Home » ANTI-AFSPA MARCH FROM MANDI HOUSE METRO STATION TO JANTAR MANTAR ON 30 MAR

ANTI-AFSPA MARCH FROM MANDI HOUSE METRO STATION TO JANTAR MANTAR ON 30 MAR

The draconian law of Armed Forces Special Powers Act (AFSPA) rules over eight states in India. With its provision of unrestrained power – shoot at sight, arrest without warrant, search and destroy public property on mere suspicion and legal impunity to the armed forces, AFSPA has led to extra-judicial killings, rapes, torture and fake encounters in these states.

Yet, AFSPA has been existing for 60 years now. In these 60 years, there have been countless numbers of protests and demonstrations against this inhuman act. It has been 14 years now that Irom Sharmila, a Manipuri activist, has been on a hunger-strike against AFSPA but while her heroic struggle is challenging the conscience of people across the world, her own Government remains unmoved. Almost all major parties in the country have been silent about the everyday horror in these states.

But this silence needs to be broken. In the wake of the coming elections, we have decided to create a political pressure for the repeal of AFSPA.

In this regard, on 30th March, Save Sharmila Solidarity Campaign, AISA, AIPWA, RYA, DSF, JNUSU, NEFIS, NAPM and other like-minded groups will organize a joint march against AFSPA from Mandi House metro station to Jantar Mantar at 1 PM. After the march, there will also be a public meeting at Jantar Mantar.

For any other information, contact 9958907799, 9582129927, 8826672016

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: