख केपी रघुवंशी हैं। क्योंकि केपी रघुवंशी इसी गाँव के हैं और उनके घर के लोग भी इस सांप्रदायिक हिंसा में नामजद अभियुक्त हैं। मोहम्मद शुएब ने कहा कि दंगों के बाद जिस तरीके से जाट महिलाओं ने तमचों के साथ खुले प्रदर्शन कर हत्यारे, बलात्कारियों, लूट-पाट करने वालों को बचाने के लिये प्रदर्शन किए उस पर देश की आईबी का क्या कहना है ? क्या इसे आतंकी वारदात नहीं माना जाये ? सांप्रदायिक हिंसा से ग्रस्त कुटबा-कुटबी गांव में जिस तरीके से आधुनिक हथियार जो एके 47 या 56 हो सकते हैं जो जाँच का विषय है के इस्तेमाल का मामला और जहाँ सर्व शक्ति का नाम के संघ परिवार से जुड़े संगठन का नाम आया है ऐसे में क्यों नहीं बिहार में हुये धमाकों में इन संगठनों को जाँच की परिधि में लाया जा रहा है। यह बहुत ही गैरतार्किक बात है कि मोदी पर हमला करने वाला संगठन सामुदायिक शौचालय जैसी जगहों पर हमला करेगा। दूसरे जिस तरह से सामने आ रहा है कि विस्फोटकों की क्षमता बहुत कम थी वो बताता है कि धमाकों को प्लांट करने वाले लोगों का मकसद दहशत फैलाकर मोदी के पक्ष में माहौल बनाना था, और अगर ऐसा नहीं था तो इस घटना के बाद भी मोदी ने कैसे रैली की। बिहार में हुये इस हमले से पहले आईबी ने यूपी में माहौल बनाया कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दाउद चुनावों के दौरान हमले कर सकता है, जिस पर 16 अक्टूबर के अखबारों में खबर भी आई की सीएम की सलाह पर 25 जिलों के अधिकारी बुलाये गये, ठीक उसके बाद राहुल गांधी द्वारा बोला गया कि आईबी के अधिकारी ने बताया कि मुजफ्फरनगर के दंगा पीड़ित आईएसआई के संपर्क में और उसके बाद मोदी की रैली में बिहार में हुये धमाके इन सबमें एक बात कॉमन है कि इन सब में आईबी की भूमिका है, ऐसे में बिहार में हुई घटना में राहुल गांधी और उनको सूचना देने वाले आईबी अधिकारी को भी जाँच के दायरे में लाया जाये।

आजमगढ़ से जारी बयान में रिहाई मंच आजमगढ़ के प्रभारी मसीहुद्दीन संजरी ने कहा कि ऐसी घटनाओं के बाद चाहे वो हमारा आजमगढ़ हो या फिर बिहार को कोई दरभंगा का इलाका हो या फिर कर्नाटक का भटकल ऐसे तमाम इलाकों में आईबी डर व दहशत का माहौल बनाकर मुसलमानों को परेशान करती है। मुजफ्फरनगर दंगें हों या फिर गुजरात दंगा हो या फिर बाबरी मस्जिद का विध्वंस, उसको बहाना बनाकर मुस्लिम नौजवानों का उत्पीड़न करना एटीएस और खुफिया एजेंसियों की प्रवृत्ति बन गयी है। जहाँ दंगो में हमें इंसाफ से वंचित किया जाता है तो वहीं आतंकवाद का आरोप हमारे बेगुनाह बच्चों को जेलों में सड़ाया जाता है।

इलाहाबाद से जारी बयान में रिहाई मंच इलाहाबाद के प्रभारी राघवेन्द्र प्रताप सिंह और सामाजिक कार्यकर्ता हरेराम मिश्र ने कहा कि आज जिस तरह से राहुल गांधी से आईबी ने कहवाया कि मुजफ्फरनगर दंगों के शिकार लोग से आईएसआई के सम्पर्क हैं, ऐसी मुस्लिम विरोधी अफवाहें फैलाने का ठेका संघ परिवार का था पर जिस तरीके से अपने को सेक्युलर कहने वाले दलों ने टेरर पालिटिक्स करने के लिये मुसलमानों पर हमलवार हो रहे हैं वो लोकतंत्र के लिये खतरनाक है। इसी लॉजिक के तहत गुजरात में सादिक जमाल मेहतर के कत्ल को गुजरात की पुलिस एवं आईबी ने हत्या के बाद दर्ज एफआईआर में साबित करने की कोशिश की। यही बात गुजरात दंगों के बाद सन् 2002 में गुजरात भाजपा के नेता भारत बरोट ने भी आईएम के गठन को सही साबित करने की आईबी की इस चाल हाँ में हाँ मिलायी थी ताकि संघ परिवार की इस थ्योरी की आड़ में मुसलमानों को आतंकवादी घोषित करने के कुचक्र को आईबी चलाती रहे।

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

Veda BF – Official Movie Trailer | मराठी क़व्वाली, अल्ताफ राजा कव्वाली प्रेम कहानी – …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: