Home » हेडगेवार के चेलों के हाथों लुटने को अभिशप्त है गांधी का गुजरात

हेडगेवार के चेलों के हाथों लुटने को अभिशप्त है गांधी का गुजरात

मोदी जी, ये जो आपका गरवी गुजरात है !
आज प्रत्येक 100 गुजरातियों में 40 व्यक्ति गरीब हैं
भंवर मेघवंशी
आजकल हर जगह ‘एक भारत – श्रेष्ठ भारत’ का विज्ञापन दिखलाई पड़ता है, जिसमें गुजरात के अनुभवों से भारत की उम्मीदों को जोड़ते हुये देश में सुराज्य की स्थापना का आह्वान किया गया है। सरकर का धर्म-भारत, धर्मग्रंथ-संविधान, भक्ति-देशभक्ति, शक्ति-जनशक्ति के काव्यात्मक पंक्तियों के साथ सवा सौ करोड़ देशवासियों की भलाई की कामना दर्शाते हुये इसे आपकी सरकार की कार्यशैली के रूप में रेखांकित किाय गया है और सार्मथ्य, सम्मान एवं समृद्धियुक्त ‘नये भारत’ की ओर चलने की बात कही गयी है। जरूर चलेंगे मोदी जी, लेकिन रात दिन देशभर में लाखों लोगों के बीच विकास का दावा करने और राष्ट्र को एक श्रेष्ठ राष्ट्र बनाने के संकल्प को दोहराते-दोहराते अगर आप थोड़ी सी फुरसत में हो तो जरा उस गुजरात के विकास की बात कर लें, जिसे आप एक आदर्श के रूप में प्रस्तुत करते रहे हैं।
निश्चित रूप से आपने देश भर के बड़े मुनाफाखोर उद्योग घरानों को गुजरात में आमंत्रित किया है, उन्हें मुफ्त जमीनें, टेक्सों में रियायतें, चमचमाती सड़कें और अबाध ऊर्जा दी है, ताकि वे और फल-फूल सकें तथा अपनी तिजोरियाँ भर सके, मगर उन 60 हजार छोटे स्तर के उद्योग धंधों का क्या हुआ जो विगत 10 वर्षों में बन्द हो गये ? विकास, विकास और सिर्फ विकास की माला जपने वाले हे विकास पुरूष, आँकड़े तो बताते हैं कि आपका गुजरात प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में आज पाँचवे पायदान पर है। आपको मालूम ही होगा कि सन् 1995 में जब आपकी पार्टी पहली बार सत्तारूढ़ हुयी तब गुजरात सरकार का कर्जा 10 हजार करोड़ रुपए से भी कम था, अब आपके निपुण और सार्मथ्यशाली नेतृत्व में वह 1 लाख 38 हजार 978 करोड़ तक पहुँच गया है तथा अनुमान है कि वर्ष 2015-16 के बजट तक यह 2 लाख करोड़ का जादुई आंकड़ा पार कर लेगा।
अन्नदाता किसान की बातें आपने कई जगहों पर उठाई, एक कृषि प्रधान देश के सम्भावित पंत प्रधान को निश्चित रूप से किसानों की चर्चा और चिन्ता करनी चाहिये लेकिन यह भी बताना चाहिये कि कृषि वृद्धि में गुजरात आठवें स्थान पर क्यों है ? गुजरात में खाद (उर्वरक) पर पाँच प्रतिशत वेट क्यों लगा रखा है जो कि इस देश में अधिकतम है। मार्च 2001 से अब तक जिन 4 लाख 44 हजार 885 किसानों के कृषि विद्युत कनेक्शन लम्बित हैं, उनके खेतों तक रोशनी कब पहुँचेगी ? या सिर्फ अदानी, अम्बानी, टाटाओं को ही माँगते ही बिजली कनेक्शन मिलते रहेंगे, और देश का भाग्य विधाता किसान दशकांे तक सिर्फ इंतजार करेगा, ‘जय जवान-जय किसान’ के अमर उद्घोषक लौहपुरूष के नाम पर देश भर से लौहा इकट्ठा कर रहे हे विकास पुरूष, गुजरात के इन लाखों किसानों को लौहे के चने चबाने पर क्यों मजबूर कर रखा है आपने ?
विचित्र वेशभूषा धारण करके मंचों पर मुट्ठियां बंद करके किसी भारोत्तोलक की भांति भंगिमाए बनाकर अपने गलत इतिहास बोध का परिचय देने तथा गुजरात में बिजली, पानी, सड़क, स्वास्थ्य, शिक्षा और रोजगार के लम्बे चौड़े दावे करने वाले कलियुगी विकास के हे अन्तिम अवतार, जरा यह भी तो बताते जाओ कि गुजरात के 26 जिलों के 225 ब्लॉक अब भी डार्क जोन में क्यों हैं ? राज्य के पाँच वर्ष से कम आयु के लगभग आधे बच्चे कुपोषण से क्यों पीड़ित हैं ? 70 प्रतिशत बच्चों में खून की कमी और 40 प्रतिशत सामान्य से भी कम वजन के क्यों है ? क्या ये भी डाइटिंग कर रहे हैं ? एनीमिया से प्रभावित महिलाओं के मामले में गुजरात का स्थान 20वां है हालाँकि आप इसका स्पष्टीकरण भी दे चुके हैं कि गुजराती महिलाएं अपने बदन को इकहरा या छरहरा रखने के लिये और स्लिम तथा फिट दिखने के लिये डाइटिंग करती हैं, वाकई भूख और कुपोषण का इससे सुन्दर और रोचक जस्टिफिकेशन आपके सिवा कौन दे सकता है।
गुजरात के आठ शहरों तथा तीन तालुकों में 2894 शिक्षकों के पद खाली क्यों है, वहीं चार जिलों के 178 स्कूल एकल शिक्षक के भरोसे क्यों चल रहे हैं ? आपको सार्वजनिक शिक्षा की तो वैसे भी चिन्ता नहीं होगी क्योंकि आप तो निजीकरण के घनघोर पक्षधर हैं, इसलिये शिक्षा जैसी बुनियादी सेवा को भी पब्लिक स्कूलों के प्रतिस्पर्धी बाजार के हवाले करने में आपको कोई झिझक नहीं है।
आपके राज्य का स्वास्थ्य खर्च प्रतिवर्ष कम हो रहा है, आँकड़े बताते है कि राज्य स्तरीय बजट में स्वास्थ्य सम्बंधी मद में आवंटन के मामले में गुजरात का स्थान ऊपर से नहीं, नीचे दूसरा है, इसका मतलब यह नहीं है कि गुजरात में बीमार लोग नहीं है या उनके इलाज के लिये अस्पताल नहीं है, सब है पर प्राइवेट, मरीज लालची डॉक्टरों के हवाले कर दिये गये हैं, जिसकी जेब में जितना दम, उसका उतना ही अच्छा इलाज हो सकता है, मतलब साफ है कि राज्य सरकार अपने नागरिकों के स्वास्थ्य के फर्ज को अदा करने में नाकाम रही है, उसने स्वास्थ्य सेवाओं को बाजार के हवाले कर दिया है जबकि ग्रामीण शिशु मृत्यु दर में गुजरात का स्थान 14वां है तो एनीमिया से प्रभावित बच्चों के मामले में गुजरात 16वें पायदान पर है।
इतने विकसित आपके ‘गरवी गुजरात’ में भूख की बात करना तो शायद आपको अच्छा नहीं लगेगा पर वर्ष 2009 की वैश्विक भूख रिपोर्ट के मुताबिक भारत के 17 बड़े राज्यों में से 23.3 के भूख सूचकांक के साथ गुजरात का स्थान 13वां है, आपका विकसित गुजरात भी बिहार, झारखण्ड जैसे खतरे की सूची वाले राज्यों में शामिल हो चुका है, मेहरबानी करके आप यह मत कहियेगा कि यह कोई ‘भूख वूख’ नहीं है, यह तो उपवास है।
नर्मदा मैया का पानी गुजरात पहुँचा कर पीठ ठोंकते-ठोंकते आपकी पीठ में दर्द होने लगा हो तो जरा ठहरिये, राष्ट्रीय जनगणना-2011 के मुताबिक आपके राज्य की सिर्फ 29 फीसदी आबादी को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध है, जिन 6 करोड़ गुजरातियों पर आप गर्व करते रहे है उनमें से पौने दो करोड़ लोगों को शुद्ध पेयजल प्राप्त नहीं होता है।
मोदी जी, एक तरफ जहाँ गुजरात में अमीरी बढ़ रही है, वैभव और सम्पन्नता अपनी पूरी नग्नता से दृष्टिगोचर हो रहा है, वहीं गरीबी भी निरन्तर बढ़ रही है। आज प्रत्येक 100 गुजरातियों में 40 व्यक्ति गरीब हैं, राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण संगठन के आंकड़े कहते है कि गुजरात में गरीबी घटने का प्रतिशत निम्नतम है, मतलब कि गरीबी घट नहीं बढ़ रही है।
शायद इस प्रकार की आंकड़ेबाजी से आप नाराज हो जायेंगे इसलिये थोड़ी सी सीधी-सीधी समझ आने लायक बातें करे कि गुजरात में हरेक तीन दिन में एक बलात्कार होता है। कुपोषण, एनीमिया से बच्चों की मौतें हो रही है, बिजली किसानों के लिये नहीं बल्कि उद्योग घरानों के लिये है, सरकारी स्कूलें खाली हो रही है, प्राइवेट पब्लिक स्कूलों में भीड़ बढ़ रही है, सरकारी अस्पतालों को पंगु बना दिया गया है ताकि निजी अस्पताल चांदी काट सके, छोटे कल-कारखाने तथा कुटीर घरेलू उद्योग निरन्तर दम तोड़ रहे है, भूखमरी बढ़ रही है और भ्रष्टाचार का तो आलम यह है कि अहमदाबाद की सड़कों पर खड़ा गुजरात ट्रेफिक पुलिस का जवान बाहर से आने वाली गाडि़यों से खुलेआम 20-20 रुपये तक वसूल लेता है, चारों तरफ लूट मची है, पैसों से लेकर संसाधनों तक की, देश-विदेश के लुटेरों ने अपने डेरे डाल दिये है वहां, गांधी का गुजरात अब हेडगेवार के चेलों के नेतृत्व में लुटने को अभिशप्त है।
आप ‘गुड गर्वनेंस’ और सुराज्य की बड़ी-बड़ी बातें करते है लेकिन आपकी विधानसभा में विगत 10 वर्षों से डिप्टी स्पीकर का पद खाली है और तमाम आलोचनाओं के बाद भी पिछले 10 वर्ष से लोकायुक्त के पद पर नियुक्ति नहीं की गयी। आपने वन अधिकार अधिनियम को लागू करने की कोई इच्छा शक्ति नहीं दिखाई है। सूचना के अधिकार के सिपाही वहां गोलियों से भूने गये और रोजगार गारण्टी योजना ठीक से लागू नहीं की जा रही है। बीपीएल के राशन कार्ड का मसला हो अथवा खाद्य सुरक्षा का मामला, हर तरफ फिसड्डी साबित हो रहा है गुजरात, मगर इतिहास साक्षी है कि जब रोम जल रहा था तब नीरो बंशी बजा रहा था।
जला तो गुजरात भी था, गोधरा में रामसेवकों से भरी बोगी से लगाकर पूरे गुजरात के गांव व शहरों के अल्पसंख्यक चुन-चुन कर मारे गये, काटे गये, जिन्दा जला दिये गये, औरतों के साथ बलात्कार किए गये। गर्भवतियों के पेट फाड़कर भ्रूण निकालकर उन्हें हवा में उछाल कर काट डालने का नृशंस काम किया गया। इस नरसंहार के मामले में आपकी मंत्री मण्डलीय सहयोगी माया कोडनानी जेल में है। ईशरत जहां और सोहराबुद्दीन तथा तुलसीराम प्रजापत जैसे फर्जी एनकाउण्टरों में गुजरात के गृहमंत्री से लेकर डीजीपी तक सब सलाखों के पीछें पहुँचे है फिर भी आप गर्व से कहते है कि वर्ष 2002 के बाद गुजरात में कोई दंगा नहीं हुआ है, शांति है! वाकई, मरघट की शांति है, उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद जिन 1958 दंगा केसों को दुबारा खोला गया, उनमें से मात्र 117 मामलों में ही गुजरात पुलिस ने गिरफ्तारियां की है यानि कि कुल मामलों के मात्र 5 प्रतिशत में कार्यवाही, यह कैसा न्याय और शांति और विकास है आपके राज्य में ?
दलितों को नहर का पानी लेने-देने से लेकर सार्वजनिक स्थलों पर उनके साथ हो रहे भेदभाव की खबरें निरन्तर आ रही है, आप दक्षिण में दलितों की सभाओं को सम्बोधित कर रहे हो, दिल्ली में दलित नेता उदितराज को गले लगा रहे हो और मुजफ्फरनगर में पासवान से गले मिल रहे हो लेकिन आपके गुजरात में विगत दिनों 5 हजार दलितों ने हिन्दू धर्म छोड़कर धर्मान्तरण कर लिया, अपने ही राज्य के दलितों को गले से क्यों नहीं लगा पाये आप, सिर्फ सामाजिक समरसता पर किताबें लिख देने तथा बिकाऊ दलित लीडरों से मौसमी समझौते कर लेने मात्र से कोई दलितों का हितैषी नहीं हो जाता है, इतना याद रखो विकास पुरूष।
और अंत में देश के नौजवानों को बताना चाहता हूं कि प्रिन्ट, इलेक्ट्राॅनिक और सोशल मीडिया के द्वारा छिडके गये इस ‘मोदी स्प्रे’ को ‘लहर’ मानकर ‘नमो-नमो’ का यशगान करते हुये यह मत भूलना कि गुजरात में भी बेरोजगारी के आंकड़े उतने ही भयावह है जितने बाकी राज्यों में है। गुजरात सरकार के स्वयं के रोजगार संबंधी आंकडे बताते है कि राज्य में 30 लाख बेरोजगार पंजीकृत है जिनमें 10 लाख पढे लिखे सुशिक्षित बेरोजगार युवा भी शामिल है। राष्ट्रीय नूमना सर्वेक्षण संगठन कहता है कि पिछले 12 वर्षों से गुजरात में रोजगार वृद्धि की दर लगभग शून्य है, ऐसी हालात के बावजूद आप देश के युवाओं को करोड़ो रोजगार के अवसर मुहैया कराने का दावा करते है तो यह सरासर धोखा है देश के नवजवानों के साथ।
जनवादी विचार आन्दोलन ने तो एक पर्चा छाप कर आपके विकास की कलई ही खोल दी है तथा कहा है कि गुजरात की इस असलियत को मीडिया कभी लोगों तक नहीं पहुँचायेगा, बिल्कुल सही बात है, इस बिकाऊ मीडिया ने देश को इस बात से अब तक अंजान रखा है कि कैग ने गुजरात राज्य में भूमि आवंटन तथा अन्य सरकारी कामों की हाल की समीक्षा रिपोर्ट में कहा है कि गुजरात में जो वित्तिय अनियमितताएं हुयी है, वह कुल 16 हजार 706 करोड़ का घोटाला है। पर, अगर इतना सा भी घोटाला नहीं होगा तो बड़े-बड़े विज्ञापन, विशाल रैलियां और रात-दिन दौड़ते हेलीकाॅप्टर का खर्चा क्या अदानी, अम्बानी या टाटा देंगे ?
खैर, जनवादी विचार आन्दोलन द्वारा उपलब्ध कराये गये इन तथ्यों के आलोक में विकास पुरूष से यह सवाल पूछने का मन करता है कि – मोदी जी, शूं आ छे तमारू गरवी गुजरात ? (मोदी जी तो यह है आपका गरवी गुजरात ?)

About the author

भंवर मेघवंशी, लेखक स्वतंत्र पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता हैं।

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: