Home » Arrest of Yugal Kishore Sharan Shstri is a shame on our democracy

Arrest of Yugal Kishore Sharan Shstri is a shame on our democracy

Samajwadi party claims to be secular but its actions are very opportunist and communal
New Delhi. The UP police arrested Yugal Kishore Sharan Shstri  on 11th January.  He had planned to organize a People’s Panchayat on the issue of attack on Shrine of Sheesh Paighambar, which was attacked on 20 December 13. In this attack a student Zeeshan was killed. The police arrest of Shastriji has been made on the ground that he is ‘threat to peace and order’ in the city.

All India Secular Forum has condemned the arrest of Shastri ji. Well-known social activists L.S. Hardenia, Ram Puniyani, Irfan Engineer and Dr. Mohammad Arif said, “We understand that the arrest is the result of his sustained campaign to expose the communal elements involved in the attack of shrine of Sheesh Paighamar and murder of Syed Zeeshan alias Danish. The communal nature of UP Government is becoming more and more obvious from quite some time. Its handling of Muzzafarnangar violence and the relief has been a painful fact, it’s a shame on our democracy, Samajvadi party claims to be secular but its actions are very opportunist and communal.”

These social activists said, “Shastriji is a resident of Hanuman Garhi, Ayodhya and has been working for communal harmony. He has been promoting communal harmony by organizing Peace Yatras and local programs. We express our full solidarity with Shastriji and condemn this action of UP Government.”

About हस्तक्षेप

Check Also

भारत में 25 साल में दोगुने हो गए पक्षाघात और दिल की बीमारियों के मरीज

25 वर्षों में 50 फीसदी बढ़ गईं पक्षाघात और दिल की बीमांरियां. कुल मौतों में से 17.8 प्रतिशत हृदय रोग और 7.1 प्रतिशत पक्षाघात के कारण. Cardiovascular diseases, paralysis, heart beams, heart disease,

Bharatendu Harishchandra

अपने समय से बहुत ही आगे थे भारतेंदु, साहित्य में भी और राजनीतिक विचार में भी

विशेष आलेख गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया “आवहु …

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा: चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश

राष्ट्रीय संस्थाओं पर कब्जा : चिंतन प्रक्रिया पर हावी होने की साजिश Occupy national institutions : …

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

अच्छे नहीं, अंधेरे दिनों की आहट

मोदी सरकार के सत्ता में आते ही संघ परिवार बड़ी मुस्तैदी से अपने उन एजेंडों के साथ सामने आ रहा है, जो काफी विवादित रहे हैं, इनका सम्बन्ध इतिहास, संस्कृति, नृतत्वशास्त्र, धर्मनिरपेक्षता तथा अकादमिक जगत में खास विचारधारा से लैस लोगों की तैनाती से है।

National News

ऐसे हुई पहाड़ की एक नदी की मौत

शिप्रा नदी : पहाड़ के परम्परागत जलस्रोत ख़त्म हो रहे हैं और जंगल की कटाई के साथ अंधाधुंध निर्माण इसकी बड़ी वजह है। इस वजह से छोटी नदियों पर खतरा मंडरा रहा है।

Ganga

गंगा-एक कारपोरेट एजेंडा

जल वस्तु है, तो फिर गंगा मां कैसे हो सकती है ? गंगा रही होगी कभी स्वर्ग में ले जाने वाली धारा, साझी संस्कृति, अस्मिता और समृद्धि की प्रतीक, भारतीय पानी-पर्यावरण की नियंता, मां, वगैरह, वगैरह। ये शब्द अब पुराने पड़ चुके। गंगा, अब सिर्फ बिजली पैदा करने और पानी सेवा उद्योग का कच्चा माल है। मैला ढोने वाली मालगाड़ी है। कॉमन कमोडिटी मात्र !!

Entertainment news

Veda BF (वेडा बीएफ) पूर्ण वीडियो | Prem Kahani – Full Video

प्रेम कहानी - पूर्ण वीडियो | वेदा BF | अल्ताफ शेख, सोनम कांबले, तनवीर पटेल और दत्ता धर्मे. Prem Kahani - Full Video | Veda BF | Altaf Shaikh, Sonam Kamble, Tanveer Patel & Datta Dharme

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: