Advertisment

95 प्रतिशत लोगों में होती है घर की धूल में पाए जाने वाले डस्ट माइट से एलर्जी

author-image
hastakshep
17 Apr 2019
New Update
95 प्रतिशत लोगों में होती है घर की धूल में पाए जाने वाले डस्ट माइट से एलर्जी

Advertisment

गाजियाबाद, 17 अप्रैल। एलर्जी विषय पर डॉक्टरों के लिए यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी में एक सजीव कार्यशाला एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। डॉक्टर अंकित सिन्हा ने एलर्जी के विभिन्न प्रकार (Different types of allergens) के कारणों का पता लगाने हेतु स्किन प्रिक टेस्ट (Skin prick test) का सजीव प्रशिक्षण दिया तथा बताया कि 95% से भी अधिक लोगों में घरों में पाई जाने वाली सामान्य धूल (Common dust found in homes) के अंदर पनप रहे डस्ट माइट (Dust mite) की वजह से एलर्जी होती है।

Advertisment

अन्य कारणों के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि विभिन्न लोगों में कुछ खाने की चीजें जैसे मूंगफली के दाने अंडा दूध गेहूं इत्यादि से भी एलर्जी होती है और बहुत ही सरल तरीके से हमारी त्वचा के ऊपर स्किन प्रिक टेस्ट से इन कारणों का पता लगाया जा सकता है और मरीजों को होने वाली भारी असुविधा से बचाया जा सकता है।

Advertisment

American Diabetes Association Issues Critical Updates to the 2019 Standards of Medical Care in Diabetes

Advertisment

कार्यशाला का उद्घाटन यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल (Yashoda Super Specialty Hospital) के एमडी डॉ पीएन अरोड़ा ने किया।

Advertisment

इस कार्यशाला के आयोजन में यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल वरिष्ठ पल्मनोलॉजिस्ट एलर्जी रोग विशेषज्ञ (Senior Pulmonologist Allergy Specialist in Delhi/NCR) डॉक्टर के. के. पांडे, अर्जुन खन्ना एवं डॉ अंकित सिन्हा ने प्रशिक्षण दिया।

Advertisment

Advertisment
सदस्यता लें