Home » lifestyle » बच्चों को रखना है दमा से दूर तो खिलाएं बादाम, मछली, सोयाबीन
Health news

बच्चों को रखना है दमा से दूर तो खिलाएं बादाम, मछली, सोयाबीन

बच्चों को रखना है दमा से दूर तो क्या खिलाएं |What to feed children to keep away from asthma

नई दिल्ली, 7 दिसंबर। क्या आप भी चाहते हैं कि आपके बच्चे दमा से दूर रहें और स्वस्थ रहें तो उन्हें बादाम, मछली और सोयाबीन खिलाएं।

दमा मरीजों के लिए डाइट प्लान | Diet plan for asthma patients

एक शोध में कहा गया है कि बादाम, मछली जैसे सैलमॉन, पटसन के बीज व सोयाबीन तेल में मौजूद जरूरी पॉलीअनसेचुरेटेड वसा अम्ल आपके बच्चों के आहार में शामिल होकर उन्हें एलर्जी संबंधी बीमारियों से दूर रखेंगे। इनका सेवन आपके बच्चे को खास तौर से दमा (अस्थमा) व नाक में जलन व श्लेष्मा झिल्ली में सूजन के जोखिम को रोकने में कारगर होगा। दमा व नाक के एलर्जी संबंधी रोग से बच्चों के बचपन पर असर पड़ता है। इसकी वजह या तो आनुवांशिक होती है या पर्यावरणीय कारकों का असर होता है।

शोध के परिणाम बताते हैं कि पॉलीअनसेचुरेटेड वसा अम्लों की रक्त में बढ़ी मात्रा बच्चों में एलर्जी संबंधी रोगों के जोखिम को कम करने से जुड़ी हुई है।

पॉलीअनसेचुरेड वसीय अम्ल में ओमेगा-3 व ओमेगा-6 वसा अम्ल आते हैं, जिन्हें एराकिडोनिक अम्ल कहते हैं।

ऐसे बच्चों में, जिनमें आठ साल की उम्र में ओमेगा 3 का उच्च रक्त स्तर होता है, उनमें 16 साल की उम्र में दमा या नाक में जलन या श्लेष्मा झिल्ली में एलर्जी के विकसित होने की संभावना कम होती है।

उच्चस्तर वाले ओमेगा-6 वसा अम्ल जिसे एराकिडोनिक अम्ल कहते हैं, यह 16 साल की उम्र में दमा के कम जोखिम से जुड़ा हुआ है।

स्वीडेन के कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट की शोधकर्ता एना बर्गस्ट्रोम ने कहा,

“चूंकि एलर्जी की अक्सर शुरुआत बचपन के दौरान होती है, ऐसे में इस शोध का मकसद पर्यावरण व जीवनशैली का एलर्जी संबंधी बीमारियों पर असर देखना था।”

advertorial English Fashion Glamour Jharkhand Assembly Election Kids Fashion lifestyle Modeling News News Opinion Style summer Uncategorized आपकी नज़र कानून खेल गैजेट्स चौथा खंभा तकनीक व विज्ञान दुनिया देश धारा 370 बजट बिना श्रेणी मनोरंजन राजनीति राज्यों से लोकसभा चुनाव 2019 व्यापार व अर्थशास्त्र शब्द संसद सत्र समाचार सामान्य ज्ञान/ जानकारी स्तंभ स्वतंत्रता दिवस स्वास्थ्य हस्तक्षेप

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: