Home » मोदी जी! दलितों को “स्टैंड-अप-इंडिया” नहीं, ज़मीन, घर और रोज़गार चाहिए – दारापुरी

मोदी जी! दलितों को “स्टैंड-अप-इंडिया” नहीं, ज़मीन, घर और रोज़गार चाहिए – दारापुरी

मोदी सरकार भूमि अधिग्रहण करके दलितों को भूमिहीन बना रही है
लखनऊ, 6 अप्रैल, 2016। आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता एस.आर. दारापुरी ने कहा है- “मोदी जी ! दलितों को “स्टैंड-अप-इंडिया” नहीं बल्कि ज़मीन और रोज़गार चाहिए”. उन्होंने कहा है कि 2011 की आर्थिक एवं जाति जनगणना के अनुसार भारत के कुल परिवारों में से 4.42 करोड़ परिवार अनुसूचित जाति/ जन जाति से सम्बन्ध रखते हैं.  इन परिवारों में से केवल 23% अच्छे मकानों में, 2% रहने योग्य मकानों में और 12% जीर्ण शीर्ण मकानों में रहते हैं. इन परिवारों में से 24% परिवार घास फूस, पालीथीन और मिटटी के मकानों में रहते हैं. इन आंकड़ों से स्पष्ट है कि अधिकतर दलितों के पास रहने योग्य घर भी नहीं है. काफी दलितों के घरों की ज़मीन भी उनकी अपनी नहीं है.
इसी प्रकार उपरोक्त जनगणना के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र में 56% परिवार भूमिहीन हैं. इन में से भूमिहीन दलितों का प्रतिशत 70 से 80 % से भी अधिक हो सकता है. दलितों की भूमिहीनता की दशा उन की सबसे बड़ी कमजोरी है जिस कारण वे भूमिधारी जातियों पर पूरी तरह से आश्रित रहते हैं. इसी प्रकार देहात क्षेत्र में 51% परिवार हाथ का श्रम करने वाले हैं जिन में से दलितों का प्रतिशत 70 से 80 % से अधिक हो सकता है. जनगणना के अनुसार देहात क्षेत्र में केवल 30% परिवारों को ही कृषि में रोज़गार मिल पाता है. दलित मजदूरों की कृषि मजदूरी पर सब से अधिक निर्भरता है. दलितों की भूमिहीनता और हाथ की मजदूरी की विवशता उन की सब से बड़ी कमजोरी है. इसी कारण वे न तो कृषि मजदूरी की ऊँची दर की मांग कर सकते हैं और न ही अपने ऊपर प्रतिदिन होने वाले अत्याचार और उत्पीड़न का मजबूती से विरोध ही कर पाते हैं. अतः दलितों के लिए ज़मीन और रोज़गार उन की सब से बड़ी ज़रुरत है परन्तु इस के लिए मोदी सरकार का कोई एजंडा नहीं है. इस के विपरीत मोदी सरकार भूमि अधिग्रहण करके दलितों को भूमिहीन बना रही है और कृषि क्षेत्र में कोई भी निवेश न करके इस क्षेत्र में रोज़गार के अवसरों को कम कर रही है. अन्य क्षेत्रों में भी सरकार रोज़गार पैदा करने में विफल रही है. अब मोदी सरकार दलितों को केवल “स्टैंड-अप-इंडिया” जैसी टाफी देकर बहलाने और फुसलाने की कोशिश कर रही है. उत्तर प्रदेश के दलित भाजपा की इस राजनीतिक चाल को अच्छी तरह समझ रहें हैं और वे उस के झांसे में आने वाले नहीं है.

About हस्तक्षेप

Check Also

Amit Shah Narendtra Modi

तो नाकारा विपक्ष को भूलकर तैयार करना होगा नया नेतृत्व

तो नाकारा विपक्ष को भूलकर तैयार करना होगा नया नेतृत्व नई दिल्ली। कुछ भी हो …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *