Home » समाचार » मानी गई माँगों के पूरा न होने पर आँगनवाड़ी कर्मचारियों ने दिल्ली सचिवालय पर फिर प्रदर्शन किया!

मानी गई माँगों के पूरा न होने पर आँगनवाड़ी कर्मचारियों ने दिल्ली सचिवालय पर फिर प्रदर्शन किया!

 नई दिल्ली, 16 सितम्बर। दिल्ली की आँगनवाड़ी कर्मचारियों ने पिछले दिनों दिल्ली सरकार द्वारा मानी गई सभी माँगों के लागू न होने के विरोध में बुधवार को दिल्ली सचिवालय पर विशाल प्रदर्शन किया।
‘दिल्ली स्टेट आँगनवाड़ी वर्कर्स एण्ड हेल्पर्स यूनियन’ के नेतृत्व में हुए इस प्रदर्शन में दिल्ली की सैंकड़ों आँगनवाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका शामिल रही।
कर्मचारियों के इस जुटान ने दिल्ली सरकार पर सभी माँगे लागू करने के लिए दबाव बना दिया है।
ज्ञात हो कि पिछले दिनों दिल्ली की आँगनवाड़ी कर्मचारियों ने रूके हुए वेतन के भुगतान, वेतन बढ़ोत्तरी अन्य जायज़ माँगों के लेकर केजरीवाल के निवास पर 23 दिन लम्बा ध्रना दिया था। इसमें 7 दिन ये कर्मचारी अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर भी रहे थे।
इस लम्बे संघर्ष के बाद दिल्ली सरकार झुकी थी और स्वयं मुख्यमन्त्री केजरीवाल ने सभी माँगे मानने का लिखित आश्वासन दिया था।
फिलहाल न तो इन कर्मचारियों का रूका हुआ वेतन आया है, न वेतन बढ़ोत्तरी और सबला स्कीम का पैसे मिलने के वादों के बाबत केजरीवाल सरकार ने कोई ठोस कार्यवाही की हैं। मजबूर हो इन कर्मचारियों ने फिर संघर्ष की राह पकड़ ली है और बुधवार को हुआ प्रदर्शन इसी संघर्ष की एक कड़ी है।
‘दिल्ली स्टेट आंगनवाड़ी वर्कर्स एण्ड हेल्पर्स’ यूनियन के सदस्य नितिन ने बताया कि आज के जुटान ने केजरीवाल सरकार को एक चेतावनी थी कि आंगनवाड़ी कर्मचारी सिर्फ आश्वासन मिलने पर ही चुप नहीं बैठेंगे, जब तक सभी माँगे पूरी तरह लागू नहीं होती, हमारे प्रदर्शन जारी रहेंगे। उन्होंने कहा कि आगे की योजना है कि ‘दिल्ली स्टेट आंगनवाड़ी वर्कर्स एण्ड हेल्पर्स यूनियन’ से आँगनवाड़ी के सभी कर्मचारियों को जोड़ा जायेगा, साथ ही न्यूनतम वेतन लागू हो, कर्मचारियों को स्थाई किया जाये, आँगनवाड़ी पेंशन योजना लागू हो, जैसी माँगों को लेकर पूरी दिल्ली में एक माँग-पत्राक आन्दोलन चलाया जायेगा।
यूनियन के सदस्य अमित ने कहा कि इस माँग-पत्राक की सभी माँगे मनवाने के लिए आगे मोदी सरकार को भी घेरा जायेगा।

Today’s Trends
Cancer, Cancer immunotherapy, Amgen, Inflammation, Insurance, Srinagar, Baramulla district, Baramulla

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: