Home » 3rd Prof Iqbal Ansari Memorial Lecture on Friday

3rd Prof Iqbal Ansari Memorial Lecture on Friday

New Delhi: Third Prof. Iqbal Ansari Memorial Lecture will be held on Friday, 22nd November 13. The lecture will be delivered by Advocate Vrinda Grover on the topic of “Communal Violence and the Question of Justice: Notes from the Field and the Courtroom” at FTK-CIT Hall of Jamia Millia Islamia, New Delhi, 3 PM onwards. The National Commission for Minorities (NCM)’ Member and Professor of Education at Jamia, Farida Abdullah Khan will chair the lecture.

Advocate Grover is a senior human rights lawyer at the Delhi High Court and a research fellow at prestigious Nehru Memorial Museum and Library, Delhi. This year the Time Magazine listed her as one of the 100 most influential persons of the world for the year of 2013. She will be speaking about her experiences of working with victims and survivors of communal and state violence, right from 1984’s anti-Sikh pogrom.

The lecture is instituted by the friends, comrades and students of late Professor Iqbal Ansari and the last two lectures were delivered by former Civil Servant turned Activist, Harsh Mander and the People’s Union of Civil Liberties (PUCL)’s national general secretary, Adv. V Suresh. Prof. Iqbal Ansari was a noted civil liberties activist and researcher associated with various organisations and groups across India and abroad. He passed away in the year of 2009 on 13th October.

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: