Home » समाचार » एंटीबायोटिक्स जीवन तो बचाते हैं, लेकिन…

एंटीबायोटिक्स जीवन तो बचाते हैं, लेकिन…

एंटीबायोटिक्स जीवन तो बचाते हैं, लेकिन…

Antibiotics save lives, but …

नई दिल्ली, 13 नवंबर। एंटीबायोटिक्स जीवन बचाते हैं, लेकिन उनका बिना आवश्यकता और गलत उपयोग किया जाता है, तो वे एंटीबायोटिक प्रतिरोध का कारण बन सकते हैं।

एक अनुमान के मुताबिक अमेरिकी डॉक्टरों के कार्यालयों और आपातकालीन विभागों में, हर साल कम से कम 47 मिलियन एंटीबायोटिक पर्चे अनावश्यक होते हैं।

12-18 नवंबर 2018 तक विश्व एंटीबायोटिक जागरूकता सप्ताह World Antibiotic Awareness Week मनाया जा रहा है।

इस वैश्विक अभियान का उद्देश्य एंटीबायोटिक प्रतिरोध के बारे में जागरूकता बढ़ाना और सामान्य जनता, स्वास्थ्य कर्मियों और नीति निर्माताओं के बीच सर्वोत्तम प्रथाओं को प्रोत्साहित करना है ताकि आगे के एंटीबायोटिक प्रतिरोध के प्रसार व उद्भव से बचा जा सके।

एंटीबायोटिक प्रतिरोध संयुक्त राज्य अमेरिका में सबसे गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है। अध्ययन से पता चलता है कि अस्पतालों में निर्धारित एंटीबायोटिक दवाओं का 30-50% अनावश्यक या अनुचित है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इसमें कोई संदेह नहीं है कि एंटीबायोटिक्स का अनावश्यक या अतिरिक्त उपयोग क्लॉस्ट्रिडियम डिफिसाइल-Clostridium difficile और एंटीबायोटिक-प्रतिरोधी बैक्टीरिया antibiotic-resistant bacteria द्वारा उत्पन्न बढ़ती चुनौतियों में वृद्धि कर रहा है।

अध्ययनों से पता चलता है कि अस्पतालों में एंटीबायोटिक्स का प्रयोग करने में सुधार न केवल क्लॉस्ट्रिडियम डिफिसाइल संक्रमण और एंटीबायोटिक प्रतिरोध की दरों को कम करने में मदद कर सकता है, बल्कि रोगियों की स्वास्थ्य लागत को कम करने के दौरान रोगी के चिकित्सा परिणामों में भी सुधार कर सकता है।

युवा बच्चे, गर्भवती महिलाएं, बुजुर्ग वयस्क, और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों को संक्रमण का खतरा अधिक होता है।

यू.एस. स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग U.S. Department of Health & Human Services के हेल्थकेयर अनुसंधान और गुणवत्ता एजेंसी Agency for Healthcare Research and Quality ने चिकित्सकों के लिए संक्रमण की रोकथाम और एंटीमिक्राबियल स्टेवार्डशिप संसाधन साबित कर दिए हैं और अस्पतालों, दीर्घकालिक देखभाल सुविधाओं और एम्बुलरी सर्जरी केंद्रों के लिए टूलकिट प्रदान कर रहे हैं।

एंटीबायोटिक जागरूकता सप्ताह Antibiotic Awareness Week पर अमेरिकी सरकार के सेंटर्स फॉर डिसीज़ कंट्रोल एंड प्रीवेंशन ने  एंटीबायोटिक प्रतिरोध और खाद्य सुरक्षा पर कुछ सुझाव दिए हैं जैसे –

सरल खाद्य सुरक्षा युक्तियों का पालन करें,

यदि आपको दस्त या उल्टी हो तो दूसरों के लिए भोजन तैयार न करें। विशेष रूप से बच्चों, गर्भवती महिलाओं, खराब स्वास्थ्य वाले और पुराने वयस्कों के लिए भोजन तैयार करने में सावधान बरतें।

एंटीबायोटिक्स केवल तभी लें जब आवश्यकता हो।

प्रदूषित भोजन से जुड़े एंटीबायोटिक प्रतिरोधी संक्रमण के महत्व और गंभीरता को समझें।

एंटीबायोटिक क्या है

What is antibiotic

विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक दस्तावेज के मुताबिक एंटीबायोटिक दवाएं, जीवाणु संक्रमण को रोकने और इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं हैं। एंटीबायोटिक प्रतिरोध तब होता है जब इन दवाओं के उपयोग के जवाब में बैक्टीरिया अपना स्वरूप बदल जाता है।

What is Antibiotic resistance

मानव या जानवर नहीं, बल्कि बैक्टीरिया एंटीबायोटिक प्रतिरोधी बन जाते हैं। ये बैक्टीरिया मनुष्यों और जानवरों को संक्रमित कर सकते हैं, और गैर-प्रतिरोधी बैक्टीरिया के कारण होने वाले संक्रमणों के कारण उनका इलाज करना कठिन होता है। एंटीबायोटिक प्रतिरोध, एंटीबायोटिक्स के दुरुपयोग और अत्यधिक उपयोग के साथ-साथसंक्रमण की  खराब रोकथाम और नियंत्रण से भी तेज होता है।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।) 

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

<iframe width="600" height="538" src="https://www.youtube.com/embed/JMQPhfMGX0M" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

Antibiotics in Hindi, Antibiotic resistance in Hindi,

 

About हस्तक्षेप

Check Also

media

82 हजार अखबार व 300 चैनल फिर भी मीडिया से दलित गायब!

मीडिया के लिये भी बने कानून- उर्मिलेश 82 thousand newspapers and 300 channels, yet Dalit …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: