Home » बंगाल में चुनाव तो निबट गया,अब अमन-चैन की बहाली कैसे होगी?

बंगाल में चुनाव तो निबट गया,अब अमन-चैन की बहाली कैसे होगी?

नंदीग्राम और कांथी में विपक्ष का एजंट कहीं नहीं!
मेदिनीपुर शुभेंदु अधिकारी के हवाले और कूचबिहार में दीदी ने कमान संभाली,बाकी सिपाहसालार हाशिये पर!
एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास
कोलकाता (हस्तक्षेप)। पांच साल में किसी उम्मीदवार की संपत्ति में अगर हजार गुणा तो इजाफा हुआ है तो लोकतंत्र की परिभाषा क्या हो सकती है, समझ लीजिये। बेलगाम हिंसा का सबब यही है। सिंडकेट राज में बंगाल में लोकतंत्र की तस्वीर यही है।
बंगाल में चुनाव तो निबट गया,अब अमन चैन की बहाली कैसे होगी। जनादेश से बनने वाली सरकार के लिए यही सबसे बड़ी चुनौती होगी।
पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के छठे और आखिरी चरण में 84.24 प्रतिशत से ज्यादा लोगों ने मतदान किया। पूर्वी मेदिनीपुर जिले में 75.19 प्रतिशत और कूचबिहार में 72.31 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। दोपहर तीन बजे तक कुल मतदान का प्रतिशत 74.15 था।
आजादी के बाद यह पहला मौका है, जब कूच बिहार जिले में सीमावर्ती बस्तियों के 9,776 निवासियों को अपने मताधिकार का उपयोग करने का अवसर मिला है। ऐसा पिछले साल इन बस्तियों के भारतीय क्षेत्र में औपचारिक विलय के बाद संभव हुआ। अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने वालों में 103 साल के असगर अली भी शामिल हैं।
शुभेंदु अधिकारी की जादू की छड़ी का करिश्मा यह रहा कि नंदीग्राम और कांथी में कहीं विपक्ष का पोलिंग एजंट नजर नहीं आया।
नंदीग्राम में वैसे वामदलों या कांग्रेस का कोई उम्मीदवार नहीं है, वहां गठबंधन की ओर से निर्दलीय प्रत्याशी मैदान में हैं और शुभेंदु के मुताबिक नंदीग्राम में माकपा विरोधी हवा अब भी सुनामी है और उन्हें कोई एजंट मिला ही नहीं है तो वे कुछ नहीं कर सकते।
बंगाल में अंतिम चरण के मतदान में भूतों का नाच केंद्रीय वाहिनी, सक्रिय पुलिस और चुनाव आयोग की सख्ती के बाद जितना और जहां संभव हुआ,खूब हुआ। दो-दो उम्मीदवारों के खिलाफ एफआईआर हुई।
हमलों और संघर्ष, धमकियों और दहशतगर्दी का सिलसिला बदस्तूर जारी रहा और बाकी बंगाल में चुनावी हिंसा का दौर अभी थमा नहीं है। इसके बावजूद सबसे खास बात है कि दीदी  मेदिनीपुर में वोट कराने का एकाधिकार सांसद शुभेंदु अधिकारी के हवाले करके खुद उत्तर बंगाल के कूच बिहार में तंबू डालकर बैठ गयीं।
सत्तादल के अंदर महल का यह खुल्लमखुल्ला खुलासा है कि दीदी ने इस चुनाव में अनुब्रत के अलावा शुभेंदु पर ही भरोसा किया है और बाकी सिपाहसालारों को हाशिये पर छोड़ दिया है।
दूसरी ओर मतदान लाइव में शुभेंदु अधिकारी का ही जलवाबहार रहा फ्रेम दर फ्रेम।
सूर्यकांत मिश्र ने पुलिस अफसरों के साथ उनकी बैठक का जो सनसनीखेज आरोप लगाया, उसे चुनाव आयोग ने खारिज कर दी तो भाजपा ने भी शुभेंदु और वफादार पुलिस अफसरान के मोबाइल लोकेशन की निगरानी की मांग चुनाव आयोग से कर दी, जिसे आयोग ने खारिज नहीं किया और इसके साथ विपक्ष जिन आला पुलिस अफसरान पर सत्तादल का वोट मैनेज करने का आरोप लगाता रहा है,वे सभी चुनाव आयोग की निगरानी में रहे और उन्हें भी नजरबंद रखा।
पूर्वी मेदिनीपुर जिले में 7500 जवान तैनात किए गए हैं। केंद्रीय बलों की शेष जो लगभग 310 कंपनियां शुरुआती चरणों के लिए पश्चिम बंगाल में तैनात थीं, उन्हें तमिलनाडु और केरल में भेजा गया है। इन दोनों राज्यों में चुनाव होने हैं।
अधिकारियों ने कहा कि चूंकि अंतिम चरण के तहत चुनावी प्रक्रिया में शामिल हो रहे ये दोनों जिले असम और ओडिशा की सीमा से लगते हैं, इसलिए चुनावी पैनल ने उन राज्यों के प्रमुख सचिवों को पत्र लिखकर सीमावर्ती इलाकों में नाका बिंदू बनाने के लिए कहा है।

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *